GST काउंसिल ने 80-90% वस्तुओं-सर्विस पर टैक्स दरें तय कीः दूध होगा GST से बाहर

By: एजेंसी/एबीपी न्यूज वेब डेस्क | Last Updated: Thursday, 18 May 2017 7:52 PM
GST काउंसिल ने 80-90% वस्तुओं-सर्विस पर टैक्स दरें तय कीः दूध होगा GST से बाहर

नई दिल्ली: जीएसटी काउंसिल की आज 2 दिन की बैठक जम्मू-कश्मीर में शुरू हुई जिसमें पहले दिन 80 से 90 फीसदी वस्तुओं और सेवाओं (गुड्स एंड सर्विसेज) पर टैक्स की दरों को तय कर लिया गया है. जीएसटी काउंसिल ने यहां आज शुरू अपनी 2 दिन की बैठक में प्रस्तावित जीएसटी सिस्टम में 4 स्तर की दरें रखी हैं जिनमें रोजमर्रा के इस्तेमाल की जरूरी चीजों पर 5 फीसदी की न्यूनतम दर रखी है. जीएसटी एक जुलाई से लागू किए जाने की योजना है. वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में जीएसटी काउंसिल की बैठक आज यहां शुरू हुई. परिषद में राज्यों के वित्त मंत्री शामिल हैं.

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता वाली जीएसटी काउंसिल बैठक के पहले सेशन में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स सिस्टम के तहत नियमों को भी मंजूरी दी. परिषद में सभी राज्यों के वित्त मंत्री या उनके प्रतिनिधि शामिल हैं. सूत्रों के मुताबिक 80 से 90 फीसदी वस्तुओं, सेवाओं के बारे में यह तय हो गया है कि उन्हें 5, 12, 18 और 28 फीसदी के टैक्स ढांचे में कहां रखा जाएगा.

बैठक शुरू होने से पहले केरल के वित्त मंत्री थॉमस इसाक ने जीएसटी व्यवस्था में सोने पर 5 फीसदी टैक्स लगाने का मामला उठाया. कुछ जगहों से सोने पर 1 फीसदी टैक्स लगाने की मांग की जा रही है. इसाक ने कहा कि सोना आवश्यक वस्तु नहीं है और इस पर 5 फीसदी की दर से टैक्स लगना चाहिए. वहीं योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली उत्तर प्रदेश सरकार ने पूजा सामग्री पर जीरो टैक्स की मांग की है. अभी इस पर 18 फीसदी की दर से टैक्स लगाने का प्रस्ताव है. कुछ अन्य राज्यों ने सर्विस टैक्स की दो दरें 12 और 18 फीसदी रखने की मांग की.

राजस्व सचिव हसमुख अढिया ने कहा है कि दूध को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा जाएगा और खाद्यान्न की दरें भी सस्ती होंगी. जहां हेयर ऑइल, साबुन, टूथपेस्ट पर टैक्स की दर 18 फीसदी के आसपास होगी वहीं अनाजों को टैक्स के दायरे से बाहर रखा जाएगा जो कि पहले 5 फीसदी रखने का तय किया गया था.

 


फिटमेंट इस तरीके से किया गया है कि लोगों पर नए टैक्स सिस्टम के कारण टैक्स का बोझ नहीं बढ़े. इस लिए वस्तुओं और सेवाओं को उनके ऊपर इस समय लागू उत्पाद शुल्क, वैट या सर्विस टैक्स को ध्यान में रखकर जीएसटी की विभिन्न दरों के साथ जोड़ा जा रहा है. समझा जाता है कि कल बैठक संपन्न होने के बाद तय कर दरों का पूरा ब्यौरा उपलब्ध हो पाएगा.

विभिन्न राज्यों के वित्त मंत्रियों ने रेशमी धागे, पूजा की सामग्री और हस्तशिल्प उत्पादों को जीएसटी दरों में छूट की मांग की है. हालांकि, जेटली का मानना है कि जीएसटी के तहत न्यूनतम छूट दी जानी चाहिए और यह आवश्यक होने पर ही दी जानी चाहिए.

जानिए क्या होगा GST आने के बाद?
जीएसटी राष्ट्रीय बिक्री कर होगा, जो वस्तुओं के उपभोग या सेवाओं के इस्तेमाल पर लगाया जाएगा. यह 16 मौजूदा शुल्कों और टैक्सेज का स्थान लेगा. केंद्र के स्तर पर उत्पाद शुल्क और सर्विस टैक्स इसमें शामिल होंगे, जबकि राज्यों के 9 टैक्स मसलन वैट और मनोरंजन टैक्स भी इसमें समाहित होंगे. इससे भारत एक टैक्स दर वाला एक बाजार बन जाएगा. जीएसटी के साथ भारत उन चुनिंदा देशों में शामिल हो जाएगा जहां वस्तु और सेवाकर यानी जीएसटी लागू है.

आपको बता दें कि फ्रांस ने सबसे पहले 1954 में जीएसटी को लागू किया था. उसके बाद से जर्मनी, इटली, ब्रिटेन, दक्षिण कोरिया, जापान, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया जैसे एक दर्जन से अधिक राष्ट्रों ने जीएसटी लागू किया है. चीन ने 1994 में और रूस ने 1991 में जीएसटी लागू किया. सउदी अरब की योजना इसे 2018 से लागू करने की है.

जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जे के अनुरूप जीएसटी में मदद का वादा
वहीं अरुण जेटली ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जे के अनुरूप जीएसटी में मदद का वादा किया है. केंद्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने जम्मू कश्मीर सरकार को जीएसटी क्रियान्वयन मामले में हरसंभव मदद देने का आश्वासन दिया है. राज्य को संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत मिले विशेष दर्जे का सम्मान करते हुए जीएसटी को अमल में लाते समय उसमें किसी तरह के पुनर्गठन में हर संभव मदद का आज आश्वासन दिया. एक सरकारी प्रवक्ता के अनुसार जेटली ने वादा किया कि जम्मू कश्मीर को मिले विशेष दर्जा को ध्यान में रखते हुए केंद्र वस्तु और सेवा कर :जीएसटी) को राज्य में लागू करने के लिये उसके पुनर्गठन में जो कुछ कर सकता है, करेगा.

 


First Published: Thursday, 18 May 2017 7:51 PM

Related Stories

GST के फायदे जानते हैं आप? इन वस्तुओं-सर्विसेज पर घटेगा टैक्स, होंगी सस्ती
GST के फायदे जानते हैं आप? इन वस्तुओं-सर्विसेज पर घटेगा टैक्स, होंगी सस्ती

नई दिल्लीः 1 जुलाई से देश में जीएसटी लागू होने वाला है और पूरे देश में एक टैक्स व्यवस्था हो...

IT सेक्टर में रोजगार पर ग्रहण नहीं: 2016-17 में 1.7 लाख नई नौकरियां
IT सेक्टर में रोजगार पर ग्रहण नहीं: 2016-17 में 1.7 लाख नई नौकरियां

नई दिल्लीः सरकार ने आज दावा किया कि सूचना तकनीक यानी आईटी के क्षेत्र में 3 सालों के दौरान 6 लाख नई...

पाक चौकी पर हमले की खबर से गिरा बाजारः आखिरी मिनटों में सेंसेक्स 200 अंक टूटा
पाक चौकी पर हमले की खबर से गिरा बाजारः आखिरी मिनटों में सेंसेक्स 200 अंक टूटा

नई दिल्लीः आज सुबह से भारतीय बाजार में तेजी का माहौल था लेकिन दोपहर 3 बजे के करीब भारतीय सेना के...

पूजन सामग्री पर GST नहीं: स्मार्टफोन भी नहीं होंगे महंगे
पूजन सामग्री पर GST नहीं: स्मार्टफोन भी नहीं होंगे महंगे

नई दिल्लीः सरकार ने साफ किया कि जीएसटी लागू होने के बाद हवन सामग्री समेत पूजन सामग्री पर जीएसटी...

अप्रैल में मारुति SWIFT रही सबसे ज्यादा बिकने वाली हैचबैक कार, ALTO को पीछे छोड़ा
अप्रैल में मारुति SWIFT रही सबसे ज्यादा बिकने वाली हैचबैक कार, ALTO को पीछे छोड़ा

नई दिल्ली: मारुति सुजुकी देश की सबसे ज्यादा बिकने वाली कारों की मैन्यूफैक्चर्र कंपनी है और कार...

बाजार में उछाल: सेंसेक्स 106 अंक ऊपर 30570 पर, निफ्टी 9450 के पास बंद
बाजार में उछाल: सेंसेक्स 106 अंक ऊपर 30570 पर, निफ्टी 9450 के पास बंद

नई दिल्लीः हफ्ते के पहले कारोबारी दिन आज भारतीय शेयर बाजार की चाल सुस्त पड़ गई. वैसे बाजार...

22 मई से भारतीय रेल के बेड़े में शामिल होगी तेजसः प्लेन जैसी खूबियों से लैस ट्रेन
22 मई से भारतीय रेल के बेड़े में शामिल होगी तेजसः प्लेन जैसी खूबियों से लैस...

नई दिल्लीः देश की अब तक की सबसे आधुनिक ट्रेन तेजस सोमवार से भारतीय रेल के बेड़े में शामिल हो...

मोदी सरकार के 3 सालः रोजगार के मोर्चे पर सरकार कितनी सफल?
मोदी सरकार के 3 सालः रोजगार के मोर्चे पर सरकार कितनी सफल?

नई दिल्लीः केंद्र की मोदी सरकार के 3 साल पूरे होने में बस 5 दिन बाकी हैं. विकास की राह पर ले जाकर...

सोने में फिर आई गिरावट, चांदी की चमक बढ़ी, 32,200 रुपये पर पहुंची
सोने में फिर आई गिरावट, चांदी की चमक बढ़ी, 32,200 रुपये पर पहुंची

नई दिल्ली: लगातार चढ़ने के बाद आज घरेलू सर्राफा बाजार में सोने के दाम फिर गिरे हैं. विदेशों में...

जानें- GST से कैसे बदलेगा आपका बजट, 1 जुलाई से क्या होगा सस्ता क्या होगा महंगा ?
जानें- GST से कैसे बदलेगा आपका बजट, 1 जुलाई से क्या होगा सस्ता क्या होगा महंगा ?

नई दिल्ली:  पूरे देश में जीएसटी यानी एक देश-एक बाजार की टैक्स दरें तय हो गई है. जीएसटी लागू होने...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017