लालू की पार्टी में भगदड़ मचाने वाले सम्राट हैं कौन?

By: | Last Updated: Monday, 24 February 2014 1:41 PM
लालू की पार्टी में भगदड़ मचाने वाले सम्राट हैं कौन?

कायदे कानून को ताक पर रखकर किसी जमाने में लालू ने जिस सम्राट चौधरी को बिहार का मंत्री बनाया था उसी राकेश कुमार उर्फ सम्राट चौधरी ने लालू की पार्टी तोड़ दी. सम्राट चौधरी उन शकुनी चौधरी के बेटे हैं जिन्हें नब्बे के दशक में बिहार में कोइरी जाति का सबसे बड़ा नेता माना जाता था. 1999 में लालू ने शकुनी चौधरी को समता पार्टी (नीतीश की पार्टी) से तोड़कर अपनी पार्टी में शामिल कराया था.

 

शकुनी खगड़िया से समता पार्टी के सांसद हुआ करते थे. पत्नी तारापुर से विधायक थीं और बेटे सम्राट को जो कि न तो विधायक थे और ना ही विधान परिषद के सदस्य उन्हें राबड़ी मंत्रिमंडल में मंत्री बनवा दिया. वो भी कैबिनेट मंत्री. तब बिहार की राजनीति में उम्र को लेकर इतना बड़ा विवाद हुआ कि राज्यपाल ने 16 नवंबर 1999 को सम्राट चौधरी को बर्खास्त कर दिया. आधार बना कि सम्राट अभी पच्चीस साल के भी नहीं हैं.

 

 कोर्ट में दिये एक हलफनामे को आधार माना गया जिसके हिसाब से तब सम्राट सिर्फ 19 साल के थे. और मंत्री बनने के लिए 25 साल कम से कम चाहिए. 19 मई 1999 को सम्राट बगैर किसी सदन के सदस्य रहते हुए मंत्री बने थे. 6 महीने पूरे होने वाले थे लेकिन तीन दिन पहले ही उन्हें बर्खास्त किया गया. उस वक्त बिहार में मंत्रियों की संख्या इतनी ज्यादा थी कि सम्राट को बागवानी मंत्री बनाया गया था. भगवान जाने इस मंत्रालय का काम क्या था. लेकिन राज्यपाल ने बर्खास्त करने के साथ ही मंत्री रहते हुए जितने भत्ते वेतन लिये थे सब वापस करवा लिये.

 

सम्राट के पिता शकुनी चौधरी 31 अक्टूबर 1994 को समता पार्टी में शामिल हुए थे. उसी साल जॉर्ज नीतीश के नेतृत्व में समता पार्टी बनी थी. 31 अक्टूबर को पटना के गांधी मैदान में बिहार पुनर्निर्माण रैली में शकुनी शामिल हुए थे. तब वो बिहार सरकार में मंत्री हुआ करते थे. मंत्री की कुर्सी को छोड़कर समता पार्टी में शामिल हुए थे. लेकिन पांच साल तक समता पार्टी में रहने के बाद बेटे को मंत्री बनवाकर लालू के पाले में लौट गये थे. सम्राट के पास तीन तरह के उम्र के कागजात हैं. जन्म तिथि में कुछ और है तो मैट्रिक के सर्टिफिकेट में कुछ और . लेकिन मंत्री पद से हटाने के लिए 1995 में उस हलफनामे का सहारा लिया गया जिसमें उन्होंने हत्या के केस में आरोपी होने से बचने के लिए अपनी उम्र 15 साल (1 मई 1981) बताई थी. इस हिसाब से मंत्री बनने के समय वो सिर्फ 18-19 साल के ही थे.

 

शकुनी चौधरी के सियासी सफर के खात्मे के बाद सम्राट उनके वारिस बने. खगड़िया जिले की परबत्ता सीट से विधायक का चुनाव जीते. और इस बार खगड़िया से लोकसभा लड़ने की मंशा पाले हुए थे. लेकिन कांग्रेस से समझौते के तहत ये सीट बिहार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष महबूब अली कैसर के खाते में जाने वाली थी. इस परिस्थिति को सम्राट समझ चुके थे और नीतीश ने उनकी महत्वकांक्षा को अपने सियासी फायदे के लिए हथियार बनाया. खगड़िया से अभी जेडीयू के दिनेश चंद्र यादव सांसद हैं. अब अगर सदस्यता बची रही तो या तो सम्राट बिहार में मंत्री बनेंगे या फिर भागलपुर या कहीं और से लोकसभा लड़ेंगे.

