समुद्री जीवों को खतरे में डाल सकता है आपका सनस्क्रीन

By: | Last Updated: Friday, 22 August 2014 4:39 AM
your sunscreen could be dangerous for Marine organisms

न्यूयार्क: सनस्क्रीन आपकी त्वचा को भले ही अल्ट्रवायलेट किरणों (यूवी) से बचाता हो और समुद्र तट पर समय बिताने वालों के लिए सबसे जरूरी सामान हो, लेकिन इसके लिए पर्यावरण खतरे में पड़ सकता है.

 

समुद्र में नहाने के दौरान जब आपकी त्वचा पर लगा सनस्क्रीन पानी में मिलता है, तो विषाक्त प्रभाव उत्पन्न कर सकता है और यह छोटे समुद्री जीवों के लिए खतरनाक हो सकता है. बाद में यही छोटे जीव बड़े समुद्री जीवों का भोजन भी बनते हैं.

 

स्पेन के शोधकर्ता ‘एंटोनियो तोवार-सानशेज और डेविड सानशेज-क्वीलस’ ने पाया कि सनस्क्रीन में आम तौर पर पाए जाने वाले टाइटेनियम डाइऑक्साइड और जिंक ऑक्साइड अल्ट्रावायलेट किरणों और हाइड्रोजन पेरोक्साइड जैसे विषैले यौगिकों के संपर्क में आकर प्रतिक्रिया करते हैं.

 

हाइड्रोजन पेरोक्साइड की अत्यधिक मात्रा समुद्र में पाए जाने वाले पादप और सूक्ष्म शैवालों को नुकसान पहुंचाती है, यही पादप और शैवाल छोटे समुद्री जीवों का भोजन होते हैं और छोटे समुद्री जीव बाद में बड़े समुद्री जीवों का भोजन बनते हैं. वैज्ञानिकों ने अध्ययन के दौरान भूमध्यसागर के पल्मीरा और मजोरका समुद्रतट के पानी का परीक्षण किया.

 

समुद्र के पानी का लैब परीक्षण, समुद्री जल के नमूने और पर्यटन आंकड़ों में पाया गया कि टाइटेनियम डाइऑक्साइड तटीय समुद्री जल में हाइड्रोजन पेरोक्साइड की बढ़ती मात्रा के लिए जिम्मेदार है.

 

यह अध्ययन जर्नल ‘एनवायरमेंटल साइंस एंड टेक्नोलॉजी’ में प्रकाशित हुआ है.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: your sunscreen could be dangerous for Marine organisms
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017