शूटआउट के बाद नामधारी ने कहा था 'काम हो गया'

शूटआउट के बाद नामधारी ने कहा था 'काम हो गया'

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

<p style="text-align: justify;">
<b>नई
दिल्‍ली:</b> क्या कॉल डिटेल से
खुलेगा पॉन्टी और उनके भाई के
कत्ल का राज? नामधारी ने
शूटआउट के बाद किससे की बात?
नामधारी ने किससे कहा, 'काम हो
गया'?
</p>
<p style="text-align: justify;">
शराब कारोबारी पॉन्‍टी
चड्ढा और उनके भाई हरदीप की
हत्‍या मामले में धीरे-धीरे
सुखदेव सिंह नामधारी पर
शिकंजा कसता जा रहा है.
</p>
<p style="text-align: justify;">
दिल्ली पुलिस की क्राइम
ब्रांच को नामधारी के कॉल
रिकॉर्ड से कई सनसनीखेज
जानकारियां मिली हैं.<br />
</p>
<p style="text-align: justify;">
दिल्‍ली पुलिस की क्राइम
ब्रांच को पता चला है कि
पॉन्‍टी चड्ढा को अस्‍पताल
ले जाने के दौरान सुखदेव सिंह
नामधारी ने कुछ प्रभावशाली
लोगों को फोन किया था.<br /><br />क्राइम
ब्रांच को नामधारी की कॉल
डिटेल से पता चला है कि उसने
पॉन्‍टी को अस्‍पताल ले जाते
वक्‍त पांच लोगों को फोन किया
था, जिसमें उत्तराखंड और
पंजाब के तीन राजनेता और दो
प्रशासनिक अधिकारी शामिल
हैं.<br /><br />अब क्राइम ब्रांच के
अधिकारी नामधारी से जानना
चाहते हैं कि उसने ये फोन
क्‍यों किए थे? क्‍या ये किसी
साजिश का हिस्‍सा था या
नामधारी पॉन्‍टी के जानने
वाले इन लोगों को सूचित करना
चाहता था?
</p>
<p style="text-align: justify;">
सूत्रों की माने तो
उत्तराखंड के एक सीनियर
आईएएस अधिकारी शक के घेरे में
हैं. सूत्रों के मुताबिक इस
आईएएस अधिकारी ने हत्या वाले
दिन पॉन्टी चड्ढा और नामधारी
को कॉल किया था.
</p>
<p style="text-align: justify;">
हालांकि नामधारी ने पुलिस को
बताया है कि ये कॉल उत्तराखंड
में पॉन्टी की कंपनियों के
निवेश के सिलसिले में था. 
लेकिन क्राइम ब्रांच ने किसी
आईएएस अधिकारी के शक के घेरे
में होने से इनकार किया है. <br /><br />इस
बीच पॉन्टी चड्ढा के ड्राइवर
ने एक और सनसनीखेज खुलासा
किया है. खबर है कि पॉन्‍टी के
ड्राइवर राजदेव ने फायरिंग
के बाद पूछताछ में बताया कि
नामधारी ने कुछ लोगों को फोन
कर बताया था कि 'काम हो गया'.
राजदेव उस वक्‍त नामधारी के
साथ ही था जब वो पॉन्‍टी को
अस्‍पताल ले जा रहा था.<br /><br />अब
पुलिस नामधारी से पूछताछ कर
इस बात का पता लगा रही है कि
'काम हो गया' से उसका क्‍या
मतलब था? पुलिस ये पता लगाने
में जुटी है कि नामधारी के इन
शब्‍दों का मतलब पॉन्‍टी की
हत्‍या या साजिश के तहत हुई
गोलीबारी में पॉन्‍टी और
उसके भाई हरदीप की मौत से तो
नहीं था.<br /><br />17 नवंबर को हत्या
वाले दिन नामधारी ही जख्मी
पॉन्टी चड्ढा को लेकर वसंत
कुंज के फोर्टिस अस्पताल गया
था. उस वक्त गाड़ी में पॉन्टी
चड्ढा और नामधारी के अलावा
पॉन्टी चड्ढा का ड्राइवर और
