जासूसी कांड: आरोपियों का आरोप, सादे कागज पर जबरन कराए हस्ताक्षर

By: | Last Updated: Tuesday, 24 February 2015 5:30 PM
Petroleum Ministry leak case

नई दिल्ली: पेट्रोलियम मंत्रालय दस्तावेज लीक मामले में गिरफ्तार किए गए पांचों आरोपियों ने मंगलवार को अदालत में कहा कि हिरासत में पूछताछ के दौरान जबरन उनसे सादे कागज पर हस्ताक्षर कराया गया.

 

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के कंपनी मामलों के प्रबंधक शैलेश सक्सेना, जुबिलंट ऊर्जा के वरिष्ठ कार्यकारी सुभाष चंद्रा, रिलायंस एडीएजी के उप महाप्रबंधक ऋषि आनंद, एस्सार के उप महाप्रबंधक विनय तथा केर्न्‍स इंडिया के महाप्रबंधक के.के.नाइक को मुख्य महानगर दंडाधिकारी संजय खानागवाल की अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें पांच मार्च तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

 

सुनवाई के दौरान आरोपियों ने आरोप लगाया कि हिरासत में पूछताछ के दौरान पुलिस ने उनसे सादे कागज पर हस्ताक्षर करवाए.

 

सक्सेना ने यह भी कहा कि हिरासत के दौरान गंदगी वाले जगह में रहने के दौरान वह बीमार हो गए हैं और उन्होंने अदालत से मांग की कि वह जेल अधीक्षक को आवश्यक निर्देश दें, ताकि उनके स्वास्थ्य पर कोई प्रतिकूल असर न पड़े.

 

याचिका पर सुनवाई के बाद अदालत ने जेल अधीक्षक को निर्देश दिया कि 48 दिनों के अंदर वह सक्सेना की चिकित्सकीय रिपोर्ट पेश करें. अन्य आरोपियों ने अदालत से कहा कि उनकी बीमारियों के मद्देनजर वह जेल अधीक्षक को निर्देश दें कि उन्हें कुछ दवाएं उपलब्ध कराएं.

Crime News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Petroleum Ministry leak case
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: crime Document leak case ministry petroleum
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017