...तो क्या एपल ने यूजर्स के साथ किया अबतक का सबसे बड़ा धोखा

By: | Last Updated: Friday, 5 December 2014 5:54 AM
Apple admits to deleting songs from users’ iPods without permission

नई दिल्ली: गैजेट बनने वाली दिग्गज कंपनी एपल ने एक चौंकाने वाली बात स्विकारी है. इसे यूजर्स के साथ एक बड़े धोखे के तौर पर भी देखा जा सकता है. कंपनी ने स्विकार की गई इस गलत हरकत के बारे में जो हैरान करने वाली बात बताई है, वो यह है कि कंपनी ने यूजर्स को बिन बताए उनके डिवाइस से गाने डिलीट किए हैं.

 

एपल ने ऐसा उन (डाउनलोड किए गए) गानों के साथ किया है, जो एपल की सर्विस i-tunes स्टोर की जगह गाने डाउनलोड करने की सुविधा देने वाले किसी और प्रतिद्ंवदी सेवादाता के यहां से किया गया था. एपल के खिलाफ इससे जुड़ा एक कानूनी मामला अमेरिका के कैलिफोर्निया स्थिति ऑकलैंड जिला कोर्ट में चल रहा है.

 

कपंनी ने अपने यूजर्स के साथ सिर्फ इतना ही नहीं किया है. कपंनी गानों डिलीट करवाने का जो रास्ता अख्तियार किया, वो हैरान करने वाला है. साथ ही, यूजर्स को इस बारे बिल्कुल ही कोई जानकारी नहीं दी गई.

 

कोर्ट में दिए गए एक बयान के अनुसार जब कभी एपल यूजर, अपने डिवाइस में डाउनलोड (एपल के अलावा किसी दूसरी सर्विस से) किए गए गानों को आई-टयून से जोड़ने की कोशिश करता था, तो हर बार एक एरर (प्रॉब्लम/दिक्कत) मैसेज सामने आ जाता था.

 

एरर मैसेज में यूजर को फैक्ट्री सेंटिंग को रिस्टोर करने को कहा जाता था. किसी भी डिवाइस में फैक्ट्री सेटिंग को रिस्टोर करने के बाद फोन में मौजूद सबकुछ डिलीट हो जाता है. सामने आ रही बातों के आधार पर यह साबित होता है कि यूजर्स को फ्कट्री सेटिंग रीसेट करने कै मैसेज देकर, एपल ने उन्हें अपने डेटा को पूरी तरह से डिलीट करने को मजबूर किया है.

 

जो इस मामले से जुड़ा केस लड़ रहा है उसका कहना है कि एपल ने एक ऐसा माहौल तैयार करने की कोशिश की जिससे कंपनी के यूजर्स सिर्फ और सिर्फ उसके द्वारा दी जा रही सुविधा में ही बंध कर रह जाएं.

 

वादी (जो एपल के खिलाफ मामला कोर्ट में ले गया है) ने कोर्ट को 2003 में स्टीव जॉब्स द्वारा कंपनी (एपल) को भेजा गया एक मेल को दिखाया है. मेल में एक और प्रतिद्वंदी द्वारा लांच की जा रही म्यूजिक सुविधाओं के बारे में लिखा गया है, “हमें यह बात तय करनी होगी कि जब एक जैसा म्यूजिक कहीं और लांच हो, तो वे (यूजर्स) आई-पौड का इस्तेमाल मत कर पांए.”

 

एपल के वकील ने इस बात से इनाकर किया है और कहा है कि कंपनी ने प्रतिस्पर्धा को गलत भावना से वहीं निभाया है. ट्रायल के दौरान एपल के कई बड़े अधिकारियों का बयान लिया जाना है.

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Apple admits to deleting songs from users’ iPods without permission
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: admit Apple delete iPod permission Song user
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017