पंजाब के ड्रग रैकेट में चीन के तार भी शामिल

By: | Last Updated: Monday, 1 April 2013 5:43 AM

<p style=”text-align: justify;”>
<b>चण्डीगढ़:</b> पंजाब पुलिस ने
सोमवार को कहा कि राज्य से
संचालित होने वाले लाखों
डॉलर के अंतर्राष्ट्रीय
ड्रग रैकेट के चीन से तार
जुड़े होने का भी सुराग मिला
है. <br /><br />इस रैकेट में ब्रिटेन,
नीदरलैंड्स, कनाडा,
अफगानिस्तान तथा पाकिस्तान
के सूत्र पहले से ही जुड़े
हुए हैं. <br /><br />पुलिस के अनुसार,
पांच चीनी व्यक्तियों ने रेव
पार्टियों में ‘आइस’ नाम से
प्रचलित नशीले पदार्थ,
मेथाम्फेटामाइन और इसके
बनाने में इस्तेमाल होने
वाले सूडोफेड्रिन की
गुणवत्ता की जांच के लिए वर्ष
2010 में चण्डीगढ़ का दौरा किया
था. <br /><br />पुलिस के प्रवक्ता ने
सोमवार को कहा, “यहां आने वाले
चीनी व्यक्तियों की पहचान हो
गई है. इस संबंध में आगे की
कार्रवाई की जा रही है.”<br /><br />फिलहाल
किसी चीनी व्यक्ति के बारे
में जानकारी सार्वजनिक नहीं
की गई है. मामले की जांच अभी
जारी है. पंजाब पुलिस ने सात
मार्च को 28 किलोग्राम हेरोइन
की पहली खेप जब्त की थी. तब
पुलिस ने विभिन्न स्थानों से
बड़ी मात्रा में नशीले
पदार्थ जब्त करने की बात कही
थी, जिनका अंतर्राष्ट्रीय
बाजार में कीमत 484 करोड़ रुपये
आंकी गई. <br /><br />फतेहगढ़ की जिला
पुलिस ने रविवार को 10
किलोग्राम ‘आइस’ और 230
किलोग्राम सूडोफेड्रिन जब्त
किए थे. ये नशीले पदार्थ
पंचकूला, पटियाला, संगरूर से
जब्त किए गए थे. <br /><br />पुलिस का
कहना है कि अंतर्राष्ट्रीय
स्तर पर ख्यातिप्राप्त
मुक्के बाज बिजेंद्र सिंह ने
दिसंबर 2012 से फरवरी 2013 तक 12 बार
हेरोइन लिए थे. <br /><br />पुलिस के
प्रवक्ता का कहना है कि आइस
तथा नशीले पदार्थ के निर्माण
से संबंधित अन्य पदार्थो का
निर्यात ब्रिटेन, कनाडा तथा
हॉलैंड को किया जाता है. यह सब
ब्रिटिश नागरिक कुलवंत सिंह
के जरिए होता था, जिसे दिल्ली
में 19 मार्च को गिरफ्तार किया
गया था. <br />
</p>

Crime News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: पंजाब के ड्रग रैकेट में चीन के तार भी शामिल
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017