अवैध शराब के धंधे में महिलाओं का बोल-बाला

By: | Last Updated: Monday, 3 March 2014 2:23 PM
अवैध शराब के धंधे में महिलाओं का बोल-बाला

बिलासपुर: छत्तीसगढ़ में अवैध शराब के धंधों में महिलाओं की बढ़ती भूमिका ने आबकारी विभाग की बेचैनी बढ़ा दी है. अकेले बिलासपुर जिले में ही चालू वित्तवर्ष में 46 प्रतिशत मामलों में महिलाएं आरोपी बनी हैं, जिन्हें घर के पुरुष सदस्य ढाल के रूप में उपयोग कर रहे हैं.

 

 बिलासपुर के सहायक जिला आबकारी अधिकारी बलराम सिंह ने बताया कि अवैध शराब की बिक्री और हाथ-भट्टी शराब बनाए जाने के मामले में महिलाओं के खिलाफ भी गैरजमानती अपराध दर्ज हो रहे हैं.

 

छत्तीसगढ़ शासन की आबकारी नीति के तहत 2000 से कम आबादी वाले गांवों में शराब की दुकानें नहीं खुलती हैं. दो वर्ष पूर्व 35 शराब दुकानों पर ताला लग गया था. फिर भी शराब की बिक्री में 20 प्रतिशत वृद्धि हुई है.

 

हालात यह है कि आबकारी विभाग को पिछले वर्ष ठेके से 196 करोड़ रुपये की आय हुई थी, जो नए वित्तवर्ष में 236 करोड़ रुपये पहुंच जाएगी. राशि जमा करने के लिए तीन दिन का समय दिया गया है. इसके बाद भी गांव-गांव में अवैध शराब का धंधा जोर-शोर से चल रहा है. इसमें बुजुर्गो से लेकर महिलाएं तक शामिल हैं.

 

जानकारी मिली है कि घर के पुरुष सदस्य ही महिलाओं को इस धंधे में ढकेल रहे हैं. इस वर्ष अवैध शराब बिक्री के 46 प्रतिशत मामलों में महिलाएं आरोपी बनी हैं, जिन्हें घर में शराब बनाते और बिक्री करते पकड़ा गया है.

 

गौरतलब है कि आबकारी विभाग के अमले को अवैध शराब का धंधा करने वालों को पकड़ने के लिए बिना हथियार जाना पड़ता है. इससे अक्सर विवाद की स्थिति उत्पन्न होती है. महिलाओं के द्वारा अवैध शराब की बिक्री करने पर अफसरों के सामने मुसीबत और भी बढ़ जाती है. इसकी वजह साथ में महिला सहयोगी का नहीं होना है.

 

राज्य शासन ने शराब सेवन के बढ़ते मामलों पर अंकुश लगाने के लिए जिले के विभिन्न गांवों में ‘भारतमाता वाहिनी’ का गठन किया था, जो कुछ दिनों तक शराबियों के घर के सामने भजन-कीर्तन कर उन्हें शराब छोड़ने के लिए मजबूर करती थीं, लेकिन आर्थिक सहयोग नहीं मिलने के कारण वाहिनी का कामकाज ठप पड़ गया. हालांकि अब यह कार्य पंचायत कल्याण विभाग को सौंप दिया गया है, जिसके सार्थक परिणाम अभी तक देखने को नहीं मिले हैं.

 

इतना ही नहीं, अब तो अवैध शराब की बिक्री के लिए महिलाओं ने हाथभट्टी चलानी शुरू कर दी है. इससे उन्हें बाहर से शराब खरीदकर नहीं लाना पड़ता है. साथ ही महिलाएं हाथभट्टी से बनी शराब की बिक्री मनमाने रेट पर करती हैं.

 

आबकारी विभाग 20 प्रतिशत मामलों में बड़ी मात्रा में महुआ लहान भी जब्त कर चुका है.

Crime News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: अवैध शराब के धंधे में महिलाओं का बोल-बाला
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017