दिल्ली के नामी स्कूल के बच्चों की गालियां वायरल

By: | Last Updated: Thursday, 13 March 2014 6:54 AM

नई दिल्ली: गंदी और भद्दी गालियां हमारे समाज का हिस्सा हैं, इससे किसी का इंकार नहीं हो सकता. गालियां हमेशा से बुरी चीजों में शुमार भी रही हैं, लेकिन दिल्ली के एक टॉप स्कूल के बच्चों की गालियां जब व्हाट्सएप पर वायरल हुईं तो सिर शर्म से झुकना लाज़मी था.

 

मामला यह है कि दिल्ली के पोश इलाके वसंत विहार के एक नामी स्कूल के बच्चों के बीच मारपीट का वीडियो इंटरनेट पर खूब देखा जा रहा है.

 

घटना के बाद स्कूल की प्रिंसपल मिनाक्षी साहनी कहती हैं, ऐसी गालियां जो आप सोच भी नहीं सकते हैं!” फिर वे कहती हैं “पता नहीं कहा से सीखी ऐसी गालियां. वो कहीं से भी ये सीख सकते हैं जैसे अपने दोस्तों से, आस-पास के माहौल से, घर में या जो फिल्में वो देखते हैं उनसे…वो जिस उम्र में हैं उसमें सही गलत का फर्क करना नहीं आता.”

 

स्कूल का कहना है कि फुटबाल मैच के दौरान छात्रों के दो ग्रुप के बीच मारपीट हुई. सिक्स क्लास के बच्चों की जमकर गाली गलौज भी हुई. आरोप लग रहे हैं कि आर्थिक रूप से कमजोर और अमीर परिवार के बच्चों के बीच झगड़ा हुआ. रिपोर्ट के मुताबिक छठी क्लास के बच्चों ने सातवीं क्लास के बच्चों की पिटाई की. ऐसा शक है कि पिटाई का वीडियो बच्चों ने ही बनाया और इंटरनेट पर डाल दिया.

 

 

प्रिंसपल ने कहा कि वो इसके खिलाफ कड़े कदम उठाएंगी पर उन्होंने ये नहीं बताया की वो कदम क्या होंगे. स्कूल प्रशासन को कड़े कदम नहीं उठाता देख गुस्साए परिजनों ने घटना पर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने का मन बनाया है.

 

जब घटना सामने आई तो और भी परिजन अपने बच्चों के साथ पहले हुई ऐसी ही घटनाओं का जिक्र करने लगे. बताया गया कि एक छात्र को बस में पिटा गया था जिससे उसके कपड़े भी फट गए थे. सफाई देते हुए प्रिंसपल ने कहा कि कैंपस ने मोबाइल बैन है फिर भी छात्र परिक्षा के दौरान चुराकर फोन अंदर ले आते हैं.

Crime News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: दिल्ली के नामी स्कूल के बच्चों की गालियां वायरल
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ?????????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017