अश्लीलता के आरोपों से घिरी राधे मां

By: | Last Updated: Monday, 3 August 2015 5:29 PM

नई दिल्ली: खुद के देवी होने का दावा करने वाली राधे मां पर जेल जाने का खतरा मंडरा रहा है. रविवार को एबीपी न्यूज ने आपको दिखाया था कि निक्की गुप्ता नाम की महिला ने राधे मां पर दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया है लेकिन आज एक और संगीन आरोप राधे मां पर लगा है.

 

एबीपी न्यूज से बातचीत में राधे मां के दरबार में शामिल हो चुकी एक महिला वकील ने राधे मां पर अश्लील हरकतों का आरोप लगाया है. लाखों भक्त और ग्लैमरस अंदाज के साथ देवी होने का दावा करने वाली राधे मां को तो आप बखूबी पहचानते हैं. पंजाब के एक आम परिवार से नाता रखने वाली देवी अब लाखों के गहने पहनती हैं. शाही अंदाज में अपनी चौकी के आयोजन करवाती हैं और हवा से स्टेज पर उतरती हैं.

 

भक्त उनके लिए भजनों के नजराने भी पेश करते हैं लेकिन राधे मां के खिलाफ आरोपों का सिलसिला फिर शुरू हो गया है. एबीपी न्यूज ने आपको निक्की गुप्ता की आपबीती सुनवाई थी जो राधे मां के कार्यक्रमों के आयोजनकर्ता यानी मुंबई के एमएम गुप्ता परिवार की रिश्तेदार हैं. निक्की ने आरोप लगाया था कि राधे मां उनके ससुराल वालों के साथ मिलकर दहेज के लिए प्रताड़ित कर रही हैं. निक्की ने तो राधे मां के खिलाफ एफआईआर भी करवा दी है.

 

लेकिन अब एक और कानूनी पेंच में फंसती नजर आ रही हैं राधे मां. इस बार आवाज उठाई है मुंबई की वकील फाल्गुनी ब्रह्मभट्ट ने. एबीपी न्यूज संवाददाता गणेश ठाकुर से लंबी बातचीत में फाल्गुनी ने आरोप लगाया है कि एम एम गुप्ता परिवार के घर यानी राधे मां भवन में होने वाले कार्यक्रमों में अश्लीलता परोसी जा रही है.

 

मुझे उस औरत के बारे में नहीं बोलना: डॉली बिंद्रा

कभी राधे मां की भक्ति में लीन रहने वाली डॉली बिंद्रा हर जगह उनके साथ नजर आया करती थीं. उनकी शान में कुछ इस तरह से मीडिया में खुलेआम बयान भी दिया करती थीं. लेकिन जब हमने राधे मां के दरबार में अश्लीलता के आरोप पर डॉली बिंद्रा से बात करनी चाही तो उन्होंने भी इन आरोपों से इंकार नहीं किया. डॉली बिंद्रा भी मान रही हैं कि राधे मां धर्म की दुकान चला रही हैं हालां कि वो इस पर ज्यादा बात नहीं करना चाहतीं.

राधे मां की पिछली जिंदगी के तार पंजाब से जुड़े हैं. राधे मां पंजाब के होशियारपुर के दोरांगला गांव की रहने वाली थी जहां उनका बचपन बीता था. शादी के बाद माली हालात इतने खराब थे कि लोगों के कपड़े सिलती थीं सुखविंदर कौर उर्फ राधे मां. लेकिन फिर एकाएक जिंदगी बदल गई और लोगों के कपड़े सीने वाली राधे मां लोगों के नसीब पर चमत्कार का पैबंद लगाने लगीं.

 

ये वही राधे मां हैं जो भक्तों के लिए देवी का अवतार हैं. देवी मां भक्तों को आई लव यू कहती हैं और भक्त उनकी शान में भजन गाते हैं. भजन की पंक्तियों में आपको मिलेगा राधे मां के मुंबई कनेक्शन का पता जिसे लेकर अब लग रहे हैं संगीन इल्जाम. लेकिन मुंबई की वो कहानी सुनाने से पहले आपको पंजाब लिए चलते हैं जहां राधे मां का बचपन बीता.

 

पंजाब के गुरुदासपुर जिले का दोरांगला गांव जहां बिजली विभाग में काम करने वाले सरदार अजीत सिंह के घर में साल 1979 में एक बेटी ने जन्म लिया था. परिवार ने बड़े प्यार से गुड़िया नाम रखा था. गुड़िया की पढ़ाई लिखाई दोरांगला के इसी स्कूल में हुई और स्कूली दस्तावेजों में उसे नाम दिया गया सुखविंदर कौर का.

