भोपाल गैंगरेप: डॉक्टरों ने रिपोर्ट में लिखा- इच्छा से बनाए गए संबंध । bhopal gangrape medical reoprt

भोपाल गैंगरेप: डॉक्टरों ने रिपोर्ट में लिखा- सहमति से बनाए गए सेक्स संबंध

पहले मेडिकल रिपोर्ट में लिख दिया गया कि संबंध इच्छा और सहमति से बनाए गए. विवाद होने के बाद माना गया कि रिपोर्ट में गलतियां हो गई हैं.

By: | Updated: 10 Nov 2017 09:35 AM
bhopal gangrape medical reoprt

भोपाल: मध्य प्रदेश प्रशासन ने भोपाल के सामूहिक बलात्कार मामले में चिकित्सा रिपोर्ट को लेकर दो महिला चिकित्सकों को कारण बताओ नोटिस जारी किये हैं. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पीड़िता की सहमति और इच्छा से शारीरिक संबंध बनाये गये है. अधिकारियों ने आज यह जानकारी दी. सुल्तानिया लेडी अस्पताल की डॉक्टरों द्वारा तैयार की गयी रिपोर्ट में एक स्थान पर 19 वर्षीय युवती को "पीड़िता" की बजाय "अभियुक्त" उल्लेखित कर दिया गया.


यह गलती "अनजाने" में होने के डॉक्टरों के दावे के बावजूद भोपाल मंडलीय आयुक्त ने दोनों डॉक्टरों को नोटिस जारी किये. पुलिस के अनुसार रिपोर्ट से पुष्टि हुई है कि महिला के साथ बलात्कार किया गया है. हालांकि इस रिपोर्ट में गलतियां हुई हैं.


Bhopal gangrape 10


भोपाल में रेल पटरियों के निकट 31 अक्तूबर की रात को चार लोगों ने लगभग तीन घंटे तक युवती के साथ कथित रूप से बलात्कार किया था. युवती कोचिंग क्लास के बाद घर लौट रही थी. भोपाल रेलवे डिविजन, पुलिस अधीक्षक रूचि वर्धन मिश्रा ने कहा," डॉक्टरों ने अपनी परीक्षण रिपोर्ट में लिखा कि पीड़ित की सहमति और इच्छा से शारीरिक संबंध बनाये गये.


रिपोर्ट में एक स्थान पर ‘पीड़िता’ को ‘अभियुक्त’ उल्लेखित किया गया है. उन्होंने कहा," जब हमने स्पष्टीकरण मांगा तो संबंधित डाक्टरों ने (लिखित) स्पष्टीकरण दिया कि शब्द ‘विद’ ‘विदआउट’ के बजाय गलती से लिखा गया. वास्तव में डॉक्टर यह कहना चाहते थे कि शारीरिक संबंध ‘पीड़िता की सहमति और इच्छा के बिना’ बनाये गये.


bhopal


एक स्थान पर पीड़िता को अभियुक्त बताये जाने संबंधी एक अन्य त्रुटि पर भी डाक्टरों ने स्पष्टीकरण दिया है. इस बीच भोपाल के संभाग आयुक्त अजातशत्रु ने कहा कि उनकी गलतियों के कारण रिपोर्ट गलत हो सकती थी. अजातशत्रु ने कहा, ‘‘यह संवेदनशील मुद्दा है और डाक्टरों को इस तरह की गलतियों से बचना चाहिए. रिपोर्ट का पूरा मतलब गलत हो गया. हमने दो डाक्टरों डा. खुशबू गजभीये और डॉ. संयोगिता को कारण बताओ नोटिस जारी करके तीन दिन के भीतर जवाब देने के लिए कहा है."


इस बीच मध्य प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता अजय सिंह ने आरोप लगाया कि मेडिकल रिपोर्ट से सरकार की "असंवेदनशीलता" का पता चलता है.


सिंह ने कहा,"यह शर्मनाक है. इससे प्रशासन की लापरवाही और राज्य सरकार की असंवेदनशीलता का पता चलता है. इस तरह की हरकतें केवल पीड़िता के दर्द को ही बढाती है." हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) में अपराध के लगभग 24 घंटे के भीतर एक नवम्बर को मामला दर्ज किया गया था. पुलिस ने सभी चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: bhopal gangrape medical reoprt
Read all latest Crime News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story यूपी में अस्पताल की लापरवाही: ऑपरेशन के बाद पेट में छोड़ी कैंची, महिला की मौत