74 प्रतिशत मानते हैं सरकारी अस्पतालों में है भ्रष्टाचार : सर्वे

74 प्रतिशत मानते हैं सरकारी अस्पतालों में है भ्रष्टाचार : सर्वे

हाल में हुए सर्वे में 74% लोगों ने माना कि सरकारी अस्पतालों में खरीद/आपूर्ति में होने वाला भ्रष्टाचार आम है.

By: | Updated: 29 Sep 2017 11:57 AM

नई दिल्ली:  हाल में हुए सर्वे में 74 प्रतिशत लोगों ने माना कि सरकारी अस्पतालों में खरीद/आपूर्ति में होने वाला भ्रष्टाचार आम है जबकि 2 प्रतिशत ने कहा कि ऐसा नहीं है. 24 प्रतिशत लोग इसके बारे में निश्चित नहीं थे.


क्यों करवाया गया ये सर्वे-
सरकारी अस्पतालों में उपकरण के खराब होने और ऑक्सीजन की अनुपलब्धता के कारण बड़ी संख्या में बच्चों की मौत हुई को देखते हुए लोकल सर्कल ने यह सर्वे कराया. इस सर्वे में 32,000 से ज्यादा लोगों ने वोट किया.


सर्वे में आए चौंकाने वाले खुलासे-
सर्वे में 59 प्रतिशत नागरिकों ने यह माना कि शहर के सरकारी अस्पतालों में सामानों और दवाओं की चोरी और बिक्री आम है. 3 प्रतिशत लोगों ने माना कि ऐसा नहीं है जबकि 38 प्रतिशत लोग इस बारे में निश्चित नहीं थे और अपने विचार जाहिर नहीं किए.


दवाई बाहर बेचते पकड़े गए कर्मचारी-
लोकल सर्कल ने अपने बयान में कहा कि ऐसे कई मामले सामने आए हैं जब सरकारी अस्पताल के कर्मचारियों को बाहर के व्यक्तियों को कम दाम में दवाइयां बेचते हुए पकड़ा गया है. यहां तक कि सीरिंज और पट्टियों जैसी चीजों को बाहरी लोगों को बेचा गया. सरकारी अस्पताल में दवाइयां पहुंचाने वाले अधिकांश आपूर्तिकर्ताओं को अपने बिल पास कराने के लिए भी रिश्वत देनी पड़ती है.


इसलिए सरकारी अस्पतताल जाते हैं लोग-
सर्वे में लोगों से पूछा गया कि सरकारी अस्पतालों में जाने का प्रमुख कारण क्या है. केवल 15 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वह सरकारी अस्पतालों पर निजी अस्पतालों से ज्यादा विश्वास करते हैं और 16 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वह कम लागत के कारण वहां जाते हैं. हैरानी की बात है कि 65 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे सरकारी अस्पतालों में नहीं जाते और 4 प्रतिशत ने कहा कि सरकारी अस्पताल ही उनके शहर में एकमात्र विकल्प है.


कैसे कम हो सकता है भ्रष्टाचार-
सर्वे में उपभोक्ताओं से जब पूछा गया कि राज्य सरकार के अस्पतालों में भ्रष्टाचार को कैसे कम किया जा सकता है.


भ्रष्टाचार कम करने के सवाल पर 40 प्रतिशत लोगों ने कहा कि राज्य की भ्रष्टाचार रोधी इकाइयों को मजबूत करके ऐसा किया जा सकता है. 18 प्रतिशत ने कहा कि इन अस्पतालों का निजीकरण करके ऐसा किया जा सकता है और 29 प्रतिशत लोगों ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक खरीद को अनिवार्य करके भ्रष्टाचार कम किया जा सकता है.


नोट: ये रिसर्च के दावे पर हैं. ABP न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता. आप किसी भी सुझाव पर अमल या इलाज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Health News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story सचमुच स्किन को गोरा कर सकता है मशरूम, कई तरह से त्वचा के लिए फायदेमंद है मशरूम