फिटनेस गैजेट से सेहतमंद बनेगा भारत!

By: | Last Updated: Monday, 15 June 2015 6:03 AM
fitness gadgets for better health

नई दिल्ली: शहरी भारत की एक बहुत बड़ी समस्या है मोटापा और एक बार मोटापा शरीर को घेरा तो मुफ्त में बिमारियां भी शरीर को घेर लेंगी. शहरों की लग्ज़री ज़िंदगी, बुरी खाने पीने की आदतें बिमारियों का कारण बन रही हैं, WHO की रिपोर्ट के मुताबिक 20 फीसदी लोग भारत में ज़्यादा वज़न होने से ग्रसित हैं लेकिन लग्ज़री जीवन होना बेहतर तकनीक को भी न्यौता देती है.

 

आज के ज़माने में बाज़ार में सेहत को बनाने के ऐसे गैजेट उपलब्ध हैं जो आपको किसी भी क़ीमत पर सेहतमंद और फिट बना कर ही छोड़ेंगे . बाज़ार में आपकी सेहत को मांपने के लिए कुछ ऐसे गैजेट हैं जो आपकी दिल की धड़कनों से लेकर आपकी एक मिनिट की दौड़ को भी काउंट करेगा और आपके हर कदम पर निगाह रखेगा.

 

आजकल आपका स्मार्टफोन आपसे ज़्यादा स्मार्ट हो गया है, आपकी फिटनेस को ट्रैक करने के साथ साथ आपकी डाइट को भी साथ साथ मैनेज करता है, लेकिन ये जितना आसान लगता है उतना है नहीं क्योंकि मोबाइल पर कई डायट प्रोग्राम आपको अपने आप से ही मैनेज करने पड़ते हैं. 

 

अब तो गूगल एक ऐसे प्लान पर भी विचार कर रहा है जो अगर आप खाने की तस्वीरें मोबाइल पर रखेंगे तो भी उसे भांप कर तुरंत खाने में इस्तेमाल होने वाली कैलोरीज़ की जानकारी दे देगा.  लेकिन फिलहाल भारत में एक सीमित बाज़ार है सेहत से जुड़े गैजेट्स का और ये एप्स भी भारत तक पहुंचने में काफी वक्त लग जाएगा.

 

कौन से गैजेट रखेंगे आपको तंदरुस्त!

हम सब जौगिंग, दौड़ने को बहुत अच्छी कसरत मानते हैं, दौड़ लगाने  और किस तरह से दौड़ना है ये सब एक स्मार्टफोन एप बताता है Firstrun लेकिन जानकार कहते हैं कि आप मोबाइल हाथ में लेकर दौड़ते हुए सहज महसूस नहीं कर पाते हो, इसीलिए आजकल बाज़ार में आपकी दौड़ को मांपने और मैंटेन करने के लिए गैजेट आ गए हैं.

 

GPS घड़ियां

ये घड़िया आपकी सहूलियत के लिए ही हैं जब आप दौड़ते हो तो किस स्पीड पर दौड़ रहें हैं, कितना दौड़ लिया है, कहां पर दौड़ रहे हैं, कितनी कैलोरीज़ जलाई ये सब GPS घड़ियों में मिलता है.

 

बस घड़ी पहनिए और निकल जाइए दौड़ पर, कैरी करने में सरल घड़ियां Garmin और Polar कंपनियों की आती हैं, पिछले साल Nike ने भी Fuelband पिछले साल लॉन्च किया था जो कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाया, तो  ज़रूरी नही कि सभी एक्सरसाइज़ के लिए इन गैजट का इस्तेमाल करें लेकिन फिर भी दौड़ते वक्त मोबाइल फोन का भार न सहते हुए लोगों का एक तबका जीपीएस घड़ियों का इस्तेमाल कर रहा है. कुछ लोग फुटबॉल के लिए भी ट्रेकिंग घड़ियों का इस्तेमाल करते हैं. ये सब Amazon पर उपल्बध हैं, क़ीमत लो बजट 5000 से शुरू होकर 50,000 तक जाती है.

