OMG! दिल्ली के बच्चों को है स्लीप एप्निया की समस्या

By: | Last Updated: Tuesday, 16 May 2017 9:20 AM
OMG! दिल्ली के बच्चों को है स्लीप एप्निया की समस्या

नई दिल्लीः अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के एक शोध में खुलासा हुआ है कि दिल्ली के निजी स्कूलों में पढ़ने वाले 15 से 20 फीसदी छात्र ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया (ओएसए या नींद में खर्राटा लेना) से पीड़ित हैं, जबकि सरकारी स्कूलों में सिर्फ दो फीसदी छात्र इससे पीड़ित हैं.

किसने की रिसर्च-
इस रिसर्च के पहले चरण में 7,000 छात्रों का परीक्षण किया गया है. इसे विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईएमसीआर) द्वारा किया जा रहा है. इस रिसर्च में 10-17 साल के आयु वर्ग वाले छात्रों को शामिल किया गया है.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट-
एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा कि हम एक रिसर्च कर रहे हैं, जिसके निष्कर्ष बताते हैं कि सरकारी स्कूलों में ओएसए बहुत मुश्किल से देखने को मिला. जबकि निजी स्कूलों में हमने छात्रों में ओएसए की मौजूदगी को देखा. इस पर अभी और रिसर्च होनी बाकी है, लेकिन जो आकड़ा पहले चरण में पाया गया, इतना चौंकाने वाला है कि हम जानना चाहते हैं कि अध्ययन के पूरा होने के बाद परिणाम क्या होगा.

क्या है स्लीप एप्निया के कारण-
स्लीप एप्निया ऊपरी वायु मार्ग में सोने के दौरान अवरोध की वजह से होता है. इसके दूसरे कारकों में मोटापा, आयु और आनुवांशिकता भी शामिल है. इनमें से मोटापा स्लीप एप्निया का सबसे बड़ा जोखिम कारक (12 से 15 साल आयु) है.

अब तक यह रिसर्च 13-14 स्कूलों में की गई है, जिसमें फादर एंजल स्कूल और दिल्ली पब्लिक स्कूल आरके पुरम और दूसरे स्कूल शामिल हैं. इसमें पाया गया है कि निजी स्कूलों में ओएसए की 15-20 फीसदी दर पाई गई है. इस प्रोजेक्ट के तहत पूरी दिल्ली के स्कूलों को शामिल करना लक्ष्य है, हालांकि अभी तक सिर्फ दक्षिण दिल्ली को कवर किया गया है.

निजी स्कूलों में ओएसए की अधिक मौजूदगी पर गुलेरिया ने कहा कि सरकारी स्कूलों की तुलना में निजी स्कूलों के छात्रों की आहार और जीवन शैली खराब है. आंकड़े यह भी दिखाते हैं कि सरकारी स्कूलों के बच्चों ने ज्यादा शारीरिक गतिविधि की, जिसमें टहलना आदि भी है.

First Published:

Related Stories

एन्वायरमेंटल एलर्जीः बदलते मौसम में कर सकती है परेशान
एन्वायरमेंटल एलर्जीः बदलते मौसम में कर सकती है परेशान

नई दिल्लीः क्या मौसम बदलते ही आपको भी खांसी-जुकाम, गला खराब या फिर चेस्ट में पेन होने लगता है?...

World No Tobacco Day: इस तरह आसानी से आप भी छोड़ सकते हैं स्मोकिंग!
World No Tobacco Day: इस तरह आसानी से आप भी छोड़ सकते हैं स्मोकिंग!

नई दिल्लीः हर साल 31 मई को ‘वर्ल्ड नो टोबैको डे’ मनाया जाता है. इस मौके पर हम आपको कुछ ऐसे टिप्स...

यूरिनरी लीकेज का हो सकेगा इलाज, नई जीन की हुई पहचान!
यूरिनरी लीकेज का हो सकेगा इलाज, नई जीन की हुई पहचान!

लंदन:  यूरिनरी लीकेज (मूत्र का रिसाव) की समस्या से जूझ रहीं महिलाओं के इलाज की दिशा में एक नई...

फेसबुक का ज्यादा इस्तेमाल बना सकता है अनहेल्दी!
फेसबुक का ज्यादा इस्तेमाल बना सकता है अनहेल्दी!

न्यूयार्क: फेसबुक प्रोफाइल को जो लोग हर समय जांचते रहते हैं, वे इसका कम इस्तेमाल करने वालों की...

गांजे का सेवन बढ़ा सकता है मसूड़ों के रोग को
गांजे का सेवन बढ़ा सकता है मसूड़ों के रोग को

न्यूयार्क: गांजे के विभिन्न रूपों- भांग, हशीश या उसके तेल का लगातार सेवन करने से मसूड़ों के...

लिवर कैंसर से बचना है तो रोजाना पीएं 5 कप कॉफी
लिवर कैंसर से बचना है तो रोजाना पीएं 5 कप कॉफी

लंदन: रोजाना पांच कप कॉफी पीने से आमतौर पर होने वाला लिवर का खतरा घटकर आधे से भी कम रह जाएगा. यह...

मुंबई में लॉन्च हुआ भारत का पहला डिजिटल सेनेटरी पैड बैंक
मुंबई में लॉन्च हुआ भारत का पहला डिजिटल सेनेटरी पैड बैंक

मुंबई: रविवार को विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस पर यहां मुंबई की स्थानीय विधायक भारती लवेकर की...

... तो ये है दीपिका पादुकोण की फिटनेस का राज!
... तो ये है दीपिका पादुकोण की फिटनेस का राज!

नई दिल्लीः बहुत ही कम समय में दीपिका पादुकोण ने बॉलीवुड में अपनी अहम जगह बनाई. लेकिन इसके अलावा...

अब बच पाएंगे हार्ट डिजीज़ से, नए जीन की हुई पहचान!
अब बच पाएंगे हार्ट डिजीज़ से, नए जीन की हुई पहचान!

लंदन: वैज्ञानिकों ने एक ऐसे जीन की खोज की है, जो हार्ट को कार्डियोवस्कुलर डिजीज़ से बचाता है....

बच्चों को अस्थमा से बचाना है तो प्रेग्नेंसी में लें विटामिन डी
बच्चों को अस्थमा से बचाना है तो प्रेग्नेंसी में लें विटामिन डी

लंदन: गर्भावस्था के दौरान विटामिन डी युक्त आहार लेने से नवजात शिशुओं की प्रतिरोधत क्षमता में...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017