कॉल ड्रॉप: आपकी कॉल डिस्कनेक्ट हुई तो मिलेगा पैसा

By: | Last Updated: Saturday, 17 October 2015 3:06 AM

नई दिल्ली: आपका भी कॉल ड्रॉप होता है मतलब फोन पर बात करते हुए फोन अचानक अपने आप कट जाता है. जो लोग इस परेशानी का शिकार है उनके लिए खुशखबरी आई है. ऐसा नहीं है कि अब कॉल ड्रॉप नहीं होगा लेकिन कॉल ड्रॉप के एवज में जो होगा वो आपको थोड़ी राहत जरूर देगा.

 

कॉल ड्रॉप क्या होता है

जब बातबीच में ही संपर्क टूट जाता है तो बात अधूरी रह जाती है लेकिन जनता के इस दर्द को दूर करने के लिए टेलीकॉम रेग्युलेटरी एसोसिएशन ऑफ इंडिया यानि ट्राई  ने कॉल ड्रॉप के बदले लोगों को टेलीकॉम कंपनियों से जुर्माना दिलवाने का इंतजाम कर दिया है. ट्राई यानि एक ऐसी स्वायत्त संस्था जो टेलीकॉम कंपनियों पर निगरानी रखती है और ग्राहकों के हित के लिए काम करती है.

 

मतलब ये है कि आपने फोन लगाया लेकिन आपके फोन काटने से पहले ही कॉल अपने आप कट जाता है तो एक कॉल कटने के बदले आपको एक रुपया मिलेगा. हालांकि इसके लिए अभी थोड़ा इंतजार करना होगा क्योंकि कॉल कटी तो जेब भरी ये नई व्यवस्था 1 जनवरी 2016 से लागू होगी.

 

नई व्यवस्था में और क्या होगा वो भी समझ लीजिए

फोन कटने पर आपको टेलीकॉम कंपनी की तरफ से एक रुपए का जुर्माना जरूर मिलेगा लेकिन एक दिन में ज्यादा से ज्यादा 3 बार. मतलब चौथी बार अगर फोन बीच में ही कटा तो कुछ नहीं मिलेगा. यानी एक दिन में 3 रुपए और महीने का अधिकतम 90 रुपए.

 

तय कौन करेगा कि फोन कटा या काटा

टेलीकॉम कंपनियां यानि आईडिया, वोडाफोन, एयरटेल जैसी दूसरी कंपनियां ये ही तय करेंगी की आपका कॉल ड्रॉप हुआ है या नहीं.  टेलिकॉम मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया की कंपनियों के पास ऐसा सिस्टम मौजूद है जिससे ये पता चल जाता है की कब तकनीकी समस्या की वजह से कॉल ड्रॉप यानि फोन कट गया है.

 

फिलहाल, टेलीनॉर इकलौती ऐसी टेलिकॉम ऑपरेटर है जो पहले से ही कॉल ड्राप होने पर अपने ग्राहकों को हर्जाना दे रही है. कॉल ड्राप का सिस्टम लागू करने के लिए ही टेलीकॉम कंपनियों को दिसंबर तक का वक्त दिया गया है.

 

आपको कैसे पता चलेगा

नई व्यवस्था के मुताबिक प्रीपेड ग्राहकों को टेलीकॉम कंपनिया फोन कटने के 4 घंटे के भीतर एक एसएमएस यानि मोबाइल पर मैसेज भेजकर बताएंगी कि आपकी कॉल ड्रॉप हुई थी और अब आपके अकाउंट में पैसे भेज दिए गए हैं.

 

जबकि जो मोबाइल ग्राहक पोस्टपेड इस्तेमाल करते हैं उनके महीने के बिल में कॉल ड्रॉप का ब्योरा दिया जाएगा और जो भी आपका बिल होगा उससे कॉल ड्रॉप का जुर्माना घटा दिया जाएगा. मतलब अगर आपका एक महीने का फोन का बिल 500 रुपए और कॉल ड्रॉप का हर्जाना 50 रुपए हुआ तो आपको सिर्फ 450 रुपए का बिल भरना होगा.

 

ये सब तब हुआ है जब प्रधानमंत्री मोदी से लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली तक इस मुद्दे पर नाराजगी जता चुके हैं. जेटली ने तो वोडाफोन के सीईओ को फटकार लगाते हुए कहा था कि ऐसा लगता है कि वो 1995 से पहले वाले दौर में पहुंच गए  हैं. जब मोबाइल फोन थे ही नहीं.

 

जिन्हें जुर्माना मिलना है उनके लिए तो जाहिर तौर पर ये खुशखबरी है लेकिन जिन्हें जुर्माना देना है वो इस नई व्यवस्था का विरोध कर रहे हैं. उनका तर्क ये है कि बहुत से मोबाइल ऐसे होते हैं जिनकी सिग्नल पकड़ने की क्षमता दूसरे मोबाइल के मुकाबले कम होती है. ऐसे में अगर कॉल ड्राप हैंडसेट की कमी की वजह से होती है तो फिर कंपनी क्यों हर्जाना भरे.

 

कंपनियों का जुर्माना नहीं देने के पीछे दूसरा तर्क ये है कि अगर एयरटेल नेटवर्क वाले ग्राहक ने वोडाफोन नेटवर्क वाले ग्राहक को फोन किया अब अगर वोडाफोन के नेटवर्क के चलते फोन कटा तो फिर एयरटेल जुर्माना क्यों भरे?

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: From Next Year, You Will be Paid For Call Drops, But Only 3 a Day
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017