रिलायंस इंडस्ट्रीज के लोन के लिए HDFC ने RBI की सीमा लांघी

By: | Last Updated: Sunday, 28 June 2015 2:18 PM

नई दिल्ली: प्राइवेट सेक्टर के बैंक एचडीएफसी ने देश की दिग्गज कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज को लोन देने के मामले में रिजर्व बैंक की single borrower (एकल कर्जदार) के लिए स्वीकृत सीमा को तोड़ दिया है. बैंक ने हालांकि कहा कि उसके निदेशक मंडल ने इस तरह के ‘अतिरिक्त लोन’ की मंजूरी दी थी और यह पूंजी कोष की 20 प्रतिशत की सीमा के दायरे में है.

 

भारतीय रिजर्व बैंक का नियम है कि कोई बैंक किसी एक इकाई को अपने पूंजी-कोष के 15 प्रतिशत और किसी एक कंपनी समूह को 40 प्रतिशत से अधिक राशि का कर्ज नहीं दे सकता.

 

आरबीआई ने अपवाद के तौर पर इस सीमा को पांच प्रतिशत तक बढाने की छूट दे रखी है पर इसके लिए निदेशक मंडल की मंजूरी की जरूरत होती है. मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज को दिए गए लोन की राशि का खुलासा नहीं करते हुए एचडीएफसी बैंक ने कहा, ‘‘31 मार्च, 2015 को समाप्त होने वाले वर्ष के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज को छोड़ कर बाकी मामलों में एकल कर्जदार या कंपनी समूहों के मामले में बैंक का लोन रिजर्व बैंक द्वारा तय सीमा में था, रिलायंस के मामले में यह सीमा टूट गयी.’’

 

आदित्य पुरी की अगुवाई वाले बैंक ने कहा कि उसने इससे पिछले वित्त वर्ष 2013-14 में इस सीमा का कोई उल्लंघन नहीं किया था. एचडीएफसी बैंक के प्रवक्ता ने बाद में कहा कि बैंक ने इस मामले में पूरी तरह नियमन के दायरे में काम किया. प्रवक्ता ने कहा कि नियामकीय दिशानिर्देश एकल उधारकर्ता के मामले में इस सीमा को 15 से 20 प्रतिशत पर ले जाने की अनुमति देते हैं. इसके लिए बोर्ड की मंजूरी जरूरी होती है और रिण लेने वाले की मंजूरी लेकर इसका खुलासा वाषिर्क रिपोर्ट में करना होता है.

 

खास बात यह है कि पूर्व में कई प्रमुख बैंकों मसलन आईसीआईसीआई बैंक व सार्वजनिक क्षेत्र के भारतीय स्टेट बैंक ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के मामले में लोन की सीमा को लांघा था. एसबीआई ने अभी 2014-15 के लिए इस तरह का खुलासा नहीं किया है.

 

 

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: HDFC breaches RBI limits on loans to Reliance
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017