नामधारी का पीएसओ सचिन
त्यागी भी साथ था. पुलिस अब इस
बात की जांच कर रही है कि आखिर
नामधारी ने किससे और क्यों
'कहा काम हो गया'? <br /><br />फिलहाल
नामधारी पांच दिसंबर तक
पुलिस की हिरासत में है.
दिल्‍ली की साकेत कोर्ट ने
उसे रविवार को और तीन दिन के
लिए पुलिस हिरासत में भेज
दिया था.<br /><br />पुलिस ने कोर्ट
को बताया था कि पॉन्‍टी और
उनके भाई हरदीप चड्ढा के
संपति विवाद के पीछे नामधारी
का हाथ था और इसी की वजह से
फार्महाउस में फायरिंग हुई
और दोनों भाइयों की मौत हो गई.<br /><br />क्राइम
ब्रांच को यह भी पता चला है कि
नामधारी के पास गुर्गों की
बड़ी फौज है जो गैरकानूनी ढंग
से जमीन, प्‍लॉट्स और
फार्महाउस को हथियाने काम
करते हैं.
</p>
<p style="text-align: justify;">
पॉन्‍टी ने भी 17 नवंबर को
छतरपुर स्थित फार्महाउस पर
कब्‍जा जमाने के लिए नामधारी
के आदमियों की मदद ली थी.<br /><br />नामधारी
के आदमी पॉन्‍टी के
गाजियाबाद वाले फार्महाउस
में रुके हुए थे. अगले दिन
यानी 17 नवंबर को नामधारी के
आदमी हथियारों से लैस होकर
छतरपुर वाले फार्महाउस में
घुस गए.<br /><br />गौरतलब है कि 17
नवंबर को दिल्ली के छतरपुर
में पॉन्टी की हत्या के वक्त
मौके पर नामधारी मौजूद था.
यही नहीं नामधारी ही घायल
पॉन्‍टी को लेकर अस्‍पताल भी
गया था.<br /><br />राजनीति के
गलियारों में नामधारी के नाम
से चर्चित सुखदेव सिंह
नामधारी को उत्तराखंड के लोग
बाजपुर के बाहुबली के नाम से
भी जानते हैं.<br /><br />मीडिया ने
सूत्रों के हवाले से ये आशंका
भी जताई है कि पॉन्टी चड्ढा
हत्याकांड के पीछे उन 200 करोड़
का खेल हो सकता है जो पैसा
छापों के वक्त पॉन्टी चड्ढा
ने सुरक्षित रखने के लिए
नामधारी को दिया था.<br /><br />सूत्रों
के हवाले से खबरें आ रही हैं
कि नामधारी ये पैसा लौटाना
नहीं चाहता था, इसी चक्कर में
इतने बड़े हत्याकांड को
अंजाम दिया गया.
</p>
<p style="text-align: justify;">
<b>संबंधित खबरें</b>
</p>
<p style="text-align: justify;">
<a class="video-icon"
href="http://abpnews.newsbullet.in/video/india/39483-2012-12-01-16-27-09">सुखदेव
सिंह नामधारी की पूरी कहानी</a><br />
</p>
<p style="text-align: justify;">
<a class="video-icon"
href="http://abpnews.newsbullet.in/video/crime/39335-2012-11-29-08-47-25">क्‍या
है पॉन्‍टी, हरदीप की हत्‍या
का राज</a><br />
</p>
<p style="text-align: justify;">
<span class="video-icon"><a
href="http://abpnews.newsbullet.in/video/crime/38757-2012-11-17-09-47-43">खूनी
झगड़े में पॉन्‍टी चड्ढा की
हत्या</a></span>
</p>
<p xmlns="http://www.w3.org/1999/xhtml">
<br />
</p>

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story दोस्त के पास मिला पत्नी का मोबाइल नंबर तो कर दिया कत्ल, ऐसे सुलझा केस