नए शहर में बसने में मदद करेंगे ये स्मार्टफोन एप्लिकेशन

नए शहर में बसने में मदद करेंगे ये स्मार्टफोन एप्लिकेशन

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

नई दिल्ली: अगर आप किसी शहर में नए हैं और अभी भी यहां टिकने के लिए साधनों की तलाश में हैं, तो कुछ नए स्मार्टफोन एप्लिकेशन मददगार साबित हो सकती हैं.

 

'टाइम्ससेवर्ज', 'पेपरटैप' ओर 'अर्बनक्लैप' जैसी स्मार्टफोन एप्लिकेशन एटीएम, किराने का समान, घर की फिटिंग करनेवाले और निकटवर्ती ड्राईक्लीनर और प्लंबर का पता बताकर नए शहर में बसने में आप की मदद कर सकता है.

 

'पेपरटैप' की मदद से घर बैठे एक क्लिक करके आप ताजे फल-सब्जियां और किराने का सामान खरीद सकते हैं. 'अर्बनक्लैप' ऐप की मदद से विश्वस्नीय सेवा पेशेवरों से जुड़ सकते हैं.

 

'टाइम्जसेवर्ज' के जरिए सफाई से लेकर हर तरह की मरम्मत और घर से जुड़े कामों में आपको मदद मिल सकती है.

 

नवंबर, 2014 में शुरू हुई पेपरटैप सबसे तेज स्थानीय किराना समान आपूर्ति सेवा है, जो आपको कहीं भी, कभी भी किराने का सामान उपलब्ध कराती है.

 

इस समय यह सेवा पूरे गुड़गांव में उपलब्ध है. यह तेजी से विस्तार कर रही है.

 

पेपरटेप की सह संस्थापक नवनीत सिंह ने आईएएनएस को बताया, "किराने का सामान खरीदने में खासतौर से सप्ताहांत के दौरान मेरा समय बेकार होता था. मैं हमेशा सोचती थी कि इसका कोई उपाय होना चाहिए."

 

यहां उपभोक्ता अपने आर्डर ऐप के माध्यम से करते हैं और दो घंटों के अंदर उन्हें सामान पहुंचा दिया जाता है.

 

ऐप एंड्रॉयड और एप्पल के आईओएस दोनों मंचों पर उपलब्ध है.

 

टाइम्ससेवर्ज भारत की पहली मांग आधारित घर बैठे आपूर्ति सेवा है, जो सफाई से लेकर मरम्मत और सहायक तक की सेवाएं उपलब्ध कराती हैं और कागजी कार्रवाई करती है.

 

टाइमसेवर्ज के कार्यकारी प्रमुख और सहसंस्थापक देवदत्त उपाध्याय ने बताया, "यह मेट्रो शहरों में सही मूल्य में सही समय पर सही मदद के लिए किए गए संघर्ष के व्यक्तिगत अनुभव का सम्मिश्रण है."

 

टाइम्ससेवर्ज मुंबई, पुणे और बेंग्लुरू में सेवाएं देता है. इसने बताया कि इसमें पृष्ठभूमि की जांच के बाद ही कोई एजेंट रखा जाता है. यह बाजार कीमतों पर यहां तक कि बाजार से कम कीमतों पर सेवाएं उपलब्ध कराता है.

 

अर्बनक्लैप्स दिल्ली में से शुरू हुई है, यह इंटीरियर सजावट, फोटोग्राफी, इवेंट मैनेजमेंट जैसे क्षेत्रों में बेहतर पेशवेर सेवाएं पाने में उपयोगकर्ताओं की मदद करती है.

 

अक्टूबर 2014 में शुरू हुई अर्बनक्लैप्स के सह-संस्थापक वरण खेतान ने बताया, "एक गिटार शिक्षक, होम डिजाइनर, दर्जी और विवाह सजावट करने वाले और घर की खोज के दलाल की खोज की दर्दभरी यादों ने हमें यह ऐप शुरू करने को प्रेरित किया."

 

तो अगली बार नए शहर में बसने से पहले इन ऐप को सब्सक्राइब करके आप बहुत सी मुश्किलों से बच सकते हैं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story इस कैरेक्टर की वजह से क्रैश हो रहे हैं iPhone के एप