बाजार में तेजी का सिलसिला जारी, निफ्टी ने तोड़े सारे रिकॉर्ड

By: | Last Updated: Tuesday, 27 January 2015 12:03 PM

मुंबई: शेयर बाजारों में रिकार्डतोड़ तेजी का सिलसिला आज भी जारी रहा. बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स जहां 292.20 अंक की बढ़त के साथ 29,571.04 अंक के नए रिकार्ड स्तर पर पहुंचा, वहीं नेशनल स्टाक एक्सचेंज के निफ्टी ने पहली बार 8,900 अंक के स्तर को पार किया. भारत-अमेरिका के मजबूत होते रिश्तों से निवेशकों में उत्साह दिखा.

 

विदेशी संस्थागत निवेशकों के सतत प्रवाह से भारतीय शेयर बाजारों में तेजी जारी रही. हालांकि, यूनान में अंतरराष्ट्रीय सहमति से बने सरकारी खर्च में कटौती कार्यक्रम का विरोध करने वाली विरोधी साइरिजा की पार्टी की जीत के मद्देनजर एशियाई बाजारों में मिला जुला रुख रहा.

 

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 29,451.65 अंक पर मजबूत खुलने के बाद 29,618.59 अंक के सर्वकालिक उच्चस्तर को छूने के बाद अंत में 292.20 अंक या एक प्रतिशत की बढ़त के साथ 29,571.04 अंक के नए उच्चस्तर पर बंद हुआ.

 

लगातार आठ सत्रों में सेंसेक्स 2,224.22 अंक या 8.13 प्रतिशत की बढ़त दर्ज कर चुका है. वहीं निफ्टी भी 8,871.35 अंक पर खुलने के बाद पहली बार 8,900 अंक के स्तर के पार गया और 8,925.05 अंक के सर्वकालिक उच्चस्तर को छू गया.

 

अंत में यह 74.90 अंक या 0.85 प्रतिशत की बढ़त के साथ रिकार्ड उच्चस्तर 8,910.50 अंक पर बंद हुआ.

 

रेलिगेयर सिक्योरिटीज के अध्यक्ष (खुदरा वितरण) जयंत मांगलिक ने कहा, ‘‘घरेलू बाजारों में तेजी का सिलसिला जारी है. बाजार में इस तेजी में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की यात्रा की महत्वपूर्ण भूमिका रही. ओबामा ने भारत के साथ व्यापार व कारोबार बढ़ाने के लिए निवेश व चार अरब डालर के रिण की प्रतिबद्धता जताई है.’’

 

अरबों डालर के परमाणु व्यापार व अमेरिका के साथ मजबूत होते रक्षा संबंधों की वजह से पूंजीगत सामान खंड के शेयरों में चमक रही.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sensex_share market_nifty_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: nifty sensex share market
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017