क्या फेसबुक अकाउंट डिलीट कर देना चाहिए?

By: | Last Updated: Wednesday, 30 July 2014 6:22 AM
facebook_addiction

नई दिल्ली: हमने कई बार शराब और जुंए खेलने जैसी बुरी आदतों और नशे के बारे में सुना है. लेकिन अब एक रिसर्च में खुलासा हुआ है कि  इंटरनेट के इस दौर में फेसबुक भी एक नशा बन गया है.

 

जी हां, ये सच है फेसबुक भी अब एक बुरी आदत और नशा बन गया है. शिकागो यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च में यह बात सामने आई है कि सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट फेसबुक अब सिगरेट से कहीं ज्यादा लोगों को लत का शिकार बना रही है.

 

लेकिन सवाल है कि आखिर आप पता कैसे लगाएंगे कि आपको फेसबुक की लत लग चुकी है? अगर आप फेसबुक के पेज को बिना चेक किए नहीं रह पाते और अपने काम, दोस्तों व रिश्तेदारों के बीच भी आपको हर वक्त अपनी फेसबुक नोटिफिकेशन और वॉल को देखने का मन करता रहता है, तो आप भी उन लोगों में शुमार हो चुके हैं जिन्हें फेसबुक के ओवर यूज की आदत पड़ चुकी है.

 

इस तरह की फेसबुक लत के कई निगेटिव लक्षण हैं लेकिन हम आपको कुछ तथ्य बताते हैं जो आपको ये सोचने पर मजबूर कर सकते हैं कि क्या आपको अपना फेसबुक अकाउंट डिलीट कर देना चाहिए?

 

  • अपने पूर्व गर्लफ्रेंड-ब्वॉयफ्रेंड या पति-पत्नी को फेसबुक पर देख आपकी निजी समृद्धि रुक सकती है और आपको भावनात्मक रुप से उबरने में भी फेसबुक बाधा पहुंचा सकती है.

  • फेसबुक का जरूरत से ज्यादा प्रयोग तलाक के कारणों में से एक बड़ा कारण भी बन सकता है.

  • फेसबुक पर ज्यादा समय खर्च करने से आपकी आपनी जिंदगी में खुशियां कम हो सकती हैं और आपके जीवन में दुख की भावनाएं बढ़ा सकती हैं.

  • अगर आप फेसबुक पर अपनी न्यूज़ फीड को जुनून के साथ ऊपर नीचे करते हैं तो यह आपके अकेलेपन का कारण भी बन सकता है.

 

इस रिसर्च से पता चलता है कि जरूरत से ज्यादा समय फेसबुक पर बिताना न केवल हमारी निजी जिंदगी पर असर डालता है बल्कि हम एक बुरी लत का शिकार भी हो सकते हैं. रिसर्च के अनुसार एक औसत यूजर हर रोज 75 मिनट फेसबुक पर कर्च करता है और इसका मतलब है कि हम साल में 450 घंटे फेसबुक पर खर्च कर देते हैं.

 

बेहतर है कि फेसबुक पर जरूरत के मुताबिक ही समय खर्च किया जाए और इसका यूज इतना ज्यादा न हो जाए कि यह एक नशा बन जाए और हमें इस अकाउंट को डिलीट करने की जरूरत पड़ जाए.