ऑनलाइन की रही दिवाली, ऑफलाइन में ठंडा रहा कारोबार

By: | Last Updated: Saturday, 25 October 2014 10:16 AM
online_offline_market_diwali

नयी दिल्ली: ऑनलाइन खुदरा बिक्री का जोर रहने से इस बार परंपरागत खुदरा कारोबारियों की दिवाली कुछ ठंडी रही. एक व्यापारिक संगठन के मोटे अनुमान के अनुसार ई-कामर्स का जोर रहने से पिछले साल के मुकाबले इस बार दुकानों, थोक बाजारों में बिक्री 40 प्रतिशत कम रही.

 

थोक एवं खुदरा व्यापारियों की अखिल भारतीय संस्था ‘कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने बताया कि इस बार त्योहारी मौसम में दिल्ली में ऑफलाइन बिक्री पिछले साल के मुकाबले 40 प्रतिशत कम रही.

 

उन्होंने कहा, ‘‘ऑनलाइन खुदरा ‘सेल और महासेल’ से परंपरागत खुदरा कारोबारी हैरान परेशान हैं और इस तरह की महासेल के खिलाफ 31 अक्तूबर से देश भर में धरना प्रदर्शन करने का भी फैसला किया है. वहीं जिन कंपनियों का माल ऑनलाइन में सस्ता और ऑफलाइन में महंगा बिक रहा है, उन कंपनियों के प्रमुखों के साथ भी बैठक करने का फैसला किया है.

 

व्यापारी जानना चाहते हैं कि वही माल ऑनलाइन में इतना सस्ता कैसे बिक रहा है.’’ खंडेलवाल ने कहा ‘‘मोबाइल, टीवी, फ्रिज के अलावा सौंदर्य प्रसाधन, उपहार, तमाम इलेक्ट्रानिक वस्तुएं, रेडीमेड कपड़े और घड़ियां आदि ऐसे सामान रहे जिनका ऑनलाइन बिक्री का जोर रहा. इनमें मोटे तौर पर पिछले साल जहां 1,000 करोड़ का कारोबार हुआ वहीं इस साल यह खुदरा बाजारों में घटकर 600 करोड़ रूपये रह गया.’

 

कैट के अध्यक्ष बी.सी. भरतिया के अनुसार आम उपभोक्ताओं से जुड़े करीब 24 उपभोक्ता सामान हैं जिनमें कंप्यूटर नेटवर्क के जरिये ऑनलाइन कारोबार अधिक हो रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘हमने सरकार से ऑनलाइन पोर्टलों को नियमन के दायरे में लाने की मांग की है. हमारी मांग है कि समूचे खुदरा कारोबार के लिये एक नियमन प्राधिकरण बनना चाहिये, ताकि सभी क्षेत्रों पर नजर रखी जा सके और स्वस्थ प्रतिस्पर्धा हो.’’

 

भरतिया ने कहा कि यह शोध का विषय है कि एक कंपनी का माल ऑनलाइन खुदरा में सस्ता बिक रहा है जबकि उसी कंपनी का वही ब्रांड बाजार में महंगा है. ऑनलाइन और ऑफलाइन में मूल्य का भारी अंतर समझ से परे है.

 

उल्लेखनीय है कि फ्लिपकार्ट, स्नैपडील, मायंत्रा और अमेजन डॉट कॉम जैसे ऑनलाइन बिक्री पोर्टलों ने महासेल, बिग-बिलियन-डे सेल धमाका का आयोजन किया, जिसमें कई ब्रांडेड उत्पादों को काफी सस्ते दाम पर बेचा गया जिसमें करोड़ों रूपये की बिक्री हुई और कई उत्पाद हाथों हाथ बिक गये.

 

खंडलेवाल ने बताया कि बेलगाम ऑनलाइन कारोबार के खिलाफ देशभर में व्यापारी 31 अक्तूबर को धरना प्रदर्शन करेंगे और इसके नियमन की मांग करेंगे. पांच दिसंबर को कुछ प्रमुख कंपनियों के सीईओ के साथ बैठक होगी जिसमें उनसे यह जानने का प्रयास किया जायेगा की ऑनलाइन बिक्री में उनके उत्पाद इतने सस्ते कैसे बिक रहे हैं.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: online_offline_market_diwali
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: diwali FlipKart market offline online
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017