एयरटेल की वीओआईपी दरें अलग करना किसी नियम का उल्लंघन नहीं: राहुल खुल्लर

By: | Last Updated: Sunday, 28 December 2014 12:29 PM
Can’t fault Airtel on VoIP rates

नई दिल्ली: एयरटेल ने हाल में ही अपने वीओआईपी(वॉइस कॉलिंग) डेटा प्लान का ऐलान किया है. एयरटेल यूजर इस कदम से अभी थोड़े निराश है पर टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया ट्राई ने इसे गैरकानूनी ना बताते हुए सही ठहराया है.

 

अंग्रेजी अखबार द फाइनेंशियल एक्प्रेस को दिए गए इंटरव्यू में ट्राई चीफ राहुल खुल्लर ने कहा, ये कदम नेट नेचुरैटलिटी के अनुसार सही नही है पर इस तरह एयरटेल का वीओआईपी डेटा पैक अलग करने का निर्णय गैरकानूनी भी नहीं कहा जा सकता.

 

खुल्लर ने आगे बताया कि, वाइबर और स्काइप जैसे एप के लिए हमारे पास कोई भी रेगुलेटरी नियम नहीं है, ओवर द टॉप OTT सर्विस(व्हाट्सएप, वीचैट) के अनुसार ही नियम बनाए जाते हैं अगर कोई भी कंपनी इसके अलावा किसी सर्विस के लिए एलग नियम बनाती है या नई दरें लागू करती है तो यह कतई गैगकानूनी नहीं होगा.

 

  

एयरटेल के नए डेटा प्लान के तहत अब आपको 75 रुपये में 75 एमबी डेटा मिलेगा जो 28 दिनों के लिए मान्य होगा. बीते दिन सूचना प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इन दरों का समीक्षा करने की बात कही थी जिसके बाद एयरटेल ने अपना रुख साफ करते हुए अपनी नई दरों की लिस्ट जारी कर दी थी.

 

क्या है नेट नेचुरैलिटी

 

नेट नेचुरैलिटी एक नियम है जिसे कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी द्वारा 2003 में लाया गया था, इसके तहत इंटरनेट डेटा हर इस्तेमान के लिए समान होना चाहिए, साइट, कंटेंट, यूजर प्लेटफॉर्म के आधार पर अलग-अलग चार्ज नहीं होना चाहिए. 

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Can’t fault Airtel on VoIP rates
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017