बच्ची के साथ यौन उत्पीड़न की पुष्टि हुई : पुलिस प्रमुख

By: | Last Updated: Wednesday, 22 October 2014 1:36 PM

बेंगलूर: डाक्टरों ने स्कूल परिसर में साढ़े तीन साल की एक बच्ची के साथ यौन उत्पीड़न की पुष्टि कर दी है वहीं अभिभावकों द्वारा इस घटना का विरोध किए जाने के बीच पुलिस ने इस जघन्य मामले की जांच तेज कर दी है.

 

अभिभावकों ने परिसर में एकत्र हो कर घटना पर कड़ा विरोध जताया और स्कूल के मैनेजमेंट से जवाब मांगा.

 

इस मामले में स्कूल के कर्मियों से पूछताछ की जा रही है और पुलिस सीसीटीवी कैमरों के फुटेज की जांच कर रही है.

 

बेंगलूर पुलिस आयुक्त एम एन रेड्डी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि बच्ची को कल इलाज के लिए जिस निजी अस्पताल में ले जाया गया था, वहां के डाक्टरों ने पुष्टि की है कि छोटा जख्म है जो यौन र्दुव्‍यवहार के कारण हो सकता है.

 

रेड्डी ने कहा, ‘‘ जख्म तथा परिस्थिति के अलावा बच्ची का बयान है. इस समय, कोई अन्य संभाव्यता नहीं है. यह मामला यौन उत्पीड़न के समान लगता है.’’ उन्होंने कहा कि बच्ची के पिता की शिकायत पर बच्चों को यौन अपराधों से बचाव कानून 2012 और भारतीय दंड संहिता की धारा 376 के तहत एक आपराधिक मामला दर्ज किया गया है.

 

पिछले चार महीने में शहर के स्कूल परिसरों में नाबालिग लड़कियों के साथ कथित यौन उत्पीड़न की यह तीसरी घटना है.

 

रेड्डी ने कहा कि जब बच्ची की मां कल दोपहर उसे लेने के लिए जलाहल्ली स्थित स्कूल गई तो बच्ची रो रही थी, उसे बुखार था और उसका व्यवहार सामान्य नहीं था.

 

पुलिस ने कहा कि शुरू में बच्ची ने बताया कि उसे किसी ने मारा है लेकिन बाद में उसने बताया कि उसका यौन उत्पीड़न किया गया है. रेड्डी ने कहा कि यह अभी स्पष्ट नहीं है कि अपराध स्कूल परिसर में हुआ या बाहर. उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य मामले की निष्पक्ष जांच करना है.

 

इस बारे में पूछे जाने पर कि स्कूल मैनेजमेंट स्पष्ट कर रहा है कि घटना स्कूल परिसर के बाहर हुयी है, रेड्डी ने कहा कि अपराध के संबंध में भिन्न भिन्न राय होने के बाद भी पुलिस गहन जांच करेगी.

 

उन्होंने कहा, ‘‘ हमने स्कूल मैनेजमेंट सहित सभी संभव लोगों से बात की है.. पुलिस पेशेवर तरीके से जांच करेगी.’’ रेड्डी ने कहा कि अभिभावकों की मांग पर पुलिस ने स्कूल प्रबंधन से संपर्क किया है और उसके प्रमुख को बेंगलूर आने को कहा गया है. स्कूल अंतर.राज्यीय संस्थान है जिसका मुख्य समूह पड़ोसी आंध्र प्रदेश से है.

 

उन्होंने कहा कि अभिभावकों ने पांच से आठ लोगों का एक छोटा समूह गठित करने का अनुरोध किया है जो जांच अधिकारियों और प्रबंधन के बीच संपर्क में रहें ताकि विभिन्न सूचनाओं को लेकर पैदा भ्रम से निपटा जा सके.

 

रेड्डी ने कहा कि जिस कक्षा में बच्ची बैठती है, उसका और उसके आसपास के क्षेत्र की भी जांच की गयी है और सीसीटीवी फुटेज को जब्त कर उसकी जांच की रही है.

 

स्कूल के एक छात्र के अभिभावक ने कहा, ‘‘ मैं यह खबर सुनकर स्तब्ध हूं कि यह घटना इस स्कूल में हुयी जहां का माहौल बहुत अच्छा है. मैं यहां आया हूं ताकि मैनेजमेंट से यह जानकारी मिल सके कि क्या हुआ है. मैं यहां आता रहा हूं, यहां की सुरक्षा अच्छी है.’’

 

एक अन्य अभिभावक ने कहा, ‘‘ अगर यह सही है कि घटना स्कूल में हुयी है तो हम निश्चित रूप से उस बच्ची का समर्थन करेंगे और कोशिश करेंगे कि उसे न्याय मिले.’’ बेंगलूर में पिछले चार महीने में स्कूली बच्चियों के साथ यौन उत्पीड़न के तीन मामले सामने आए हैं.

 

एक मामला अगस्त में सामने आया था जिसमें 63 वर्षीय शिक्षक ने स्कूल परिसर में आठ साल की बच्ची के साथ कथित रूप से यौन उत्पीड़न किया था. इस घटना के करीब एक महीना पहले ही हाई स्कूल की छह साल की एक छात्रा के साथ ‘‘गैंगरेप’’ की घटना के विरोध में लोग सड़कों पर उतर आए थे.

 

लोगों के विरोध के बाद पुलिस ने बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए स्कूलों को सख्त दिशानिर्देश जारी किए थे.

Crime News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sexual harrasment_minor_posco
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: minor posco sexual harrasment
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017