एमटीएस का दावा 9.8 एमबीपीएस का, कोर्ट ने कहा- उपकरण ले कर आएं

By: | Last Updated: Friday, 12 December 2014 3:14 PM

नई दिल्ली: दिल्ली हाई कोर्ट ने एमटीएस ब्रांड नाम से उच्च गति की इंटरनेट सेवा उपलब्ध कराने वाली सिस्तेमा श्याम टेलीसर्विसेज को 9.8 एमबीपीएस तक की इंटरनेट स्पीड के कंपनी के दावे की जांच के लिए सोमवार को अपने ‘उपकरण’ लाने को कहा है.

 

जस्टिस विभू बखरू ने महसूस किया कि 9.8 मेगाबिट्स प्रति सेकेंड (एमबीपीएस) की स्पीड उपलब्ध कराने के सिस्तेमा के विज्ञापन को ‘भ्रामक’ करार देने का भारतीय विज्ञापन मानक परिषद (एएससीआई) का कदम ‘सही’ था जिसके बाद उन्होंने यह कवायद की.

 

न्यायधीश ने कहा, ‘‘ मुझे लगता है कि वे (एएससीआई) सही हैं. 9.8 एमबीपीएस की स्पीड केवल परीक्षण की स्थितियों में उपलब्ध होती है.’’ उन्होंने अदालत परिसर में स्पीड का परीक्षण करने के लिए कंपनी को दोपहर भोजन बाद अपने उपकरण लाने को कहा.

 

कंपनी ने अदालत के समक्ष दलील दी कि वह 9.8 एमबीपीएस ‘तक’ की स्पीड उपलब्ध कराने का दावा करती है.

 

इसके जवाब में अदालत ने कहा, ‘‘ इसी तरह से भ्रामक विज्ञापन बनाए जाते हैं.’’ अदालत का यह आदेश उस याचिका पर आया जिसके जरिए कंपनी ने एएससीआई के आदेश को चुनौती दी है.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: mts
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017