 

2009 के लोकसभा चुनाव में शकुनी चौधरी आरजेडी के टिकट पर भागलपुर से लड़ के शाहनवाज हुसैन के हाथों हार गये थे. 2010 में शकुनी विधानसभा भी हार गये. तब से वो साइ़ड चल रहे थे और विरासत सम्राट के हाथ में है. सम्राट को अपने साथ करके नीतीश ने उपेंद्र कुशवाहा के जाने से जो कोइरी नेतृत्व की कमी हुई थी उसे भी पूरा करने की कोशिश की है. सम्राट आरजेडी के चीफ व्हिप थे. जिन विधायकों के दम पर सम्राट ने पार्टी तोड़ने का दावा किया है उनमें से कई विधायक सम्राट पर धोखा करने का आरोप लगा रहे हैं. विधायकों का कहना है कि खगड़िया से सम्राट को टिकट दिये जाने की मांग को लेकर चिट्ठी पर दस्तखत किए गए थे. लेकिन सम्राट ने धोखा दिया. एक बार फिर सम्राट कागजों की धोखाखड़ी में फंस रहे हैं. देखिये क्या होता है आगे…..

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: लालू की पार्टी में भगदड़ मचाने वाले सम्राट हैं कौन?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

स्मार्टफोन कंपनियों को सरकार का नोटिस, पूछा- क्या हैं डेटा की सुरक्षा के इंतजाम
स्मार्टफोन कंपनियों को सरकार का नोटिस, पूछा- क्या हैं डेटा की सुरक्षा के...

नई दिल्लीः देश के मोबाइल फोन यूजर्स की सिक्योरिटी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने कड़ा कदम उठाया...

बाजार में आने से पहले ही जियोफोन को लेकर वोडाफोन ने लिखी सरकार चिट्ठी
बाजार में आने से पहले ही जियोफोन को लेकर वोडाफोन ने लिखी सरकार चिट्ठी

नई दिल्‍ली: देश की दूसरी सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी वोडाफोन का मानना है कि ​रिलायंस जियो के...

केंद्र सरकार ने ‘ब्लूव्हेल चैलेंज’ गेम हटाने को लेकर गूगल, फेसबुक और माइक्रोसॉफ्ट को लिखी चिट्ठी
केंद्र सरकार ने ‘ब्लूव्हेल चैलेंज’ गेम हटाने को लेकर गूगल, फेसबुक और...

नई दिल्लीः केंद्र सरकार ने जानलेवा गेम ‘‘ब्लूव्हेल चैलेंज’’पर रोक लगाने की अपील की है. केंद्र...

JioPhone की शुरु हुई बीटा टेस्टिंग, जानें इस फोन से जुड़ी सभी बड़ी बातें
JioPhone की शुरु हुई बीटा टेस्टिंग, जानें इस फोन से जुड़ी सभी बड़ी बातें

नई दिल्लीः रिलायंस के जियोफोन का बीटा ट्रायल आज से शुरु हो रहा है. हालांकि ये साफ नहीं है कि ये...

RCom का नया सबसे बेहतरीन प्लान, 70 रुपये में 1 साल के लिए अनलिमिटेड डेटा
RCom का नया सबसे बेहतरीन प्लान, 70 रुपये में 1 साल के लिए अनलिमिटेड डेटा

नई दिल्लीः भारतीय टेलीकॉम इंडस्ट्री में जियो के आने के बाद से ही सस्ते डेटा टैरिफ की बाढ़ सी आई...

आजादी के 70 सालः गूगल ने स्वतंत्रता दिवस पर बनाया बेहतरीन डूडल
आजादी के 70 सालः गूगल ने स्वतंत्रता दिवस पर बनाया बेहतरीन डूडल

नई दिल्ली: भारत के 71वें स्वतंत्रा दिवस पर सर्च इंजन गूगल ने तिरंगे के रंग में रंगा डूडल बनाया है....

मेनका गांधी ने 'ब्लू व्हेल चैलेंज' को सोशल मीडिया से हटाने की मांग की
मेनका गांधी ने 'ब्लू व्हेल चैलेंज' को सोशल मीडिया से हटाने की मांग की

नई दिल्ली: केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने गृह मंत्री और सूचना...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017