जीमेल का इनबॉक्स बदला, मेल खोजना हुआ आसान

By: | Last Updated: Friday, 19 July 2013 8:17 AM
जीमेल का इनबॉक्स बदला, मेल खोजना हुआ आसान

<p style=”text-align: justify;”>
जीमेल
ने अपने इनबाक्स में कुछ नए
बदलाव किए हैं. इंटरफेस में
किए गए इन बदलावों में सबसे
खास बात है मेल को पांच नए
कैटेगरी में पाया जा सकेगा.
जीमेल ने पिछले कई सालों में
एड-आन के तौर पर कई नई
सहूलियतें जोड़ी है. मसलन फोन
कॉल, वीडियो चैट, एसएमएस जैसी
सुविधा. <br /><br />2010 में जीमेल में
प्रिआरिटी इनबाक्स की
सुविधा लान्च हई थी. ये आपके
मेल बॉक्स में आने वाले मेलों
में से खास की छंटनी और उनके
लिए अलग स्थान देने की कोशिश
थी. लेबलिंग के जरिए पहले भी
जीमेल के इनबाक्स में आप मेल
को अलग-अलग जगहों पर मूव कर
सकते थे लेकिन इसे आपको खुद
करना होता था. अब लेबलिंग और
प्रिआरिटी सेवा को ही ज्यादा
उन्नत करके मैसेज कैटेगरी के
तौर पर विकसित किया गया है. <br /><br />पांच
प्रमुख वर्गों में बंटी इस
सुविधा में प्राइमरी, सोशल,
प्रमोशन्स, अपडेट्स और फोरम
नाम के खाने दिए गए हैं.
प्राइमरी में वो मेल अपने आप
आएंगे जो सीधे किसी शख्स ने
आपको भेजे हों. सोशल वर्ग में
सोशल नेटवर्किंग साइट्स की
सूचनाएं, मीडिया शेयर साइट्स,
गेमिंग प्लेटफार्म्स आदि से
जुड़े मेल्स आएंगे. कंपनियों
के प्रमोशन वाले मेल प्रमोशन
वर्ग में आएंगे. अपडेट्स में
आपके बिल और स्टेटमेंट आएंगे
और फोरम में समूहों की
सूचनाएं. <br /><br />इसके अलावा आप
किसी भी मेल को इस वर्ग में रख
सकते हैं, किसी भी मेल को पिक
एंड ड्राप करने के बाद ये उसी
कैटेगरी में आना शुरू हो
जाएगा. जीमेल ने इन सभी
वर्गों को एक टैब के तौर पर
मैसेज बाक्स के ऊपर जगह दी है.
इस नए विकल्प को आप मेल पेज से
हटा भी सकते हैं.<br /><br />2012 के
आंकड़ों के मुताबिक जीमेल के
पास 425 मिलियन (42 करोड़ 50लाख)
एक्टिव यूजर थे. 2004 में अपनी
शुरूआत के वक्त ही जीमेल ने
एक जीबी स्पेस और थ्रेड मेल
जैसी सुविधाएं दी थी. इसी तरह
2006 में सबसे पहले मेल चैट की
सेवा से उसने अच्छी
लोकप्रियता बटोरी. <br /><br />2007 में
आईएमएपी की सुविधा देने का
बाद जीमेल पहला मेल प्रोवाइर
बना, जिसे कही भी एक्सेस किया
जा सकता था. 2007 में ही जीमेल 40
भाषाओं में मौजूद था, जो अब 57
भाषाओं में मौजूद है. 2008 में
एंड्राएड प्लेटफार्म पर आने
वाला पहली मेल सर्विस बना
जीमेल. <br /><br />2010 में ही जीमेल ने
ऑफलाइन जीमेल सेवा की शुरूआत
की. 2011 में पहली बार जीमेल मे
अपने लुक को बदला. 2013 में
मल्टीटास्किंग की सुविधा को
जीमेल में शामिल हो गई, अब
इनबाक्स में रहते हुए एक
पॉपअप में आप किसी को भी मेल
भेज सकते हैं. जीमेल गूगल
कंपनी की मेल सेवा है.<br />
</p>

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: जीमेल का इनबॉक्स बदला, मेल खोजना हुआ आसान
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ???? ????? ???? ?????????? ?????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017