साप्ताहिक समीक्षा: सेंसेक्स, निफ्टी में 1 फीसदी गिरावट

By: | Last Updated: Saturday, 11 October 2014 4:48 PM

मुंबई: देश के शेयर बाजारों में इस सप्ताह प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी में एक फीसदी गिरावट रही. बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सप्ताह 1.02 फीसदी या 270.61 अंकों की गिरावट के साथ शुक्रवार को 26,297.38 पर बंद हुआ.

 

 इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 1.08 फीसदी या 85.6 अंकों की गिरावट के साथ 7,859.95 पर बंद हुआ.

 

पिछले सप्ताह सिर्फ चार दिन ही कारोबारी सत्र संचालित हुए. बाजार सोमवार को ईद-उल-अजहा के मौके पर बंद रहे. इससे पिछले सप्ताह भी बाजार गुरुवार और शुक्रवार को क्रमश: महात्मा गांधी जयंती और विजयदशमी के अवसर पर बंद थे.

 

सेंसेक्स के 30 शेयरों में से पिछले सप्ताह 11 में तेजी रही. भेल (10.62 फीसदी), रिलायंस इंडस्ट्रीज (3.61 फीसदी), आईसीआईसीआई बैंक (2.21 फीसदी), टाटा पावर (2.16 फीसदी) और एनटीपीसी (1.62 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही.

 

सेंसेक्स में गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे सेसा स्टर्लाइट (7.72 फीसदी), डॉ. रेड्डीज लैब (6.33 फीसदी), एमएंडएम (5.19 फीसदी), विप्रो (5.04 फीसदी) और सिप्ला (4.99 फीसदी).

 

गत सप्ताह मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट रही. मिडकैप 0.70 फीसदी या 66.99 अंकों की गिरावट के साथ 9,444.41 पर बंद हुआ. स्मॉलकैप 0.29 फीसदी या 30.82 अंकों की गिरावट के साथ 10,611.10 पर बंद हुआ.

 

पिछले सप्ताह के प्रमुख घटनाक्रमों में अंतर्राष्ट्रीय कच्चे तेल के मूल्य में काफी गिरावट दर्ज की गई. यह गिरावट इस अनुमान के कारण हुई कि तेल की बढ़ती आपूर्ति सुस्त अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक स्थिति में मांग को पूरा करने के लिए काफी होगी. तेल की कीमत घटने से देश को वित्तीय घाटा, चालू खाता घाटा और महंगाई दर कम करने में मदद मिलेगी. उल्लेखनीय है कि देश को अपने समग्र कच्चे तेल की जरूरत के 80 फीसदी हिस्से को आयात से पूरा करना पड़ता है.

 

अमेरिका के केंद्रीय बैंक फेडरल बैंक की नीति निर्मात्री समिति फेडरल ओपेन मार्केट कमेटी (एफओएमसी) की 16-17 सितंबर को हुई बैठक की चर्चा के आठ अक्टूबर को जारी ब्यौरे के मुताबिक बैंक की ब्याज दर अभी लंबे समय तक शून्य के करीब बनी रहेगी. बैंक अगली दो दिवसीय बैठक 28 अक्टूबर को करेगा.

 

इस बीच अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने 2015 में वैश्विक आर्थिक विकास दर के अपने अनुमान को घटा दिया है और कहा कि दुनियाभर में शेयर बाजार में गिरावट दर्ज की जा सकती है, क्योंकि यह गुब्बारे की तरह फूल गया है.

 

आईएमएफ ने कहा कि अगले वर्ष अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक विकास दर 3.8 फीसदी रहेगी. आईएमएफ ने पहले 4 फीसदी विकास दर का अनुमान दिया था. आईएमएफ के मुताबिक 2014 में विकास दर 3.3 फीसदी रहेगी.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sensex nifty week review
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: nifty sensex week review
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017