क्या सचमुच अब जानलेवा बीमारी होने पर मिल सकेगी इच्छामृत्यु!

By: | Last Updated: Friday, 19 May 2017 10:13 AM
क्या सचमुच अब जानलेवा बीमारी होने पर मिल सकेगी इच्छामृत्यु!

मेलबर्न: आस्ट्रेलिया का विक्टोरिया प्रांत मरणासन्न मरीजों को इच्छामृत्यु की इजाजत देने संबंधि कानून लाने पर विचार कर रहा है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार मंत्री स्तरीय एक सलाहकार समिति इस ऐतिहासिक कानून का मसौदा तैयार कर रहा है, जो मरणासन्न मरीजों को इच्छामृत्यु की इजाजत देगा.

इस सलाहकार समिति का गठन विक्टोरिया में जीवन के आखिरी दौर से गुजर रहे स्वस्थ दिमाग वाले व्यस्क व्यक्तियों को इच्छामृत्यु की इजाजत देने की सिफारिश की जांच के बाद 2016 में किया गया.

जांच रिपोर्ट में की गई सिफारिश के बावजूद संसदीय समिति मरणासन्न व्यक्ति के जीवन के आखिरी क्षणों की समयसीमा तय करने पर विचार कर रहा है, जो 6, 12, 18 या 24 महीने हो सकती है.

समिति को इच्छामृत्यु की पात्रता के संबंध में रूपरेखा तैयार करने के लिए पूरे प्रांत से 300 से अधिक सुझाव-पत्र मिले हैं.

संसदीय समिति के अध्यक्ष ब्रायन ओलर ने आस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कार्पोरेशन (एबीसी) से कहा, “इस बात पर हम सभी एकमत थे कि मरीज की ‘चिरस्थायी असहनीय पीड़ा’ का निर्धारण खुद मरीज के विचार के आधार पर तय होना चाहिए, न कि दूसरों के.”

प्रस्तावित कानून के मुताबिक, डिमेंशिया पीड़ित व्यक्ति इच्छामृत्यु की मांग नहीं कर सकते, क्योंकि ऐसे मरीजों में निर्णय लेने की क्षमता नहीं होती. हालांकि मोटर न्यूरॉन, पार्किं सन और मल्टी सीलेरोसिस से पीड़ित मरीज इच्छामृत्यु के हकदार होंगे.

समिति के प्रस्तावों के मुताबिक, इच्छामृत्यु की मांग मरीज की ओर से उठनी चाहिए और मरीज द्वारा इस तरह की मांग तीन बार किए जाने के बाद ही उस पर विचार किया जाएगा. मरीज को तीन बार इच्छामृत्यु की इजाजत मांगने के लिए कम से कम एक बार लिखित आवेदन करना होगा.

इच्छामृत्यु की मांग पर मजूंरी हासिल करने के लिए विशेष प्रशिक्षण प्राप्त और कम से कम पांच वर्ष के अनुभवी दो स्वतंत्र चिकित्सकों की मंजूरी लेनी होगी.

First Published:

Related Stories

डिप्रेशन को कम करने में मददगार होता है बाउलडरिंग
डिप्रेशन को कम करने में मददगार होता है बाउलडरिंग

न्यूयॉर्क: मसल्स बनाने और करतब करने के अलावा बगैर रस्सी के सहारे पहाड़ों पर या दीवारों पर चढ़ने...

गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए बेहद खतरनाक है जीका वायरस
गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए बेहद खतरनाक है जीका वायरस

वाशिंगटन: एक नए स्टडी के अनुसार जीका वायरस गर्भ में पल रहे बच्चों के लिए हमारी सोच से ज्यादा...

रमजान के महीने में खुद को स्वस्थ रखने के लिए इन बातों का ख़याल रखें
रमजान के महीने में खुद को स्वस्थ रखने के लिए इन बातों का ख़याल रखें

नई दिल्ली: मुसलमानों के लिए रमजान का पवित्र महीना खास अहमियत रखता है. मुस्लिम धर्म में आस्था...

क्‍या ऑफिस आने-जाने में आप भी घंटों ट्रैवल करते हैं? तो ये खबर जरूर पढ़ें
क्‍या ऑफिस आने-जाने में आप भी घंटों ट्रैवल करते हैं? तो ये खबर जरूर पढ़ें

नई दिल्लीः अगर कोई आपको कहता है कि ऑफिस पहुंचने में रोजाना एक घंटे का ट्रैवल करना पड़ता है तो...

सावधान! बच्चों और टीनेजर्स का DNA डैमेज कर सकता है पॉल्‍यूशन
सावधान! बच्चों और टीनेजर्स का DNA डैमेज कर सकता है पॉल्‍यूशन

नई दिल्लीः हाल ही में आई रिसर्च में वैज्ञानिकों ने चेताया है कि ट्रैफिक रिलेटिड हाई लेवल एयर...

आर्टरी डिजीज़ के लिए फल और सब्जियां हैं फायदेमंद!
आर्टरी डिजीज़ के लिए फल और सब्जियां हैं फायदेमंद!

न्यूयॉर्क: रोजाना अपने आहार में फलों और सब्जियों की मात्रा बढ़ाने से पैरों में रक्त प्रवाह को...

अस्थमा को काबू में रखेगा ये पहनने वाला यंत्र
अस्थमा को काबू में रखेगा ये पहनने वाला यंत्र

न्यूयार्क: शोधकर्ताओं ने ग्रैफीन-आधारित सेंसर का निर्माण किया है, जो फेफड़ों में सूजन का पता...

टीबी की टैबलेट्स अब आएंगी ऑरेंज और स्ट्राबेरी फ्लेवर में
टीबी की टैबलेट्स अब आएंगी ऑरेंज और स्ट्राबेरी फ्लेवर में

नयी दिल्ली: आखिरकार टीबी से पीड़ित बच्चों को अब और कड़वी गोली नहीं खानी होगी. सरकार उसे...

मासिक धर्म के बारे में लड़कों को जागरूक करना जरूरी :सिसोदिया
मासिक धर्म के बारे में लड़कों को जागरूक करना जरूरी :सिसोदिया

नई दिल्ली: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि जहां मासिक धर्म जैसे विषयों पर दबे...

सिर्फ स्ट्रेस ही नहीं बल्कि ये कारण भी है नींद डिस्टर्ब होने का!
सिर्फ स्ट्रेस ही नहीं बल्कि ये कारण भी है नींद डिस्टर्ब होने का!

नई दिल्लीः क्या आपकी रात को नींद डिस्टर्ब होती है? क्या आप रात को सो नहीं पाते? अगर हां, तो इसके...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017