उबर को टक्कर देने आ रही है गूगल कैब सर्विस

By: | Last Updated: Wednesday, 4 February 2015 3:39 AM
google-to-start-uber-like-cab-service

सिंबोलिक इमेज़

नई दिल्ली: दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट कंपनी गूगल जल्द ही ऐपलीकेशन आधारित कैब सेवा शुरू करने की तैयारी में है. आपको जानकार हैरानी होगी कि इस समय अपने सिस्टम की वजह से आलोचना झेल ही उबर कैब सर्विस में गूगल की बड़ी हिस्सेदारी है.

 

गूगल ने साल 2013 में अपनी निवेशक कंपनी गूगल वेंचर्स के जरिये उबर टैक्सी में करीब 258 मिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश किया था जो गूगल वेंचर्स की तरफ से किसी भी क्षेत्र में किया गया अब तक का सबसे बड़ा निवेश है.

 

 

न्यूज़ वेबसाइट ‘ब्लूमबर्ग न्यूज़’ के मुताबिक गूगल की इस नई पहल के पीछे मुख्य वजह गूगल अपने एक महत्वाकांक्षी योजना ‘ड्राइवरलैस कार’ पर काम कर रहा है, लेकिन जब गूगल को पता चला कि उबर भी ऐसे ही एक प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है तो गूगल ने उबर से खुद को अलग कर उबर को सीधे टक्कर देने की विचार कर रहा है.

 

 

‘ब्लूमबर्ग न्यूज़’ में छपी खबर के मुताबिक गूगल अपने इस ऑटोनॉमस प्रोजेक्ट पर बहुत तेजी से काम कर रहा है. कुछ समय पहले गूगल के चीफ लैरी पेज ने अपने एक बयान में कहा था कि गूगल बिना ड्राइवर की कार बनाने के प्रोजेक्ट पर गूगल-X रिसर्च लैब में चल रही है. लैरी पेज़ ने यह भी कहा था कि कंपनी को भरोसा है कि अगले तीन से पांच सालों के भीतर ही हमारी यह कार दुनिया भर की सड़कों पर दौड़ती दिखाई देगी.

 

आपको बता दें गूगल ने अपनी कैब सर्विस के लिए एक ऐपलीकेशन भी बना लिया है. गूगल के कर्मचारी इस खास ऐपलीकेशन की टेस्टिंग में बिजी हैं. उबर की टैक्सी सेवा भी ऐप आधारित है.

 

खबरों के मुताबिक उबर ने भी कार्निज मेलन यूनीवर्सिटी के साथ पार्टनरशिप की घोषणा की है. उबर का कहना है कि इस पार्टनरशिप से उबर एडवांस्ड टेक्नोलॉजी सेंटर की शुरुआत करेगी. उबर भी ड्राइबर रहित कार बनाने की योजना पर तेजी से काम कर रहा है.

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: google-to-start-uber-like-cab-service
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017