अगले सत्र में गन्ना बीज की हो सकती है भारी कमी : विशेषज्ञ

By: | Last Updated: Saturday, 16 August 2014 4:53 PM
sugarcane crop_monsoon

कोयम्बटूर: गन्ना प्रजनन संस्थान में यहां एक वरिष्ठ अधिकारी ने आज कहा कि विगत तीन वषरे में कमजोर मानसून और अपर्याप्त बरसात के बाद तमिलनाडु में अगले सत्र में गन्ना बीज की गंभीर कमी हो सकती है.

संस्थान के निदेशक एन विजयन नायर ने कहा कि संस्थान की टीम द्वारा तमिलनाडु और कर्नाटक की चीनी फैक्टरियों में किये गये सर्वे की प्राथमिक रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकांश गन्ना उत्पादक क्षेत्रों में औसत से कम 30 प्रतिशत से 50 प्रतिशत तक बरसात हुई जिसका गन्ना बीज पौधों पर आने वाले वषरे में गंभीर प्रभाव होगा.

धरमपुरी, पुगालूर, तिरनेलवेली और थेनी जैसे अधिकांश गन्ना उत्पादक क्षेत्रों की फैक्टरियों से प्राप्त सूचना के अनुसार इन क्षेत्रों में गन्ना के लिए जरूरी बरसात, सामान्य से कम हुई है. नायर ने कहा कि इन कारणों के परिणामस्वरूप गन्ना खेती के रकबे में कमी आई है.

एक सेमिनार में उन्होंने कहा कि इसके अलावा थेनी में 2,100 एकड़ में और मदुरै में 1,500 एकड़ में गन्ना फसल बर्बाद हो गई है.

उन्होंने कहा कि संस्थान ने जीन स्तर पर संवर्धित गन्ना किस्मों को विकसित और परीक्षण किया है लेकिन कुछ पर्यावरणीय चिंताओं के कारण इसे वास्तविकता के धरातल पर लाना एक दिवास्वप्न की तरह है.

 

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sugarcane crop_monsoon
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ??? ????? ?????? ????????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017