 

लेकिन नाम बदलने का सिलसिला यहीं खत्म नहीं हुआ. गुड़िया उर्फ सुखविंदर कौर जब 17 साल की हुई तो उसकी शादी मुकेरियां के रहने वाले मोहनलाल से कर दी गई जो अपने भाई के साथ मिठाई की दुकान पर काम करता था. शादी के बाद मोहनलाल ने मिठाई का काम बंद कर दिया और परिवार को खाने के लाले पड़ गए. इसी मुकेरियां तब सुखविंदर कौर जो अब राधे मां के नाम से मशहूर हैं कभी लोगों के कपड़े सिला करती थीं.

 

इस बीच दो बेटे हुए और सुखविंदर के पति कतर की राजधानी दोहा में कमाई के लिए चले गए. चार बरस बीत गए. 21 साल की सुखविंदर मुकेरियां के परमहंस धाम के के संत रामाधीन परमहंस की शरण में जा पहुंची. बताया जाता है कि छह महीने बाद रामाधीन परमहंस ने ना सिर्फ राधे मां को दीक्षा दी बल्कि उन्हें राधे मां का एक और नाम भी दे दिया.

अब राधे मां चमत्कारी मानी जाने लगी थीं. लेकिन उनकी सादगी पर कोई फर्क नहीं पड़ा था. ना श्रंगार और ना कोई ग्लैमर.  लेकिन हालात तब बदले जब मुंबई के मशहूर और बड़े मिठाई कारोबारी एमएम गुप्ता का परिवार राधे मां का भक्त बना. राधे मां ने गुप्ता परिवार के इस नंद नंदन भवन को जो अब राधे मां भवन के नाम से भी मशहूर है अपना ठिकाना बना लिया.

 

एम एम गुप्ता परिवार की नई पीढ़ी ग्लोबल एडवर्टाइजर नाम से आउटडोर विज्ञापन किया करती थी. राधे मां की भक्ति का दावा उसके आउटडोर विज्ञापनों में भी नजर आने लगा. महज 13 साल में राधे मां ने गरीबी सादगी भरी जिंदगी को अलविदा कह दिया और फिर उनके हर कार्यक्रम में शाही जेवर, शानदार मेकअप और आँखे चुंधिया देने वाले स्टेज नजर आने लगे. एमएम मिठाईवाला के परिवार ने अपने इस घर की एक मंजिल बाकायदा राधे मां को दे दी. इसमें राधे मां की गुफा भी बनाई गई.

 

राधे मां से मुलाकात कितनी मुश्किल है ये भी देखिए. यही नहीं राधे मां की कहानी का एक और अहम किरदार है टल्ली बाबा. समस्या बताने के लिए भक्तों को बाकायदा टल्ली बाबा से ही अपाइंटमेंट लेना पड़ता है.  एबीपी न्यूज इसकी पुष्टि नहीं करता लेकिन कहा जाता है कि राधे मां अपने गुफारूपी कमरे में भक्तों की समस्याएं सुनती हैं. लेकिन बोलती कुछ नहीं. समाधान बताने की जिम्मेदारी छोटी मां नाम की महिला को सौंपी गई है.

राधे मां के दर्शन या तो टल्ली बाबा के जरिए हो सकते हैं या फिर उन्हें ऐसे कार्यक्रमों और शोभायात्राओं में देखा जा सकता हैं. एम एम गुप्ता का परिवार उनके हर कार्यक्रम का पूरा खर्च उठाया करता था. साल 2012 में राधे मां के चढ़ावे के हिसाब का सवाल उठा था लेकिन तब गुप्ता परिवार ने इसका कोई जवाब नहीं दिया था. यही नहीं इसके बाद राधे मां ने साल 2012 के ही महाकुंभ में महामंडलेश्वर होने भी दावा ठोक दिया जिसे लेकर विवाद उठ खड़ा हुआ और बाद में महज 3 दिन बाद राधे मां से महामंडलेश्वर की उपाधि छीन ली गई.

 

हालांकि बाद में राधे मां को महामंडलेश्वर मान लिया गया और उनकी आस्था की दुनिया ज्योंकि त्यों गुलजार है. मनोज तिवारी जैसे गायक और नेता उनके दरबार में जगराते गाते नजर आते हैं और नवजोत सिंह सिद्धू जैसे पूर्व बीजेपी सांसद की जुबान पर भी राधे मां का नाम चढ़ जाता है. लेकिन नया विवाद राधे मां के लिए ऐसी मुश्किल जरूर बन गया है जो ना सिर्फ उनके भक्तों के भरोसे को तोड़ सकता है बल्कि जेल की हवा भी खिला सकता है.

राधे मां पर लगा अश्लील हरकतें करने का आरोप 

 

Crime News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: radhe maa
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: radhe maa
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017