बच्चों को सेहतमंद रखने के लिए दें प्रोटीन की संतुलित मात्रा

By: | Last Updated: Wednesday, 27 January 2016 10:22 PM
Balanced protein Diet good for Childrens

हर माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा स्वस्थ एवं मजबूत हो. वे अच्छे पोषण की जरूरत को समझते हैं और जानते हैं कि उनके बच्चे के शरीर के विकास में प्रोटीन का क्या महत्व है. हालांकि, कई लोगों को यह नहीं पता कि उनके बच्चे को कितनी मात्रा में प्रोटीन की जरूरत होती है. अभिभावक यह नहीं समझ पाते हैं कि प्रोटीन जैसे पोषक तत्व के मामले में भी ‘बहुत ज्यादा अच्छी चीज भी बुरी साबित होती है.’ नई दिल्ली के श्रीगंगा राम हॉस्पिटल में न्यूरोलॉजी के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. सतीश सलूजा ने कहा, “शिशुओं में प्रोटीन की अत्यधिक मात्रा बच्चे के बड़े होने के साथ मोटापे की कोशिकाओं (फैट सेल्स) की संख्या बढ़ाती है एवं उनमें इन्सुलिन और आईजीएफ-1 (लीवर द्वारा बनाया जाने वाला हॉर्मोन, जो इंसुलिन की तरह काम करता है) का उत्सर्जन बढ़ जाता है. इसके कारण वजन एवं मोटापा तेजी से बढ़ता है, जिससे मधुमेह और हृदय रोग जैसी कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है.”

प्रोटीन की जरूरत से ज्यादा मात्रा लेने से शिुश की अपरिपक्व गुर्दो पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है. मनुष्य के शरीर में अतिरिक्त प्रोटीन जमा नहीं होता है, बल्कि शरीर इसे तोड़कर बाई-प्रोडक्ट बनाता है, जिसका मूत्र के साथ शरीर से बाहर निकलना जरूरी होता है.

किडनी तेजी से काम करना शुरू करता है और सिस्टम में जमा होने वाले कीटोन्स को बाहर निकालने की कोशिश करता है, जिससे बच्चे की किडनी पर काफी दबाव पड़ता है.

अत्यधिक प्रोटीन खून में यूरिया, हाइड्रोजन आयन एवं अमीनो एसिड (फिनाईलेलेनाइन, ट्रायोसाइन) की मात्रा बढ़ाता है, जिससे मेटाबॉलिक एसिडोसिस होती है. मेटाबॉलिक अनियमितताओं का यह संयोग विकसित होते दिमाग पर बुरा प्रभाव डालता है.

अत्यधिक प्रोटीन से बुखार या डायरिया के समय कैल्शियम की हानि होती है, रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है और डिहाइड्रेशन के साथ-साथ कमजोरी भी आती है.

डॉ. सलूजा ने कहा, “मां का दूध पोषण का एक बेहतरीन स्रोत है, जिसकी नकल नहीं की जा सकती. इसमें प्रोटीन की मात्रा डायनैमिक होती है. यह शिशु के शरीर की जरूरतों के अनुसार बदलती रहती है और उसे सही मात्रा में प्रोटीन उपलब्ध कराती है. शिशु के विकास के साथ-साथ मां के दूध में भी प्रोटीन की मात्रा उसकी जरूरत के अनुसार कम होती जाती है.”

भारत में स्तनपान एवं पोषण के प्रयास हमेशा अपेक्षित स्तर से कम होते हैं. नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे रिपोर्ट्स के मुताबिक, पहले छह महीनों में केवल 46 प्रतिशत बच्चों को ही स्तनपान कराया जाता है.

इसी रिपोर्ट के अनुसार, 6 से 23 महीने के बच्चों में से केवल 44 प्रतिशत बच्चों को ही प्रतिदिन न्यनूतम सुझाई गई संख्या में स्तनपान कराया जाता है (यानी 6 से 8 महीने के बच्चों को दिन में दो बार एवं 9 से 23 माह के बच्चों को दिन में तीन बार स्तनपान).

