क्यों लुढ़क रहा है रुपया?

By: | Last Updated: Thursday, 7 May 2015 4:16 PM
rupees_dollar

नई दिल्ली: लगातार गिर रहा रुपया अब 20 महीने के निचले स्तर तक लुढ़क गया है और डॉलर 64 रुपये के भी पार चला गया है. 20 महीने मतलब मोदी सरकार के 12 महीने से भी 8 महीने पहले के निचले स्तर पर जब तब पीएम पद के दावेदार मोदी रुपये की कमजोरी को यूपीए की कमजोरी बताते थे.

आपको बता दें कि हकीकत ये है कि अब रुपया उससे भी नीचे चला गया है और इसकी वजह यह है कि डॉलर लगातार देश से बाहर जा रहा हैं. केवल इतना ही नहीं भारत के शेयर बाजार और बॉन्ड बाजार में विदेशी संस्थागत निवेशक खरीद नहीं रहे बल्कि बड़ी तादाद में रोजाना बेच रहे हैं.

 

डॉलर के मुकाबले रुपये के मूल्य में दर्ज की गई गिरावट 

कुछ ही दिनों में निफ्टी 9000 के स्तर से 8000 के आसपास आ गया है. बीएसई का सेंसेक्स 118 अंक लुढ़कक 26599 पर बंद हुआ तो एनएसई का  निफ्टी 40 अंक  गिरकर 8057 पर बंद हुआ.

 

इसकी एक वजह ये भी बताई जा रही है कि विदेशी निवेशकों को लग रहा है कि सरकार पिछले बरसों में हो चुके कारोबार पर भी टैक्स मांग लेगी, तो चलो निकलो भारत से, कहीं और निवेश करते हैं.  दूसरा आकलन ये है कि विदेशी निवेशकों को लग रहा है कि भारत में कुछ खास आर्थिक सुधार होने वाले नहीं बस हवा-हवाई घोषणाएं होंगी इसलिए यहां डॉलर कोई लगा नहीं रहा.

 

वहीं इसकी तीसरी वजह ये बताई जा रही है कि कच्चा तेल फिर महंगा हो रहा है तो उसके लिए डॉलर चाहिए होंगे. जबकि चौथी वजह बॉन्ड बाजार में भारी बिकवाली मानी जा रही है. मतलब डॉलर बाहर जाने के नए-नए रास्ते खुल रहे हैं और डॉलर आने का माहौल नहीं बन रहा. डॉलर आएंगे या तो निवेश से, या एक्सपोर्ट से, और दोनों ही ठंडे पड़े हैं.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: rupees_dollar
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: business dollar India market rupees
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017