दिल्ली में उबर की टैक्सी का बलात्कारी ड्राइवर गिरफ्तार

By: | Last Updated: Sunday, 7 December 2014 10:35 AM

नई दिल्ली: दिल्ली में एक बार फिर हुई है रेप की सनसनसीखेज घटना. रेप का आरोप गुड़गांव की एक निजी कंपनी में काम करने वाली लड़की ने एक टैक्सी ड्राइवर पर लगाया है. टैक्सी ड्राइवर अमेरिकी कंपनी उबर की गाड़ी चलाता था.

 

पुलिस ने स्विफ्ट डिजायर कार तो बरामद कर ली है लेकिन आरोपी ड्राइवर शिव यादव उसकी गिरफ्त में नहीं आया है. पुलिस मथुरा में शिव के घर तक पहुंच गई है लेकिन शिव हाथ नहीं आया है.

 

उबर कंपनी की टैक्सी मोबाइल ऐप से ही बुक होती है. रेप की इस घटना में सबसे बड़ा सुराग उबर का मोबाइल ऐप ही है लेकिन रेप के बाद ड्राइवर ने ऐप डिलीट करके पुलिस के लिए परेशानी खड़ी कर दी है.

 

पुलिस ने टैक्सी तो बरामद कर ली है लेकिन आरोपी ड्राइवर फरार है. गुड़गांव में कंपनी का जो ऑफिस है उसके पास ड्राइवर के बारे में कोई जानकारी नहीं है. फोटो भी नहीं है.

 

जिस टैक्सी में रेप हुआ वो कार स्विफ्ट डिजायर थी. उसका नंबर है-

DL1Y 7910. जिस ड्राइवर पर आरोप लगा है उसका नाम शिव कुमार यादव है और उसकी उम्र 32 साल है.

 

दिल्ली की टैक्सी में रेप!

 

दिल्ली के सराय रोहिल्ला थाने में दर्ज शिकायत में लड़की ने कहा है कि…. “शुक्रवार शाम सात बजे गुड़गांव में अपने ऑफिस से निकली

और वसंत विहार के एक होटल में डिनर के लिए गई. रात साढ़े नौ बजे इंद्रलोक के अपने घर जाने के लिए टैक्सी बुलाई रास्ते में वो बेसुध हो गई और खुद को कार में सुनसान जगह पर पाया. ड्राइवर ने कार में ही रेप किया और घर के पास छोड़ गया. ड्राइवर ने इस बारे में पुलिस को बताने पर बड़े अंजाम की धमकी भी दी. देर रात एक बजकर 25 मिनट पर उसने पुलिस को फोन किया.”

 

इस दौरान अच्छी बात ये रही कि लड़की ने कार की नंबर प्लेट अपने मोबाइल कैमरे में कैद कर ली.

 

टैक्सीवाला बलात्कारी!

 

लड़की के मुताबिक टैक्सी उसने उबर नाम की कंपनी से एप के जरिए मंगवाई थी और जांच में पाया गया कि ड्राइवर ने कंपनी के एप को ही डिलीट कर दिया ताकि उसका फोन नंबर, गाड़ी नंबर और फोटो ना मिल सके.

 

इस घटना से दिल्ली में महिलाओं की सुरक्षा का सवाल फिर खड़ा हो गया है, खासकर तब जब टैक्सी एक नामी कंपनी ने मुहैया करवाई जो सबसे ज्यादा दावा क्लाइंट की हिफाजत का करती है.

 

जांच में जुटी टीम के लिए मुश्किल ये भी है कि ड्राइवर ने मोबाइल कनेक्शन भी किसी और के नाम पर ले रखा था. ऐसी खबरें भी हैं कि पहले दिए बयान में लड़की ने ऑफिस की कैब के ड्राइवर पर रेप का आरोप लगाया था.

 

रेप वाला एप?

इस घटना से महज एप के जरिए टैक्सी पहुंचाने के नए धंधे पर भी सवाल खड़ा हो गया है.

 

पुलिस सूत्रों के मुताबिक जांच में उबर कंपनी के गुड़गांव ऑफिस में बताया गया कि क्लाइंट के पिक-ड्रॉप की कोई लॉग बुक नहीं है. और सारा ब्यौरा अमेरिका में कंपनी हेडक्वार्टर के सर्वर में रहता है.

 

भारत में उबर का कोई कॉल सेंटर नहीं है और इससे ग्राहकों के लिए जोखिम का अंदाजा लगाया जा सकता है.

 

बहरहाल, पुलिस सूत्रों के मुताबिक आरोपी प्राइवेट कैब ड्राइवर की पहचान शिव कुमार यादव के रूप में की गई है. देर रात पुलिस ने मथुरा से कैब जब्त भी कर ली है लेकिन आरोपी गिरफ्त से बाहर है.

Crime News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Woman professional raped by cab driver
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017