डॉ. सलूजा ने कहा, “हम अपने बच्चों के लिए जो विकल्प चुनते हैं, उससे उनके विकास का निर्धारण होता है. शिशु के जीवन के पहले 1,000 दिन सबसे महत्वपूर्ण होते हैं. शिशु के लिए सर्वश्रेष्ठ पोषण एवं सही मात्रा में प्रोटीन प्रदान करना सबसे अधिक महत्वपूर्ण है. जब भी संदेह हो तो यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने शिशु की वृद्धि एवं विकास के लिए अपने शिशुरोग चिकित्सक से संपर्क करें.”

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Balanced protein Diet good for Childrens
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Childrens health protein diet
First Published:

Related Stories

गुजरात में स्वाइन फ्लू का कहर, रविवार को 11 तो इस साल अब तक 208 की मौत
गुजरात में स्वाइन फ्लू का कहर, रविवार को 11 तो इस साल अब तक 208 की मौत

अहमदाबाद शहर स्वाइन फ्लू से सबसे ज्यादा प्रभावित है. प्रशासन भरपूर कोशिश कर रहा है लेकिन...

गोरखपुरः मासूमों की मौत का जिम्मेदार कौन? ऑक्सीजन की कमी या एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिन्ड्रोम
गोरखपुरः मासूमों की मौत का जिम्मेदार कौन? ऑक्सीजन की कमी या एक्यूट...

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश में गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लाई रुकने से...

भोपाल में स्वाइन फ्लू से एक महिला की मौत
भोपाल में स्वाइन फ्लू से एक महिला की मौत

भोपालः भोपाल के एक निजी अस्पताल में भर्ती 25 वर्षीय महिला की स्वाइन फ्लू से मौत हो गई. इसी के साथ,...

OMG! पुणे के हॉस्पिटल्स में ही मिले डेंगू मच्छर, नोटिस हुआ जारी
OMG! पुणे के हॉस्पिटल्स में ही मिले डेंगू मच्छर, नोटिस हुआ जारी

नई दिल्लीः मच्छरों के पैदा होने वाली जगहों पर साफ-सफाई अभियान देशभर में जोर-शोर से चल रहा है....

सावधान! पंजाब है स्वाइन फ्लू की चपेट में, 1 महीने में 9 की मौत
सावधान! पंजाब है स्वाइन फ्लू की चपेट में, 1 महीने में 9 की मौत

नई दिल्लीः पंजाब में स्वाइन फ्लू बहुत ही तेज़ी से फैल रहा है. पिछले एक महीने में 58 लोग इस बीमारी...

अंडा खाने वाले सावधान, अंडों में पाए गए हैं कीटनाशक!
अंडा खाने वाले सावधान, अंडों में पाए गए हैं कीटनाशक!

नई दिल्लीः हाल ही में अंडों में बेहद विषैला कीटनाशक मिला है. जो कि इंसानों की सेहत के लिए बहुत...

विटामिन थेरेपी से बच सकते हैं स्किन कैंसर से!
विटामिन थेरेपी से बच सकते हैं स्किन कैंसर से!

न्यूयॉर्कः वैज्ञानिकों के अनुसार, विटामिन बी3 के रूप में इस्तेमाल की जाने वाली थेरेपी...

मिसकैरेज रोकने के लिए विटामिन बी3 हो सकता है फायदेमंद!
मिसकैरेज रोकने के लिए विटामिन बी3 हो सकता है फायदेमंद!

नई दिल्लीः  यूं तो विटामिन और मिनरल्स बॉडी को न्यूट्रशिंस देते हैं लेकिन इसके अलावा भी कई...

मॉनसून में डायट का रखें खास ध्‍यान, लें ऐसी डायट!
मॉनसून में डायट का रखें खास ध्‍यान, लें ऐसी डायट!

नई दिल्लीः मॉनसून में में सही से डायट न लेने से पेट संबंधी बीमारी होने की आशंका ज्यादा होती है....

ब्रेस्टफीडिंग से हार्ट अटैक का रिस्क हो सकता है कम!
ब्रेस्टफीडिंग से हार्ट अटैक का रिस्क हो सकता है कम!

नई दिल्लीः ये तो आप जानते ही हैं कि शुरूआत में बच्चे के लिए मां का दूध ही सबकुछ होता है. बच्चे को...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017