जीवन बीमा कंपनियों का नया प्रीमियम अगस्त में 23% बढ़ा, 17,513 करोड़ रुपये पहुंचा

जीवन बीमा कंपनियों का नया प्रीमियम अगस्त में 23% बढ़ा, 17,513 करोड़ रुपये पहुंचा

जीवन बीमा कंपनियों के नए कारोबार से मिलने वाले प्रीमियम में इस साल अगस्त में 22.6% की बढ़त दर्ज की गई है. इस साल अगस्त में यह 17,513.44 करोड़ रुपये रहा है जबकि पिछले साल अगस्त में यह राशि 14,282.45 करोड़ रुपये थी.

By: | Updated: 14 Sep 2017 11:05 PM

नई दिल्ली: देश में धीरे-धीरे लोग लाइफ इंश्योरेंस के लिए जागरुक हो रहे हैं और इसी का नतीजा है कि पिछले साल के अगस्त के मुकाबले इस अगस्त में ज्यादा प्रीमियम इंश्योरेंस कंपनियों ने हासिल किया है.


जीवन बीमा कंपनियों के नए कारोबार से मिलने वाले प्रीमियम में इस साल अगस्त में 22.6% की बढ़त दर्ज की गई है. इस साल अगस्त में यह 17,513.44 करोड़ रुपये रहा है जबकि पिछले साल अगस्त में यह राशि 14,282.45 करोड़ रुपये थी.


भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) के आंकड़ों के अनुसार देश की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के नए कारोबार से मिलने वाले प्रीमियम में ही अकेले 25 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई और यह 13,382.30 करोड़ रुपये रहा है. इससे पिछले साल अगस्त में 10,713.55 करोड़ रुपये था.


देश में इस समय कुल 24 जीवन बीमा कंपनियां हैं जिसमें से 23 निजी क्षेत्र की हैं. निजी क्षेत्र की जीवन बीमा कंपनियों का नए कारोबार से मिलने वाला प्रीमियम अगस्त में 15.8% बढ़कर 4,131.15 करोड़ रुपये रहा है जो पिछले साल इसी अवधि में 3,568.90 करोड़ रुपये था.


मांग बढ़ने से सोना चढ़ा, 31,000 रुपये तक जा पहुंचा


2018-19 का आम बजट 1 फरवरी को ही संभव


अब गूगल से ऑनलाइन पेमेंट भीः गूगल लॉन्च करेगा मोबाइल पेमेंट सर्विस ‘तेज’

GOOD NEWS: अब सफर में आईडी प्रूफ जरूरी नहीं, ‘एम आधार’ से भी होगा काम

जेपी के घर खरीदने वालों के लिए सुप्रीम कोर्ट चिंतितः दिया बड़ा आदेश

सरकार को पेट्रोल-डीजल के भाव जल्द ही कम होने की उम्मीद, नहीं घटाएगी टैक्स

अब 100 रुपये का सिक्का जारी करेगी सरकार, जानें क्या होगा खास?

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Business News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story देश के सरकारी बैंकों के एनपीए का कितना बुरा है हाल? जानिए यहां