मोबाइल से पेमेंट की प्रक्रिया को और सरल बनाने की योजना बना रहा है एमपीएफआई । MPFI is planning to simplify payment process from mobile

मोबाइल से पेमेंट की प्रक्रिया को और सरल बनाने की योजना बना रहा है एमपीएफआई

डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए स्थापित संगठन मोबाइल पेमेंट फोरम ऑफ इंडिया (एमपीएफआई) आवाज आधारित प्रमाणन समेत कई सुविधाजनक फीचर लाने वाला है.

By: | Updated: 29 Oct 2017 05:43 PM
MPFI is planning to simplify payment process from mobile

चेन्नई: डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए स्थापित संगठन मोबाइल पेमेंट फोरम ऑफ इंडिया (एमपीएफआई) आवाज आधारित प्रमाणन समेत कई सुविधाजनक फीचर लाने वाला है. इस फोरम का गठन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मद्रास और बैंकिंग प्राद्योगिकी पर काम करने वाली हैदराबाद की संस्था इंस्टिट्यूट फार डेवलपमेंट एंड रिसर्च इन बैंकिंग टेक्नोलाजी ने मिल कर किया है.


एमपीएफआई के चेयरमैन गौरव रैना ने कहा, ''एमपीएफआई आवाज आधारित प्रमाणन, सुरक्षा एवं निजता सुविधा जैसे कई भविष्य के हल पर ध्यान केंद्रित कर रहा है.'' आईआईटी मद्रास के प्रोफैसर रैना ने पीटीआई भाषा से कहा कि आने वाले महीनों में लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाने, एसएमएस बैंकिंग के लिए संदेशों का फॉर्मेट आसान बनाने, नियर फील्ड कम्यूनिकेशन (एनएफसी), प्रॉक्सिमिटी पेमेंट आदि पर भी ध्यान दिया जाएगा.


उन्होंने आगे कहा, ''हर किसी के पास स्मार्टफोन नहीं है. नेटवर्क बेहतर हो रहा है पर यह कई बार खराब हो सकता है. पर एसएमएस कम से कम आधारभूत वित्तीय सेवाओं का एक माध्यम हो सकता है. इसे बढ़ावा देने और इसके मानकीकरण की जरूरत है.'' रैना ने उदाहरण के तौर पर कहा कि खाते की राशि संबंधी उद्देश्यों के लिए सभी बैंकों में एक मास्टरकोड का इस्तेमाल किया जा सकता है.


आवाज आधारित प्रमाणन के बारे में उन्होंने कहा, ऐसा माना जा रहा है कि वित्तीय लेन-देन के संबंध में साक्षरता का एक तय स्तर है पर उद्देश्य इसे अधिक से अधिक लोगों के लिए आसान बनाना है. उन्होंने आगे कहा, उम्रदराज लोग अन्य किस्म की प्रौद्योगिकी के प्रति सहज नहीं हो सकते हैं. उन्होंने कहा, ''तो क्या हम एक ऐसी कल्पना नहीं कर सकते हैं जहां बैंकिंग में आवाज की महत्वपूर्ण भूमिका हो.''


रैना ने कहा कि एमपीएफआई आने वाले वर्षों में इस तरह के फीचर विकसित करने पर ध्यान देगा. आंकड़े पेश करते हुए उन्होंने कहा कि सिर्फ अगस्त 2017 में ही आईएमपीएस और यूपीआई का इस्तेमाल करते हुए नौ करोड़ से अधिक लेन-देन किये गये हैं. वित्त वर्ष 2016-17 में आईएमपीएस के जरिये 50 करोड़ लेन-देन किये गये थे. उन्होंने कहा, ''वृद्धि के ये आंकड़े भारतीय अर्थव्यवस्था में मोबाइल भुगतान की बेहतरीन संभावनाओं के संकेतक हैं.''

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: MPFI is planning to simplify payment process from mobile
Read all latest Business News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गुजरात चुनावों के एक्जिट पोल की उम्मीद में शेयर बाजार चमका