बैंकों में सरकारी हिस्सेदारी की बिक्री बेसल-3 नियमों के लिये पर्याप्त नहीं: आरबीआई

By: | Last Updated: Saturday, 10 January 2015 11:41 AM

कोलकाता: भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने आज कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में सरकारी हिस्सेदारी की बिक्री बेसल-3 के पूंजी पर्याप्तता मानदंडों को पूरा करने के लिये काफी नहीं होगी. रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर आर. गांधी ने बंगाल उद्योग मंडल की बैठक में कहा ‘‘हाल ही में यह रिपोर्ट आई है कि सरकार सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में अपनी हिस्सेदारी घटाकर 52 प्रतिशत करने पर विचार कर रही है.’’ गांधी ने कहा ‘‘यह राशि बेसल-3 मानदंडों के तहत पूंजी जरूरतों को पूरा करने के लिए शायद पर्याप्त न हो क्योंकि ये अनुमान न्यूनतम आवश्यकता पर आधारित हैं.’’ उन्होंने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को अगले पांच साल में पूंजी जुटाने की स्पष्ट योजना तैयार करनी होगी.

 

गांधी ने कहा ‘‘उन्हें (बैंकों को) बिना-मताधिकार वाली शेयर पूंजी, अलग तरह के मताधिकार वाली पूंजी और विशेष मताधिकार (गोल्डन वोटिंग राइट) वाली शेयर पूंजी जैसे विभिन्न विकल्पों पर सक्रियता से विचार करना चाहिए.’’ बैंकों को टीयर-एक पूंजी के तहत लगभग 4.50 लाख करोड़ रूपए की जरूरत होगी जिसमें से बैंकों को 2.40 लाख करोड़ रूपए की शेयर पूंजी की जरूरत होगी.

 

गांधी ने कहा कि बैंकों को टीयर-दो पूंजी जुटाने के लिये दीर्घकालिक बॉंड जारी करने चाहिये.

 

बैंकों में एनपीए के स्तर के बारे में गांधी ने कहा ‘‘हम इरादतन चूककर्ताओं से निपटने के लिए लगातार नए तरीके लाने की कोशिश कर रहे हैं. इस मामले में बैंकों की मदद के लिए सुधार होंेगे.’’ उन्होंने, हालांकि, कहा कि बैंकों को एक कारगर जोखिम प्रबंधन प्रणाली विकसित करनी होगी ताकि ऐसी समस्याओं से बचा जा सके. उन्हें किसी खास क्षेत्र को ही अधिक कर्ज देने के बजाय संतुलित पोर्टफोलियो रखने की कोशिश करनी चाहिए.

 

बैंकों के विलय के संबंध में उन्होंने कहा इस पर सिर्फ उन्हें ही विभिन्न कारकों को ध्यान में रखकर विचार करना चाहिए. उन पर बाहर से, मसलन सरकार की ओर से फैसला लादा नहीं जाना चाहिए.

 

गांधी ने कहा ‘‘यदि कोई विलय व्यावसायिक लिहाज से व्यवहारिक पाया जाता है तो यह मजबूत होगा.’’ उन्होंने कहा कि गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) को बैंकों को प्रतिद्वंद्वी नहीं माना जाना चाहिए. इन इकाइयों में बैंकों के मुकाबले जोखिम उठाने की ज्यादा प्रवृति होती और ये इकाइयां नियामक के पास लघु रिण बैंक के लिए आवेदन कर सकते हैं.

 

गांधी ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक को अब पेशेवराना तरीके से प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार किया जा रहा है क्योंकि उन्हें वाणिज्यिक फैसले करने के संबंध में स्वायत्तता प्रदान करने का आश्वासन दिया गया है.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: rbi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

विशाल सिक्का का इंफोसिस के एमडी-सीईओ पद से इस्तीफा, शेयर 7% तक टूटे
विशाल सिक्का का इंफोसिस के एमडी-सीईओ पद से इस्तीफा, शेयर 7% तक टूटे

भारत की दूसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा कंपनी इन्फोसिस के सीईओ और एमडी विशाल सिक्का ने अपने...

2 बैंकों ने दिया ग्राहकों को झटकाः घटा दी सेविंग खातों पर ब्याज दरें
2 बैंकों ने दिया ग्राहकों को झटकाः घटा दी सेविंग खातों पर ब्याज दरें

नई दिल्लीः अब बैंक भी ब्याज दरें घटाकर ग्राहकों को झटका दे रहे हैं. आज देश के दूसरे सबसे बड़े...

दिवालियेपन के कगार पर पहुंची जेपी इंफ्रा के घर खरीदारों के लिए दावा ठोकना हुआ आसान
दिवालियेपन के कगार पर पहुंची जेपी इंफ्रा के घर खरीदारों के लिए दावा ठोकना...

नई दिल्लीः जेपी इंफ्राटेक की परियोजनाओं में घर के लिए पैसा लगाने के लिए राहत की खबर. सरकार ने...

19 अगस्त से जयपुर में ऑनलाइन होंगे सभी वाहन प्रदूषण जांच केन्द्र
19 अगस्त से जयपुर में ऑनलाइन होंगे सभी वाहन प्रदूषण जांच केन्द्र

नई दिल्ली: देश में प्रदूषण नियंत्रण के मुद्दे पर जयपुर में नागरिकों को बड़ी सुविधा मिलने वाली...

निफ्टी 9900 के ऊपर बंद होने में कामयाब, सेंसेक्स 25 अंक ऊपर बंद
निफ्टी 9900 के ऊपर बंद होने में कामयाब, सेंसेक्स 25 अंक ऊपर बंद

नई दिल्लीः घरेलू शेयर बाजार की चाल आज सपाट रही है. ग्लोबल बाजारों से मिलेजुले संकेतों का असर...

GST के बाद रेंस्टोरेंट बिल में दिख रहे हैं SGST, CGST अलग-अलगः जानें क्यों
GST के बाद रेंस्टोरेंट बिल में दिख रहे हैं SGST, CGST अलग-अलगः जानें क्यों

नई दिल्लीः जैसा कि आप जानते ही हैं कि 1 जुलाई से जीएसटी लागू हो चुका है यानी एक देश-एक टैक्स की...

सेंसेक्स में 300 अंकों का शानदार उछाल, निफ्टी फिर 10,000 के करीब
सेंसेक्स में 300 अंकों का शानदार उछाल, निफ्टी फिर 10,000 के करीब

नई दिल्लीः आज शेयर बाजार में शानदार उछाल के साथ कारोबार बंद हुआ है. सेंसेक्स और निफ्टी दोनों...

जेपी विवाद पर बोले वित्त मंत्री: 'जिन लोगों ने पैसा लगाया है, उन्हें फ्लैट मिलना चाहिए'
जेपी विवाद पर बोले वित्त मंत्री: 'जिन लोगों ने पैसा लगाया है, उन्हें फ्लैट...

नई दिल्लीः एनसीआर में जेपी इंफ्राटेक के प्रोजेक्ट्स में घर खरीदारों के लिए थोड़ी राहत की किरण...

हिमाचल के लोगों को तोहफाः सरकार ने डीए में 4 फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान किया
हिमाचल के लोगों को तोहफाः सरकार ने डीए में 4 फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान किया

हिमाचल: हिमाचल प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों को आज राज्य सरकार ने तोहफा दिया है. हिमाचल प्रदेश...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017