फेसबुक-वॉट्सएप्प की 19 बिलियन डॉलर डील खतरे में?

By: | Last Updated: Friday, 7 March 2014 12:53 PM
फेसबुक-वॉट्सएप्प की 19 बिलियन डॉलर डील खतरे में?

नई दिल्ली: प्राइवेसी एडवोकेट्स की सक्रियता बढ़ने से फेसबुक के मालिक मार्क जकरबर्ग की 19 बिलियन डॉलर डील खतरे में पड़ती नजर आ रही है. लोगों की निजता का सम्मान करने वाले प्राइवेसी एडवोकेट्स फेसबुक-वॉट्सएप्प की इस डील के खिलाफ मुखर हो मैदान में आ डटे हैं. प्राइवेसी एडवोकेट्स ने फेसबुक से सवाल पूछा है कि वॉट्सएप्प के अधिग्रहण के बाद 45 करोड़ वॉट्सएप्प यूजर्स के पर्सनल डेटा के साथ फेसबुक क्या करेगी? इन एडवोकेट्स ने अमेरिकी रेग्यूलेटर्स से सिफारिश की है कि जब तक फेसबुक इस अहम सवाल का जवाब नहीं दे देती, तब तक इस डील को रोक दिया जाए.

 

मोबाइल फोन यूजर्स की पसंदीदा मेसेजिंग सर्विस वॉट्सऐप ने लंबे समय से ऐडवर्टाइजिंग के लिए यूजर डेटा कलेक्ट न करने का अपना वादा पूरी तरह से निभाया है. लेकिन फेसबुक द्वारा ओवरटेक किये जाने के बाद भी क्या ऐसा ही रहेगा, यह कहना काफी मुश्किल है. दो नॉन-प्रॉफिट ग्रुप्स इलेक्ट्रॉनिक प्राइवेसी इन्फर्मेशन सेंटर और सेंटर फॉर डिजिटल डिमॉक्रेसी ने फेडरल ट्रेड कमिशन में इस संबंध में बकायदा एक शिकायत दर्ज की है.

 

इस शिकायत में रेग्युलेटर्स से इस डील को इस नजरिये से जांचने की गुजारिश की गई है कि फेसबुक वॉट्सऐप के यूजर मोबाइल फोन नंबर्स और मेटाडेटा तक कितनी पहुंच रखता है. दुनिया की नंबर 1 सोशल नेटवर्किंग साइट अपने 1.2 बिलियन यूजर्स की उम्र, लिंग और दूसरी विशेषताएं ऐड्स के लिए बेचकर सबसे ज्यादा रेवन्यू जनरेट करती है.

 

फेसबुक ने इस शिकायत पर जारी की गई अफनी स्टेटमेंट में कहा है, ‘जैसा कि हमने बार-बार कहा है, वाट्सऐप एक अलग कम्पनी की तरह ही काम करेगी और हम प्राइवेसी और सिक्यॉरिटी के प्रति इसकी प्रतिबद्धताओं का सम्मान करेंगे.’ एफटीसी ने इस पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया.

 

फेसबुक ने पिछले महीने वॉट्सऐप को 19 बिलियन डॉलर में खरीदने की घोषणा कर के सबको चौंका दिया था. वॉट्सऐप अपनी सर्विस पर ऐड नहीं दिखाती है और अपने कुछ यूजर्स से एक डॉलर की ऐनुअल फीस लेती है. वॉटसऐप यूजर्स के मोबाइल फोन स्टोर करती है लेकिन अन्य ऑनलाइन सर्विसेज की तरह उनके यूजर नेम, ईमेल और दूसरी कॉन्टैक्ट इन्फर्मेशन इकट्ठा नहीं करती.

 

फेसबुक और वॉट्सऐप द्वारा बार-बार प्राइवेसी पॉलिसीज के न बदलने संबंधी आश्वासन दिये जाने के बावजूद ग्रूप्स ने एफटीसी फाइलिंग में लिखा है कि फेसबुक ने इससे पहले इन्स्टाग्राम की प्राइवेसी पॉलिसीज में भी बदलाव किया था. फेसबुक ने इन्स्टाग्राम को 2012 में ओवरटेक किया था.

 

रेग्युलेटर्स को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि फेसबुक अपनी डेटा कलेक्शन प्रैक्टिसेज से वॉट्सऐप की यूजर इन्फर्मेशन को दूर ही रखे. शिकायत में लिखा गया है, ‘वॉट्सऐप यूजर्स को नहीं पता है कि इस प्रो-प्राइवेसी मेसेजिंग सर्विस के साथ उनका डेटा भी फेसबुक की डेटा कलेक्शन प्रैक्टिसेज के हाथों बिक गया है.’

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: फेसबुक-वॉट्सएप्प की 19 बिलियन डॉलर डील खतरे में?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017