भारत में फेल हो जाएंगे ज्यादातर स्टार्ट अप

By: | Last Updated: Monday, 26 October 2015 5:29 AM
most of the start ups will be unsuccessful says mohandas pai

नई दिल्ली: भारत में स्टार्ट अप के लिए तेजी से माहौल तैयार किया जा रहा है. लेकिन इनफ़ोसिस के पूर्व निदेशक मोहनदास पई के अनुसार नई पीढ़ी की केवल 10 प्रतिशत कंपनियां ही इसमें सफल रहेंगी. बाकी ज्यादातर कंपनियां असफल हो जाएंगी.

 

पई का मानना है कि अगर सरकार इन स्टार्ट अप के लिए अनुकूल नीतिगत माहौल तैयार  करे तो ये देश में रोजगार के  नए अवसर पैदा करने में मुख्य भूमिका निभा सकती हैं.

 

पई ने कहा,”लगभग 10 प्रतिशत स्टार्ट अप बढ़िया काम करेंगी, 25 प्रतिशत ठीक-ठाक काम करेंगी और बाकी असफल हो जाएंगी.”

 

पई ने ये भी कहा कि,” यदि पीएम नरेंद्र मोदी कि डिजिटल इंडिया की पहल सफल होती है तो अगले 10  सालों में एक लाख से अधिक स्टार्ट अप्स के साथ करीब 35 लाख लोगों के लिए रोजगार के अवसर तैयार होंगे और बाजार लगभग 500 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा.”

 

उन्होंने कहा, ”डिजिटल इंडिया भारत के बदलाव के लिए सबसे बड़ा प्रयोग है. इस पहल के सफल होने के लिए ज्यादातर भारतीयों को बेतार के उपकरणों से जोड़ा जाना चाहिए और कक्षा छह या इससे ऊपर के विद्यार्थियों को एक टैब के साथ इंटरनेट कनेक्शन उपलब्ध कराया जाना चाहिए. यदि ऐसा होता है तो अगले 15 साल में भारत की तस्वीर बदल जाएगी.

 

पई ने इस बात पर जोर दिया कि सरकार को स्टार्ट अप पॉलिसी की नीति को ब्योरे वार तैयार करना होगा. उन्होंने कहा कि,”राजस्थान, कर्नाटक और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों ने अपनी स्टार्ट अप पॉलिसी तैयार करना शुरू कर दिया है, उनके साथ हम काम भी कर रहे हैं. मैं जरूरतों की लिस्ट तैयार कर तीव्र नीति परिवर्तन की आशा करता हूं जिसमें टैक्स के मुद्दों पर अवश्य ध्यान दिया गया हो.”

 

पई ने कहा कि वे स्टार्ट वैल्यू को लेकर बेहद आशावादी हैं. वे आईटी इंडस्ट्री का उदाहरण देते हुए बताते हैं, ”आज भारतीय आईटी कम्पनियां अमेरिका और यूरोप की समस्याओं को हल कर रही हैं. इसी प्रकार स्टार्ट अप हमारी घरेलू इंडस्ट्री की समस्याओं को हल कर सकता है.”

 

पई के मुताबिक 2030 तक भारतीय अर्थव्यवस्था 10 ट्रिलियन डॉलर की हो जाएगी, और ये बड़ी ग्रोथ इन्टरप्रेन्योरशिप से आएगी.

 

आईटी इंडस्ट्री की एक हलिया रिपोर्ट के मुताबिक ग्लोबल स्टार्ट अप इकोसिस्टम की रैंकिंग में 4,200 से ज्यादा नई कम्पनियों के साथ भारत तीसरे नंबर पर है.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: most of the start ups will be unsuccessful says mohandas pai
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017