बैन के बावजूद दिल्ली से नोएडा तक की सड़कों पर चल रही है उबर कैब

By: | Last Updated: Tuesday, 9 December 2014 1:30 AM

नई दिल्ली: उबर कैब के ड्राइवर द्वारा दिल्ली में एक महिला का रेप किए जाने के बाद इस अमेरिकी टैक्सी कंपनी की टैक्सी पर कोर्ट ने रोक लगा दी है. लेकिन बैन के बावजूद सोमवार की रात टैक्सी की सेवा जारी रही. ABP न्यूज संवाददाता प्रतिमा मिश्रा ने रात में उबर टैक्सी से दिल्ली और फिर नोएडा तक का सफर किया.

 

ABP न्यूज की पड़ताल में ऊबर टैक्सी के दो ड्राइवरों ने कहा कि दिल्ली में टैक्सी पर बैन की खबर उन्हें कंपनी या किसी प्रशासन की ओर से नहीं मिली, इसिलिए वो सड़कों पर टैक्सी की सेवा दे रहे हैं.

 

आपको बता दें कि रेप की यह घटना शुक्रवार रात में घटी, जब बसंत विहार में एक महिला ने दक्षिणी दिल्ली जाने के लिए उबर टैक्सी कंपनी की एक कैब बुक की. वह हरियाणा के गुड़गांव स्थित एक कंपनी में काम करती है, जहां से वापस घर लौट रही थी. उसने पुलिस से कहा कि वह पिछली सीट पर सो गई. इस दौरान किसी जगह पर ड्राइवर ने गाड़ी रोककर उसके साथ छेड़खानी की कोशिश की. जब उसने विरोध किया, तो ड्राइवर ने उसे तमाचा मारा और दुष्कर्म किया तथा जान से मारने की धमकी दी.

 

लोगों के गुस्से को देखते हुए दिल्ली सरकार ने सोमवार को उबेर टैक्सी कंपनी की ‘सभी गतिविधियों’ पर प्रतिबंध लगा दिया. कंपनी को भविष्य में किसी भी तरह की परिवहन सेवा देने से रोकने के क्रम में उसे काली सूची में डाल दिया गया है.

 

घटना के बाद पूरे शहर में कंपनी पर कार्रवाई को लेकर प्रदर्शनों का दौर चला. इस बीच केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आरोपी को न्याय के दायरे में लाने का वादा किया.

 

रविवार को रेप के आरोपी शिव कुमार यादव को आधी रात दिल्ली लाया गया. यहां सोमवार को उसे महानगर दंडाधिकारी अंबिका सिंह के समक्ष पेश किया गया, जहां से उसे तीन दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया. कैब ड्राइवर ने पहचान परेड कराने से इंकार कर दिया. पुलिस ने यादव को सीरियल अपराधी की संज्ञा दी और कहा कि वह उसके अन्य गुनाहों की पड़ताल का प्रयास कर रहे हैं.

 

यह आरोपी इससे पहले भी रेप के आरोप में जेल जा चुका है. पुलिस उपायुक्त मधुर वर्मा ने से कहा, “यादव को 2011 में दुष्कर्म के एक मामले में गिरफ्तार किया गया था, जिसके तहत वह सात महीने तक तिहाड़ जेल में बंद रहा. इसी तरह के अन्य मामलों में उसकी संलिप्तता उजागर करने का हम प्रयास कर रहे हैं.”

 

पुलिस ने कहा कि उबेर कंपनी में नौकरी के लिए उसने एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के जाली आचरण प्रमाण पत्र का इस्तेमाल किया.

 

यह भी पढ़ें-

उबर के अधिकारी से दिल्ली में पूछताछ 

उबर पर बैन, सीईओ का आरोप और सरिया…: 10 अहम अपडेट्स 

रेप के आरोपी का कैरेक्टर सर्टिफिकेट फर्जी : पुलिस कमिश्नर 

रेप के आरोपी को तीन दिन की पुलिस रिमांड 

रेप की घटना के बाद दिल्ली सरकार ने उबर की टैक्सी सर्विस पर लगाई रोक

लोकसभा में सरकार ने उबर टैक्सी रेप कांड की कड़ी निंदा की