Iphone बनाने वाली कंपनी Foxconn 10-12 केंद्र भारत में खोलेगी

By: | Last Updated: Wednesday, 15 July 2015 3:49 PM

नई दिल्ली: भारत के टेक बाज़ार के विस्तार के साथ अमेरिकी और चीनी कंपनियां भारत में निर्माण कार्य को आगे बढ़ाना चाहती हैं और इसी कड़ी में Foxconn जो कंपनी एप्पल के आईफोन का निर्माण करती है वो जल्द ही भारत में 10-12 मैन्यूफैक्चरिंग केंद्र खोलेगी, फौक्सकॉन के सीईओ ने हाल ही में भारत दौरा किया और सरकारी संकेत के मुताबिक कंपनी चाहती है कि वो 2020 तक फोक्सकॉन के 10-12 मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट भारत में खोले.

 

इशारों ही इशारों में फॉक्सकॉन के सीईओ ने कहा कि ये एक बेहतरीन मौका होगा भारत में रोज़गार के अवसर पैदा करने का. क्योंकि उनकी योजना के मुताबिक इससे भारत में 10 लाख नौकरियां दी जाएंगी और भारत सरकार के स्किल्ड इंडिया योजना के तहत स्किल्ड कर्मचारियों और इंजीनियर्स के लिए ज़्यादा से ज़्यादा जॉब क्रिएट हो सकेंगे.

 

फौक्सकॉन का इतिहास

दरअसल फौक्सकॉन का इतिहास भारत में अब से करीब 10 साल पहले जुड़ गया था जब उसने चैन्नई में अपना एक प्लांट खड़ा किया था लेकिन उस वक्त राजनैतिक इच्छाशक्ति ना होने के कारण प्लांट की गति आगे नहीं बढ़ पाई.

 

वैसे भी भारत में उस वक्त निर्माण कार्य की रफ्तार बेहद धीमी थी. लेकिन अब इस एमएनसी कंपनी का मानना है कि भारत में हालात बदल चुके हैं और प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया, स्किल इंडिया और मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाने की कवायद में ज़्यादा मौके उपलब्ध होंगे.

 

फौक्सकॉन का ये तक मानना है कि अब भारत सरकार व्यापारिक गतिविधी के लिहाज़ से ज़्यादा फ्रेंडली है. फौक्सकॉन के सीईओ Terry Gou ने भारत में तीन राज्यों के मुख्यमंत्रियों से भी मुलाकात की है जिसमें आंध्रप्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र शामिल है और यहां प्लांट निर्माण के लिए उन्होंने इच्छा भी जताई है. कहा है कि 10 साल पहले ये मुमकिन नहीं था लेकिन अब है इसीलिए कंपनी की योजना बड़ी है.

 

बढ़ता ऑनलाइन व्यापार

फौक्सकॉन का कहना है कि उसका बाज़ार मोबाइल हार्डवेयर बाज़ार से जुड़ा है इसीलिए उन्हें भी काफी हद तक ऑनलाइन बाज़ार पर निर्भर रहना पड़ता है और यही वजह है कि चूंकि भारत में ऑनलाइन मार्केट फल फूल रहा है तो ऐसे में संभावनाएं कंपनी के लिए ज़्यादा है क्योंकि कंपनी कई उद्यमियों को हार्डवेयर सहयोग आसानी से कर पाएगी.

 

कंपनी का ये भी कहना है कि भारत में कई तरह की समस्याएं भी हैं जो अगर थोड़ा भी सुधर जाए तो बात बन जाएगी जैसे बिजली किल्लत, इफ्रास्ट्रक्चर का कमज़ोर होना , टैक्स स्ट्रक्चर का दुरुस्त होना , लेटलतीफी और लालफीताशाही अगर ये सब समस्याएं सुलझती हैं तो कंपनी के लिए आसानी से रास्ते खुल जाएंगे.

 

भारत में स्पेक्ट्रम की क़ीमत भी ज़्यादा है मसलन कंपनी की तरफ से उदाहरण दिया गया कि चाइना में गूगल, अमेज़न, फेसबुक की तरह फौक्सकॉन की भी फैक्टरी है फिर इंडिया में क्यों नहीं इसीलिए इंडिया में इंफ्रास्ट्रक्चर होना बहुत ज़रूरी है. क्योंकि सिर्फ 2 साल में चीन में 4G 98 प्रतिशत तक फैल चुका है और भारत में सिर्फ 1 प्रतिशत तो अपग्रेडेशन में ढिलाई नहीं होनी चाहिए.

 

फौक्सकॉन को विश्वास है कि सरकार की तरफ से सकारात्मक कदम आगे बढ़ेगा और जल्द ही मंज़ूरी के बाद फैक्टरी लगाने का काम शुरू होगा तब जाकर लक्ष्य के मुताबिक 2020 से 10-12 मैन्यूफैक्चरिंग केंद्र खोले जा सकेंगे और फिर भारत में 10 लाख नौकरियां भी पैदा हो पाएंगी.

Gadgets News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Make in India: Foxconn
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017