फ्लिपकार्ट जैसे ऑनलाइन रिटेलर्स के खिलाफ CCI का दरवाजा खटखटा सकते हैं किशोर बियानी

By: | Last Updated: Tuesday, 7 October 2014 9:01 AM
pantaloon’s biyani questions flipkart’s big billion day sale

नई दिल्ली: फ्लिपकार्ट के ‘बिग बिलियन डे’ सेल से जुड़े विवाद थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. अभी सस्ते दाम पर मिल रही चीजों के ऑउट ऑफ स्टॉक होने और फ्लिकार्ट की साइट पर आ रही स्पीड से लेकर बुकिंग तक कि दिक्कत को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा थमा नहीं था कि रेडिमेड कपड़ों के निर्माता पैंटालून ने फ्लिपकार्ट पर सवाल उठाया है कि मंत्रा (जिसे फ्लिपकार्ट ने खरीद लिया है) कैसे इतने सस्ते दाम पर उनके कपड़े बेच सकता है?

 

firstpost.com में छपी खबरे के मुताबिक पैंटालून के किशोर बियानी से सवाल उठाए हैं कि ये ऑनलाइन जॉयट ऐसे कैसे कर सकते है? इनपर कंपटीशन की भावना के खिलाफ जाकर काम करने का मामला बनता है. दिल्ली के तमाम अख़बारों के पहले पन्ने पर छपे एड में यह बात प्रचारित की गई है कि मंत्रा पर कपड़ों की खरीद पर फ्लैट 50% की छूट है. इससे उम्मीद लगाई जा रही है कि  Jabong जैसी रिटेल साइट्स भी इस बिक्री में कूदेंगी.

 

सूत्रों के हवाले से ख़बर आई है कि पैंटालूंस जैसे और ब्रैंड्स जो फ्लिपकार्ट जैसे ऑनलाइन रिटेलर्स को अपना सामान बेचते है, एक दूसरे से इस बारे में चर्चा की है. वो सभी इन ऑनलाइन रिटेलर्स द्वारा दिए जा रहे भारी डिस्काउंट से बहुत दुखी है. ऐसी संभावना जताई जा रही है कि वो प्रतिस्पर्धा आयोग (Competition Commission of India) का दरवाजा खटखटा सकते है. पैंटालूंस के बियानी का कहना है कि देश का कानून आपको इसकी इजाजत नहीं देता कि आप किसी चीज को उसके उत्पादन में लगी कीमत से कम कीमत में बेचें. फिर ऑनलाइन रिटेलर्स ऐसा कैसे कर सकते हैं.

अभी तक उन्होंने यह साफ नहीं किया कि इस लेकर वो प्रतिस्पर्धा आयोग जाएंगे या नहीं. इससे एक बात साफ हुई है कि ऐसे रिटेलर्स ऑनलाइन रिटेलर्स के खिलाफ एकजुट होकर मोर्चा खोलने वाले हैं. ऐसे ही एक रिटेलर ने शक जताते हुए कहा है कि फ्लिपकार्ट ने जो 600 करोड़ की बिक्री का आंकड़ा दिया है वह गलत हो सकता है और इस ऑनलाइन रिटेलर ने इसका 10% भी नहीं कमाया होगा. स्नैपडील के  कुणाल भल का दावा है कि उनकी साइट पर कल हर एक मिनट में एक करोड़ का सामान बिक रहा था.

 

बिग बिलियन डे ऑफर में फ्लिपकार्ट 70 प्रोडक्ट्स पर डिस्काउंट ऑफर दे रहा था और इस ऑफर में कई उत्पाद अपनी कीमत के दसवें हिस्से की कीमत में मिल रहे थे. इसको ऐसे समझ सकते है कि कई सारी चीजें जिनकी कीमत 5000 रुपए थी वो 500 रुपए में मिल रही थीं. बाद में तुरंत स्नैपडील और अमेजन भी फ्लिपकार्ट द्वारा दिए जा रहे हर एक ऑफर पर उसे टक्कर देने लगे.

 

कांफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के प्रवीण खंडेलवाल बियानी के बात से सहमत हैं और इस मामले को उन्होंने वाणिज्य मंत्रालय में उठाया है. इस सेल के बाद बनी स्थितियों से निपटने के लिए खंडेलवाल ने एक कानून की मांग की है जो कि ऑनलाइन रिटेलर्स को ऐसा करने से रोक सके. शोरूम से अपने उत्पाद बेचने वाले रिटेलर्स का विरोध दो बातों को लेकर है:

 

1. इससे उनके बिजनेस को घाटा होगा और उन्हें डर है कि ऐसे सेल्स अब तेजी से अपनी जगह बनाएंगे

2. उन्हें यह भी लगता है कि उनके ब्रांड्स जिन्हें बनाने में उन्हें सालों का समय लग, उन ब्रांड्स की छवि को भी आने वाले समय में सस्ता बेचे जाने के कारण धक्का लगेगा.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: pantaloon’s biyani questions flipkart’s big billion day sale
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017