 

फिटनेस ट्रैकर

 

कुछ मोबाइल को ही अपना लॉगर समझते हैं, जिसमें म्यूज़िक, कैमरा सब फीचर एक साथ मिल जाते हैं लेकिन फिटनेस करते वक्त या कोई बाहरी खेल में कितनी कैलोरीज़ जलानी है वो मोबाइल या स्मार्टफोन के साथ मुश्किल हो जाता है क्योंकि आजकल के स्मार्टफोन डेलिकेट होते हैं तो लोग सोचते हैं कि किसी गैजेट के भरोसे ही फिटनेस का आंकलन हो.

 

चाइनीज़ कंपनी Xiaomi का तो दावा है कि कुछ खास खेलों में आप मोबाइल फोन या स्मार्टफोन के सहारे नहीं रह सकते जैसे स्विमिंग ऐसा स्पॉर्ट है जहां स्टॉप वॉच, फिटनेस ट्रैकर की ज़रूरत पानी के अंदर है तो ऐसे में मोबाइल को ले जाना तो बेवकूफी होगी तो ऐसे में Xiaomi ने अपना फिटनेस ट्रैकर 999 रूपये में लाई जो वॉटर रेसिसटेंट है और आराम से स्विमिंग में पहना जा सकता है.

 

डॉक्टर तक मानते हैं कि फिटनेस को मांपने के इन गैजेट के सहारे ज़्यादा अच्छे परिणाम आते हैं क्योंकि ये गैजेट बॉडी से चिपके रहते हैं जिससे ज़्यादा अच्छे से समझ आता है कि कोई भी खेल में आप कैलोरीज़ कितनी जला रहे हैं और सेहत के प्रति सजगता भी आती है.

 

एक मिनट की दौड़

 

कुछ गैजेट तो एक मिनिट की दौड़ को भी काउंट कर सकते हैं साथ ही  आपकी हर सांस के साथ ये बताएंगे कि आपको कितनी फिटनेस की ज़रूरत है और कितना दौड़ना है . आजकल अपनी डायट को कंट्रोल करना भी मैनेजमेंट है.

 

Micromax YU

गैजेट बाज़ार में माइक्रोमैक्स अपनी धमक लगातर दर्ज करा रहा है. और यही वजह है कि इस कंपनी ने हेल्थ और फिटनेस बाज़ार पर भी अपनी एंट्री ले ली है. एक ऐसा गैजट जो आपकी हार्ट बीट और ब्लड प्रेशर काउंट करेगा.

 

कया फिटनेस मापना आपको फिट बनाएगा?

आपने देखा होगा कि आपके आस पास GYM, Fitness ट्रेनिंग सेंटर बढ़ गए होंगे और बीते 10 सालों में इस बिज़नेस में सबसे ज़्यादा इज़ाफा भी हुआ है. बड़े शहरों में लोगों की मैराथन में भी दिलचस्पी बढ़ी है , लोग अपने आप को फिट रखने के लिए उत्सुक हुए हैं.

 

ऐसे में सवाल ये है कि लोग फिटनेस को डाटा के रूप में मांपने में कितने  उत्सुक हैं और क्या इसमें खर्च करना चाहते हैं, कुछ डॉक्टर्स तो हिदायत देतें हैं कि ऑफिस अगर पास हो तो कार ड्राइव करने की जगह वॉकिंग करते हुए आए वो भी फिटनेस बैंड पहनकर तो आप को समझ आएगा कि आपकी सेहत को आप कैसे मांप सकते हैं.

 

वैसे ये भी एक सच है कि जो मोटा है वो अपना मोटापा कम करने के लिए डॉक्टर के पास कम जाएगा इसीलिए लोगों की रुचि ऐसे गैजेट की तरफ बढ़ी है जो डाटा बताने के साथ आपकों सेहतमंद भी रखेंगे.

 

अब सवाल ये है कि जितनी तेज़ी से तकनीकी गैजेट बुलंदी से बाज़ार में बिकने के लिए तैयार है ये लंबे समय तक आपको लाभकारी होंगे या फिर ये बस कुछ ताज़ातरीन खिलौनों की तरह है जो कुछ दिनों बाद धूल का हिस्सा होंगे, ये तो आपको तय करना है फिलहाल ये गैजेट आपको आकर्षित करने के लिए तैयार हैं. जो आपके हाथ में अच्छे भी लगेंगे और आपको सेहतमंद भी बनाएंगे.

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: fitness gadgets for better health
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: fitness gadgets
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017