हम निवेश के रास्ते आने वाली अड़चनों को तेज़ी से दूर करेंगे: मोदी

By: | Last Updated: Friday, 16 January 2015 4:15 PM
modi

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में सकारात्मक नियामकीय ढांचा, कर व्यवस्था में स्थिरता और ढांचागत क्षेत्र को प्रोत्साहन के साथ सुधारों को ‘उच्चतम गति’ से आगे बढ़ाने का आज वादा किया ताकि भारतीय अर्थव्यवस्था को मौजूदा 2,000 अरब डॉलर से 20,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाया जा सके.

 

प्रधानमंत्री ने जोर दिया कि विकास के नतीजे रोजगार अवसरों के रूप में सामने दिखने चाहिए.

 

उन्होंने कहा कि सरकार नियमों में बदलाव करेगी, कर व्यवस्था में सुधार करेगी और जरूरतमंद लोगों को ध्यान में रखकर सब्सिडी प्रदान करेगी. ‘‘ एक सकारात्मक नियामकीय ढांचा, कर व्यवस्था में स्थिरता और कारोबार करना आसान बनाने को तीव्र गति से आगे बढ़ाया जा रहा है.’’

 

यहां इकोनामिक टाइम्स ग्लोबल बिजनेस समिट को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘ हम निवेश के रास्ते आने वाली विभिन्न अड़चनों को दूर कर रहे हैं. हमारी कर व्यवस्था में भारी सुधार की जरूरत है जिसकी पहल की जा चुकी है. मैं गति में विश्वास करता हूं. मैं तेज गति से व्यापक बदलाव लाऊंगा. आप आने वाले समय में इसकी सराहना करेंगे.’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि राजकाज में सुधार एक सतत प्रक्रिया है और उनकी सरकार ऐसी जगहों पर बदलाव कर रही है जहां नियम व प्रक्रियाएं आज की आवश्यकताओं के मुताबिक नहीं हैं.

 

उन्होंने कहा कि पिछले दो साल में वृद्धि दर पांच प्रतिशत से नीचे रही, राजकाज का स्तर बहुत ही नीचे चला गया था और घोटाले पर घोटाले सामने आए. अब नए युग के भारत का उदय होना शुरू हो गया है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘ हमें जो क्षति हुई है उसे ठीक करना है. आर्थिक वृद्धि में तेजी को बहाल करना कठिन कार्य है. इसके लिए बहुत बड़े प्रयास, निरंतर प्रतिबद्धता और मजबूत प्रशासनिक कार्रवाई की जरूरत है, लेकिन हमें भरोसा है कि हम निराशा की मानसिकता से उबर सकते हैं.’’ मोदी ने कहा कि तीव्र आर्थिक वृद्धि के लिए राजकाज में पारदर्शिता और कुशलता तथा संस्थागत सुधार बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ‘‘नीतियों एवं नियमों को आर्थिक वृद्धि के अनुकूल बनाने के लिए तेजी से कदम उठा रही है.’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाया जा रहा है, नए दृष्टिकोण एवं नए उपाय किए जा रहे हैं ताकि रेलवे और सड़क निर्माण जैसे क्षेत्रों में अधिक से अधिक निवेश आकर्षित किया जा सके.

 

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने एजेंडा की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए कहा कि राजकोषीय घाटे के लिए निर्धारित सीमा को भंग नहीं होने दिया जाएगा. मुद्रास्फीति पर सख्ती से अंकुश लगाया जाएगा, जीएसटी लागू किया जाएगा तथा जनधन योजना जैसे कार्यक्रमों पर अमल के जरिए गरीबों को वित्तीय प्रणाली से जोड़ा जाएगा.. तथा रूपये को अधिक उपयोगी बनाया जाएगा.

 

उन्होंने कहा, ‘‘हम बजट में घोषित राजकोषीय लक्ष्यों को हासिल करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और हम इस दिशा में व्यवस्थित ढंग से बढा रहे हैं.’’ अनावश्यक खचरें में कटौती से इसमें मदद मिलेगी.

 

उन्होंने कहा कि छोटे और बड़े कदम उठाने में कोई विरोधाभास नहीं है.

 

मोदी ने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के कंप्यूटरीकरण की विशाल योजना शुरू की जाएगी. इसमें एफसीआई के गोदामों से लेकर राशन की दुकानों और उपभोक्ताओं तक को कंप्यूटर नेटवर्क से जोड़ा जाएगा. उन्होंने कहा कि गरीबों के लिए सब्सिडी की जरूरत रहेगी लेकिन सब्सिडी के लीकेज को भी कम करने की जरूरत है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘रसोई गैस सिलेंडर पर सब्सिडी को नकद में देने का कार्यक्रम विश्व में लाभ के नकद अंतरण का सबसे बड़ा कार्यक्रम है. हम अन्य योजनाओं में भी लाभ के नकद अंतरण की योजना बना रहे हैं.’’

