स्पाइसजेट पर फिर सवार हुए अजय सिंह, मारन बाहर

By: | Last Updated: Friday, 16 January 2015 4:16 AM
SpiceJet revival plan: Marans, KAL to transfer ownership to Ajay Singh

फ़ाइल फ़ोटो: स्पाइसजेट के मूल प्रवर्तक अजय सिंह

नई दिल्ली: वित्तीय संकट में घिरी विमानन कंपनी स्पाइसजेट को फिर से उबारने की जिम्मेदारी आज एक बार फिर इसके मूल प्रवर्तक अजय सिंह के हाथ में आ गयी. 1,500 करोड़ रुपए के बहु स्तरीय सौदे के साथ स्पाइसजेट की कमान फिर सिंह के पास आ गई है. सस्ती सेवाएं देने वाली इस निजी क्षेत्र की एयरलाइन को संभाल रहे चेन्नई के मारन परिवार ने इसमें अपनी सारी 53 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ इसका नियंत्रण सिंह को स्थानांतरित करने पर सहमति दे दी है.

 

मारन परिवार इस समय मुश्किलों में है. सिंह को मारन परिवार से एयरलाइन की 53.48 प्रतिशत हिस्सेदारी मिलेगी. इसका मूल्य फिलहाल 500 करोड़ रुपए बैठता है. यदि भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) कहेगा तो वह आज शेयरधारकों से करीब 250 करोड़ रुपए की 26 प्रतिशत और हिस्सेदारी लेने के लिए खुली पेशकश लाएंगे. सिंह ने कहा कि कंपनी के लिए आगे का रास्ता काफी कठिन है. उन्होंने कहा कि वह विमानन कंपनी में और पूंजी डालने के लिए एक से अधिक निवेशकों से बातचीत कर रहे हैं.

 

मारन परिवार का सन ग्रुप भी अपने 10 प्रतिशत अधिपत्रों (वारंट) के परिवर्तन (शेयर में) के बाद कंपनी में 80 करोड़ रुपए का निवेश करेगा. कंपनी कई महीनों से संकट से जूझ रही है. सौदे के बाद सन ग्रुप की इकाई (कलानिधि मारन व कल एयरवेज) प्रवर्तक के रूप में वर्गीकृत नहीं होंगे और यह दर्जा नए निवेशकों को दिया जाएगा. बीएसई में कंपनी का शेयर आज तीन प्रतिशत चढ़कर 18.65 रुपए प्रति शेयर पर बंद हुआ.

 

नए पूंजी निवेश को लेकर हफ्तों से चली आ रही अनिश्चितता को समाप्त करते हुए स्पाइसजेट ने आज कहा कि कलानिधि मारन व कल एयरवेज अपना सारा स्वामित्व व प्रबधंन और नियंत्रण कंपनी के मूल संस्थापक अजय सिंह को स्थानांतरित कर देंगे. हालांकि कंपनी ने सौदे का वित्तीय ब्योरा या पुनरोद्धार योजना के बारे में खुलासा नहीं किया है, लेकिन आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि कुल मिलाकर तीन चरण में यह सौदा 1,500 करोड़ रुपए का हो सकता है.

 

कंपनी ने यह कदम ‘स्पाइसजेट के स्वामित्व, प्रबंधन व नियंत्रण के अधिग्रहण के लिए पुनर्गठन व पुनरोद्धार योजना’ के तहत उठाया है. स्पाइसजेट के निदेशक मंडल ने आज इसे मंजूरी दी. इस योजना को मंजूरी के लिए नागर विमानन मंत्रालय में दिया जाएगा.

 

सन ग्रुप के सीएफओ एस एल नारायणन ने कहा कि समूह 53 प्रतिशत से अधिक की सारी इक्विटी हिस्सेदारी सिंह को स्थानांतरित करेगा लेकिन अधिपत्रों (10 प्रतिशत हिस्सेदारी में परिवर्तनीय) के साथ कंपनी में निवेशक बना रहेगा.

 

स्पाइसजेट के सीओओ संजीव कपूर ने कहा इस नये कदम को सकारात्मक घटनाक्रम बताया. उन्होंने कहा कि कुछ और कदम उठाए जाने की जरूरत है. उल्लेखनीय है कि परिवार के कुछ सदस्यों के नाम 2जी घोटाले तथा अन्य मामलों में आने के बाद से ही मारन परिवार संकट से दो-चार है. कंपनी के अनुसार बोर्ड ने कंपनी से कहा है कि वह इस प्रस्ताव पर मंजूरी के लिए सभी जरूरी व उचित कदम उठाए.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: SpiceJet revival plan: Marans, KAL to transfer ownership to Ajay Singh
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017