गरीब बच्चों के लिए 1.35 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप

गरीब बच्चों के लिए 1.35 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप

छठी कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक में पढ़ने वाले बच्चे इस स्कॉलरशिप के लिए टेस्ट दे सकते हैं. स्कॉलरशिप प्रोग्राम का मकसद उन बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ाना है, जो आर्थिक तंगी के चलते स्कूल को बीच में ही छोड़ देते हैं.

By: | Updated: 21 Oct 2017 12:12 PM

नई दिल्ली: टैलेंट 4 एश्योर ने आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों की मदद के लिए ‘साथ’ फाउंडेशन के साथ हाथ मिलाया है, जिसके तहत 1.35 करोड़ रुपए की स्कॉलरशिप दी जाएगी. इस स्कॉलरशिप का लाभ उठाने के लिए बच्चों को ऑनलाइन टेस्ट देना होगा. छठी से लेकर 12वीं तक की क्लास में पढ़ने वाले बच्चे इस स्कॉलरशिप के लिए टेस्ट दे सकते हैं. स्कॉलरशिप प्रोग्राम का मकसद उन बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ाना है, जो आर्थिक तंगी के चलते स्कूल को बीच में ही छोड़ देते हैं.


कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस ऑनलाइन टेस्ट का नाम बेस्ट है, जिसका अर्थ है 'बीइंग इनेब्लर स्कॉलरशिप टेस्ट'. यह टेस्ट 19 नवंबर को ऑनलाइन देना होगा. इस टेस्ट के लिए नामांकन करवाने की आखिरी तारीख 31 अक्टूबर है. सेल्फइनेब्लरडॉटकॉम लिंक पर जाकर टैलेंट4एश्योर की तरफ से करवाए जा रहे स्कॉलरशिप प्रोग्राम में हिस्सा लिया सकता है.


देश भर में ड्रॉप आउट बच्चों की संख्या काफी तेजी से बढ़ी है. आर्थिक कमजोरी के चलते बच्चे पढ़ नहीं पाते. इसे देखते हुए टैलेंट4एश्योर ने ‘साथ’ फाउंडेशन के साथ मिलकर देश में शिक्षा के क्षेत्र में बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ाने और आर्थिक तौर पर उनकी मदद करने का फैसला लिया है.


टैलेंट4एश्योर देश की बड़ी बड़ी कंपनियों को मूल्यांकन सेवा प्रदान करती है. वहीं लंबे समय से शिक्षा के क्षेत्र में ग्राउंड जीरो पर काम कर रही है. 'साथ' एनजीओ अनाथ बच्चों के लिए काम करती है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Education News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story CAT 2017 की परीक्षा आज, कैंडिडेट ये महत्वपूर्ण निर्देश ध्यान रखें