दिल्ली-NCR को रुलाने वाले ‘मेड गिरोह’ का पर्दाफाश

दिल्ली-NCR को रुलाने वाले ‘मेड गिरोह’ का पर्दाफाश

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

<p style="text-align: justify;">
<b>नई दिल्ली:</b> तुलसी मेड
ब्यूरो , दर्शन मेड ब्यूरो,
सिमी मेड ब्यूरो, बबीता मेड
ब्यूरो, अखबार में ऐसे
इश्तेहार के पर्चों पर शायद
आपकी भी नजर गई होगी. ये उन
तमाम मेड ब्यूरो के पर्चे हैं
जो एक अर्से से दिल्ली एनसीआर
इलाके में नजर आ रहे थे. हर मेड
ब्यूरो के नाम अलग अलग थे. हर
पर्चे में नया पता था और हर
पर्चे पर एजेंट के फोन नंबर
भी अलग अलग थे लेकिन इन सारे
मेड ब्यूरो की कहानी एक थी.
</p>
<p style="text-align: justify;">
कहानी उस गोरखधंधे की जो
पिछले कई महीनों से दिल्ली
एनसीआर में लोगों के घर में
सेंध लगा रहा था, जिस किसी ने
इन मेड ब्यूरो के पर्चे पर
यकीन कर अपने घर के काम के लिए
नौकरानी को रखा. वो मेड गैंग
का शिकार बन गया. किसी के घर
में रातों रात लाखों की चोरी
हो गई, तो किसी के घर से कीमती
गहने गायब हो गए.
</p>
<p style="text-align: justify;">
गाजियाबाद की शिखा वर्मा को
भी अपने घर के काम के लिए एक
कुशल कामवाली की जरूरत थी,
उन्होंने भी मेड ब्यूरो का
इश्तेहार  देखा था, लेकिन उस
मेड ब्यूरो पर यकीन करने का
नतीजा ये हुआ कि शिखा वर्मा
को भी हजारों की चपत लग गई.
</p>
<p style="text-align: justify;">
शिखा वर्मा ने जिस नौकरानी को
घर के काम के लिए रखा वो चौबीस
घंटे में ही लापता हो गई और
हजारों का चूना लगा गई, लेकिन
काफी छानबीन के बाद भी उन्हें
न मेड का पता चला और न ही मेड
ब्यूरो का.
</p>
<p style="text-align: justify;">
शिखा वर्मा की तरह दिल्ली
एनसीआर में कई लोग इसी तरह
मेड ब्यूरो के धोखे के शिकार
बने और हाथ मलते रह गए, लेकिन
एक रोज मेड ब्यूरो का वो
गिरोह गाजियाबाद पुलिस के
हत्थे चढ़ गया. पुलिस ने
गिरोह के दो लोग भरत और पूनम
को गिरफ्तार किया है. पुलिस
के मुताबिक दोनों पति पत्नी
हैं. दोनों मेड ब्यूरो की आड़
में मोटी रकम लेकर लोगों को
मेड मुहैया कराते थे और फिर
मौक़ा मिलते ही उसी मेड के साथ
मिलकर वो घर का कीमती सामान
लेकर फरार हो जाते थे.
</p>
<p style="text-align: justify;">
छानबीन में पता चला है कि
पुलिस से बचने के लिए पूनम और
भरत वारदात के बाद अपने मेड
ब्यूरो का नाम, पता और फोन
नंबर बदल देते थे. लोगों को
यकीन दिलाने के लिए दोनों ने
कई फर्जी रजिस्ट्रेशन पेपर
और स्टॉंप भी बना रखा था.
पुलिस की गिरफ्त में आने के
बाद भरत ने अपने गोरखधंधे की
बात कबूल कर ली है, लेकिन उसकी
पत्नी पूनम ये कहकर खुद को
बेकसूर बता रही है कि धोखे के
इस धंधे में उसकी छोटी बहन
शामिल थी, वो नहीं.
</p>
<p style="text-align: justify;">
पूछताछ में पता चला है कि मेड
ब्यूरो का ये गिरोह दिल्ली
एनसीआर में अबतक दर्जन भर
वारदात को अंजाम दे चुका है.
पुलिस अब इस गैंग के तीन
लोगों की तलाश में है जो चोरी
का माल लेकर फरार हैं.      <br />
</p>

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story शादी में मिला गिफ्ट खोला तो हुआ जोरदार धमाका, दूल्हे की मौत, दुल्हन जख्मी