शेयर बाजारों में भारी गिरावट, सेंसेक्स 245 अंक नीचे

शेयर बाजारों में भारी गिरावट, सेंसेक्स 245 अंक नीचे

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

मुंबई: देश के शेयर बाजारों में बुधवार को गिरावट दर्ज की गई. प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 244.75 अंकों की गिरावट के साथ 28,799.69 पर और निफ्टी 83.80 अंकों की गिरावट के साथ 8,750.20 पर बंद हुआ.

 

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 42.81 अंकों की तेजी के साथ 29,087.25 पर खुला और 244.75 अंकों या 0.84 फीसदी गिरावट के साथ 28,799.69 पर बंद हुआ. दिन भर के कारोबार में सेंसेक्स ने 29,094.61 के ऊपरी और 28,721.63 के निचले स्तर को छुआ.

 

सेंसेक्स के 30 में से सात शेयरों में तेजी दर्ज की गई. एसएसएलटी (3.32 फीसदी), ओएनजीसी (1.76 फीसदी), एसबीआईएन (1.59 फीसदी), आईटीसी (1.23 फीसदी) और टाटा पावर (1.19 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी दर्ज की गई.

 

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे भेल (3.43 फीसदी), एमएंडएम (3.26 फीसदी), टाटा मोटर्स (2.81 फीसदी), विप्रो (2.70 फीसदी) और एक्सिस बैंक (2.65 फीसदी).

 

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 10.75 अंकों की तेजी के साथ 8,844.75 पर खुला और 83.80 अंकों या 0.95 फीसदी गिरावट के साथ 8,750.20 पर बंद हुआ. दिन भर के कारोबार में निफ्टी ने 8,844.80 के ऊपरी और 8,722.40 के निचले स्तर को छुआ.

 

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट दर्ज की गई. मिडकैप 56.66 अंकों की गिरावट के साथ 11,070.76 पर और स्मॉलकैप 40.64 अंकों की गिरावट के साथ 11,901.39 पर बंद हुआ.

 

बीएसई के 12 में से मात्र दो सेक्टरों तेज खपत उपभोक्ता वस्तु (0.19 फीसदी) और तेल एवं गैस (0.17 फीसदी) में तेजी दर्ज की गई. बीएसई के स्वास्थ्य सेवा (1.55 फीसदी), वाहन (1.49 फीसदी), प्रौद्योगिकी (1.47 फीसदी), सूचना प्रौद्योगिकी (1.46 फीसदी) और रियल्टी (1.37 फीसदी) सेक्टरों में सर्वाधिक गिरावट दर्ज की गई.

 

बीएसई में कारोबार का रुझान नकारात्मक रहा. कुल 1,389 शेयरों में तेजी और 1,473 में गिरावट दर्ज की गई, जबकि 95 शेयरों के भाव में कोई परिवर्तन नहीं हुआ.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story देश के सरकारी बैंकों के एनपीए का कितना बुरा है हाल? जानिए यहां