फेसबुक फ्री बेसिक्स के ऑडिट के लिए तैयार, ट्विटर, गूगल का विकल्प भी खुला

By: | Last Updated: Monday, 28 December 2015 11:06 PM
Facebook’s Free Basics: Mark Zuckerberg makes renewed pitch

नयी दिल्ली: फेसबुक ने कंपनी की विवादास्पद फ्री बेसिक्स इंटरनेट सेवा का आज एक बार फिर बचाव करते हुए कहा कि वह इसकी प्रक्रिया की किसी भी तीसरे पक्ष की एजेंसी मसलन आईएएमएआई या नास्कॉम से जांच कराने को तैयार है.

 

फेसबुक के internet.org के उपाध्यक्ष क्रिस डेनियल्स ने कहा, ‘‘हम किन ऐप्स को स्वीकार करें और न करें और क्यों, इसके लिए हम तीसरी पार्टी से ऑडिट के लिए तैयार हैं. हमने इसके लिए आईएएमएआई और नास्कॉम का प्रस्ताव किया है. हम कहना चाहते हैं कि हमने कभी भी ऐसी ऐप से इनकार नहीं किया है जो दिशानिर्देशों के अनुकूल है. हमने इस पर ऑपरेटरों से भी बात की है कि हम उनके कहने पर ऐप्स खारिज नहीं करेंगे.’’ वह रेडिट पोर्टल पर जवाब दे रहे थे.

 

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के डाटा पहुंच के विभिन्नीकृत मूल्य को लेकर जारी परिपत्र पर टिप्पणी देने की आखिरी तारीख नजदीक आ रही है. ऐसे में सोशल मीडिया क्षेत्र की दिग्गज कंपनी ने अपने विवादास्पद इंटरनेट प्लेटफार्म को भारत में बचाने के लिए कवायद शुरू कर दी है.

 

फेसबुक की प्रस्तावित फ्री बेसिक्स योजना में उपयोक्ता शिक्षा, हेल्थकेयर व रोजगार जैसी सेवाएं अपने मोबाइल फोन पर उस ऐप के जरिए नि:शुल्क (बिना किसी डेटा योजना के) हासिल कर सकते हैं जो कि इस प्लेटफार्म के लिए विशेष रूप से बनाया गया है.

 

यानी फ्री बेसिक्स में उपयोक्ता कुछ वेबसाइटें नि:शुल्क खोल सकते हैं लेकिन इसके साथ ही यह यूट्यूब, गूगल या ट्विटर आदि बाकी वेबसाइटों की अनुमति नहीं देती. आलोचकों ने कंपनी की इस पहल को नेट निरपेक्षता के सिद्धांत का कथित उल्लंघन बताया है.

 

डेनियल्स ने कहा कि फ्री बेसिक्स उन दूरसंचार ऑपरेटरों के प्लेटफार्म पर पेश नहीं की जाएगी जहां किसी एप्लिकेशन को खारिज करना उनकी भागीदारी की शर्त होगा. उन्होंने कहा कि हम अपने प्लेटफार्म पर ट्विटर, गूगल प्लस आदि भी देने को तैयार हैं जिनकी लोग मांग करेंगे.

 

इससे पहले फेसबुक के संस्थापक जुकरबर्ग ने वीडियो पोस्ट में कहा, ‘हमारा मानना है कि कनेक्टिविटी एक मानवाधिकार है और दुनिया के लिए कनेक्टिविटी हासिल करना हमारी पीढ़ी के लिए बुनियादी चुनौतियां. लोग जब कनेक्टेड होंगे तो हम कुछ बहुत अच्छी चीजें कर सकते हैं.’ उन्होंने कहा है कि कनेक्टिविटी कुछ धनी और सक्षम लोगों का विशेषाधिकार नहीं बना रह सकता है और इसे ऐसा होना चाहिए कि सभी इसका फायदा उठाएं और यह सभी के लिए अवसर हो.

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Facebook’s Free Basics: Mark Zuckerberg makes renewed pitch
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017