ये आयुर्वेदिक औषधियां डेंगू में है बेहद कारगर

By: | Last Updated: Monday, 21 September 2015 8:23 AM

नई दिल्ली : डेंगू का कहर हर और बरपाया हुआ है ऐसे में हर कोई डेंगू से बचने के नए-नए फंडे खोज रहा है लेकिन क्या आपने डेंगू से बचने के लिए आयुर्वेदिक फंडे अपनाए.

 

 

जानिए, कौन-कौन सी आयुर्वेदिक औषधियां डेंगू बुखार से ना सिर्फ बचा सकती हैं बल्कि डेंगू होने पर इसका इलाज भी कर सकती हैं.

 

डेंगू के दौरान प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए एलोवीरा का जूस पीना चाहिए इससे शरीर में एमीनो एसिड की कमी दूर होगी.

 

डॉक्टरों के मुताबिक, डेंगू से पीड़ित मरीजों को बकरी का दूध बहुत फायदा करता है. इसके सेवन से बल्ड प्लेटलेट्स तेजी से बढ़ते है. बकरी का कच्चा दूध मरीज को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पिलाना चाहिए.

 

गिलोय बेल की डंडी को दो गिलास में उबालकर काढ़ा बनाकर पीने से बल्ड प्लेटलेट्स जल्दी बढ़ने शुरू हो जाते हैं. यदि गिलोय के पत्‍ते या डंडी ना मिले तो गिलोय घनवटी की गोली दिन में दो-तीन बार लेनी चाहिए.

 

डेंगू से जल्दी उबरने के लिए पपीते के पत्तों का रस निकालें और दिन में एक चम्मच पीएं. इससे भी प्लेटलेट्स काउंट बढ़ते हैं.

 

खून की कमी की पूर्ति करने और प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए अनार का जूस बेहद फायदेमंद है. डेंगू पीड़ित व्यक्ति को रोजाना अनार का जूस देने से डेंगू से लड़ने में मदद मिलती है. 

 

ज्वारे या गेहूं की घास का रस- गेहूं घास रस नया खून बनाने और मरीज को डेंगू से लड़ने की ताकत देता है. यदि गेहूं घास रस या गेहूं के ज्वारे का रस ना मिले तो सेब का रस भी दे सकते हैं.

 

शरीर में जरूरी पोषक तत्वों और खनिज की पूर्ति के साथ ही प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए नारियल पानी पीना चाहिए. हाइड्रेशन के लिए डाब यानी नारियल पानी बेहद फायदेमंद हैं क्योंकि इसमें इलेक्ट्रॉलाइट्स भी होते हैं. शुगर भी होती है और पानी भी होता है. नारियल पानी दिन में तीन या चार बार पी सकते हैं.

 

एक्नीसिया ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिससे इम्युनिटी इतनी बढ़ती है कि शरीर को डेंगू का बुखार लगता नहीं है.

 

डेंगू के मरीज को तुलसी की चाय देनी चाहिए. इससे इम्यून सिस्टम मजबूत होगा. 10-12 तुलसी के पत्तें के साथ 4-5 काली मिर्च को पानी में उबालकर भी डेंगू के रोगी को दे सकते हैं. तुलसी को पानी में उबालकर उसी पानी में शहद मिलाकर पीने फायदेमंद होता है.

 

मेथी के पत्ते डेंगू वायरस खत्म करने में बेहद मददगार होते हैं. इससे शरीर में मौजूद सभी विषैले पदार्थ भी बाहर निकल जाते हैं. मेथी के पत्तों को उबालकर हबर्ल चाय की तरह इसका सेवन करें. आप चाहे तो मेथी के पाउडर को पानी के साथ ले सकते हैं.

 

डेंगू वायरल से बचने के लिए पहले तो हमें नीम के तेल का प्रयोग करना चाहिए. यदि नीम का तेल त्वचा पर लगाएं तो डेंगू का मच्छर हमें काटेगा ही नहीं.

 

एंटीबायोटिक हल्दी का सेवन आप किसी भी रूप में कर सकते हैं. चाहे तो इसको गर्म दूध में भी मिलाकर पी सकते हैं. इससे प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है.

 

इसके अलावा डेंगू का इलाज करने के लिए धनिया पत्ती, आंवला, चिरायता, धतूरा का भी इस्तेलमाल किया जाता है.

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Ayurvedic Treatment for Dengue
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017