छत्तीसगढ़ में नन के साथ गैंगरेप, ईसाई समुदाय का प्रदर्शन

By: | Last Updated: Saturday, 20 June 2015 4:07 PM

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में शुक्रवार की रात कुछ बदमासो ने एक नन के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया. जब इसकी रिपोर्ट रायपुर के पंडरी थाने में लिखाई गई तब जाकर मामला सामने आया.

 

घटना के 24 घंटे बीत जाने के बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी न होने के विरोध में आज ईसाई समुदाय ने शहर के एडिश्नल एसपी कार्यालय का घेराव किया. पूरा मामला रायपुर के एक मिसनरी अस्पताल का है.  45 साल की जिस नान के साथ गैंगरेप हुआ है वो पिछले 8 साल से इस अस्पताल में नर्स का काम कर रही थी.

 

शुक्रवार की रात 2 लोग अस्पताल के अंदर चोरी की नियत से आये और उन्होंने नन के साथ गैंगरेप किया और आलमारी के अंदर का सामान लेकर फरार हो गए. पीड़ित नन रायपुर के आंबेडकर अस्पताल में भर्ती है जहाँ उसका इलाज चल रहा है.  पुलिस का कहना है की इस वारदात के बाद नर्स सदमे में है और उसकी हालत स्थिर है.

 

24 घंटे के करीब बीत जाने के बाद भी जब आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई तो ईसाई समुदाय के लोगों ने इसके विरोध में एडिश्नल एसपी कार्यालय का घेराव करने पहुंच गए. एक तरफ  पुलिस और ईसाई समुदाय के प्रतिनिधि मंडल की बातचीत हो रही थी तो वहीँ दूसरी ओर करीब 500 की संख्या में ईसाई समुदाय के लोग सड़क बैठकर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे.

 

करीब एक घंटे तक प्रदर्शनकारियों ने सड़क पर बैठकर प्रदर्शन किया. कल ईसाई समुदाय के लोग मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और राज्यपाल बलराम दास टंडन से मिलकर कार्रवाई की मांग करेंगे.

 

ईसाई समुदाय के लोगों कहना है की करीब 24 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस अब तक आरोपियों को नहीं पकड़ पाई है. इनका कहना है की पिछले एक साल में कभी चर्च पर हमले हो रहे हैं तो कभी पादरी के साथ मारपीट हो रही है. फादर ने आरोप लगाया की ईसाई समुदाय के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है.

Crime News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: crime_chhattisgarh
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Chhattisgarh Christian crime gang rape India
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017