 

सरकार की भूमिका के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा कि रक्षा, पुलिस और न्याय व्यवस्था जैसे सार्वजनिक कार्यों की जिम्मेदारी सरकार की होती है. इसके अलावा, उस पर प्रदूषण नियंत्रण, और बाजार में एकाधिकार जैसी प्रकृतियों को रोकने की भी जिम्मेदारी है क्योंकि इनसे दूसरों को नुकसान होता है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘ हमें सक्षम, कारगर और भ्रष्टाचार मुक्त सरकार की जरूरत है. भारत इस समय 2,000 अरब डालर की अर्थव्यवस्था है. क्या हम इसे 20,000 अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने का सपना नहीं संजो सकते.’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि अर्थव्यवस्था को तीव्रता से आगे बढ़ाने के लिए शीघ्र और आसानी से होने वाले सुधारों की ही जरूरत नहीं है. सुधार अपने आप में ही सबकुछ नहीं होते. उनका ठोस उद्देश्य होना चाहिए और यह उद्देश्य जन कल्याण में सुधार वाला होना चाहिए.

 

उर्जा क्षेत्र में सुधारों पर उन्होंने कहा कि कोयला और अन्य खनिजों के आबंटन की नीलामी पर आधारित पारदर्शी व्यवस्था लागू की गई है. बिजली क्षेत्र में भी इसी तरह के सुधार किए जाएंगे ताकि सातों दिन व चौबीस घंटे बिजली सुलभ हो.

 

मोदी ने कहा कि भारत को निवेश की एक आकषर्क जगह बनाने के उपाय किए जा रहे हैं. इसी संदर्भ में उन्होंने बीमा, जमीन जायदाद, रक्षा उत्पादन और रेलवे के क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की सीमा में ढील दिए जाने का उल्लेख किया. उन्होंने कहा कि भूमि अधिग्रहण कानून में संशोधन से बुनियादी ढांचे एवं विनिर्माण उद्योग को गति देने के साथ साथ किसानों के मुआवजे के अधिकार की भी रक्षा की गई है.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: modi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

अब इन्फोसिस पर नहीं चलेगा विशाल का सिक्का, सीईओ और एमडी पद से इस्तीफा
अब इन्फोसिस पर नहीं चलेगा विशाल का सिक्का, सीईओ और एमडी पद से इस्तीफा

भारत की दूसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा कंपनी इन्फोसिस के सीईओ और एमडी विशाल सिक्का ने अपने...

2 बैंकों ने दिया ग्राहकों को झटकाः घटा दी सेविंग खातों पर ब्याज दरें
2 बैंकों ने दिया ग्राहकों को झटकाः घटा दी सेविंग खातों पर ब्याज दरें

नई दिल्लीः अब बैंक भी ब्याज दरें घटाकर ग्राहकों को झटका दे रहे हैं. आज देश के दूसरे सबसे बड़े...

दिवालियेपन के कगार पर पहुंची जेपी इंफ्रा के घर खरीदारों के लिए दावा ठोकना हुआ आसान
दिवालियेपन के कगार पर पहुंची जेपी इंफ्रा के घर खरीदारों के लिए दावा ठोकना...

नई दिल्लीः जेपी इंफ्राटेक की परियोजनाओं में घर के लिए पैसा लगाने के लिए राहत की खबर. सरकार ने...

19 अगस्त से जयपुर में ऑनलाइन होंगे सभी वाहन प्रदूषण जांच केन्द्र
19 अगस्त से जयपुर में ऑनलाइन होंगे सभी वाहन प्रदूषण जांच केन्द्र

नई दिल्ली: देश में प्रदूषण नियंत्रण के मुद्दे पर जयपुर में नागरिकों को बड़ी सुविधा मिलने वाली...

निफ्टी 9900 के ऊपर बंद होने में कामयाब, सेंसेक्स 25 अंक ऊपर बंद
निफ्टी 9900 के ऊपर बंद होने में कामयाब, सेंसेक्स 25 अंक ऊपर बंद

नई दिल्लीः घरेलू शेयर बाजार की चाल आज सपाट रही है. ग्लोबल बाजारों से मिलेजुले संकेतों का असर...

GST के बाद रेंस्टोरेंट बिल में दिख रहे हैं SGST, CGST अलग-अलगः जानें क्यों
GST के बाद रेंस्टोरेंट बिल में दिख रहे हैं SGST, CGST अलग-अलगः जानें क्यों

नई दिल्लीः जैसा कि आप जानते ही हैं कि 1 जुलाई से जीएसटी लागू हो चुका है यानी एक देश-एक टैक्स की...

सेंसेक्स में 300 अंकों का शानदार उछाल, निफ्टी फिर 10,000 के करीब
सेंसेक्स में 300 अंकों का शानदार उछाल, निफ्टी फिर 10,000 के करीब

नई दिल्लीः आज शेयर बाजार में शानदार उछाल के साथ कारोबार बंद हुआ है. सेंसेक्स और निफ्टी दोनों...

जेपी विवाद पर बोले वित्त मंत्री: 'जिन लोगों ने पैसा लगाया है, उन्हें फ्लैट मिलना चाहिए'
जेपी विवाद पर बोले वित्त मंत्री: 'जिन लोगों ने पैसा लगाया है, उन्हें फ्लैट...

नई दिल्लीः एनसीआर में जेपी इंफ्राटेक के प्रोजेक्ट्स में घर खरीदारों के लिए थोड़ी राहत की किरण...

हिमाचल के लोगों को तोहफाः सरकार ने डीए में 4 फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान किया
हिमाचल के लोगों को तोहफाः सरकार ने डीए में 4 फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान किया

हिमाचल: हिमाचल प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों को आज राज्य सरकार ने तोहफा दिया है. हिमाचल प्रदेश...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017