बार-बार खाना, कहीं मजबूरी ना बन जाए

By: | Last Updated: Wednesday, 19 August 2015 4:33 PM
Dangers of Frequent Eating

नई दिल्ली:कुछ लोगों को बार-बार खाने की आदत होती है. हर समय उन्हें लगता है कि कुछ खाना चाहिए. जबकि कुछ लोग तो खाने के बहाने तक ढूंढने लगते हैं. मैच या टीवी देखते समय खाना, बोरियत दूर करने के लिए खाना, टेंशन दूर करने के लिए खाना, ये सब ऐसे बहाने हैं जिससे आप आसानी से कंपल्सिव ओवरईटिंग डिस्ऑडर का शिकार बन सकते हैं.

दरअसल, कंपल्सिव ओवरईटिंग डिस्ऑडर में व्यक्ति का हर समय कुछ न कुछ खाने का मन करता रहता है. ओवरईटिंग डिस्ऑडर से ना सिर्फ मोटापा बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है बल्कि बार-बार खाने की आदत से व्यक्ति तनाव में रहने लगता है.

 

 

ओवरईटिंग डिस्ऑडर के लक्षणों को आसानी से पहचाना जा सकता है. इस बीमारी में ना सिर्फ बार-बार खाने का मन करता है बल्कि डायट जरूरत से ज्यादा बढ़ जाती है. इस स्थित में मूड में उतार-चढ़ाव आम बात है. साथ ही हर समय तनावग्रस्त रहेंगे. खाने की चीजों से खुद को ज्यादा देर दूर नहीं रख पाएंगे. इस बीमारी की वजह से आत्मविश्वास भी कम होने लगता है.

 

 

यदि आप कंपल्सिव ओवरईटिंग डिस्ऑडर से ग्रसित हैं तो आपको सबसे पहले खुद पर नियंत्रण करना होगा. सेल्फ कंट्रोल करते हुए अपना पूरे दिन का एक शेड्यूल बनाएं. खाने के वक्त ऐसी चीजों का चयन करें जिसको खाने के बाद देर तक भूख ना लगे. कोशिश करें हमेशा हेल्दी खाना खाएं और टीवी देखते या कुछ काम करते वक्त खाना ना खाएं. समस्या बहुत ज्यादा बढ़ जाएं तो डॉक्टर से संपर्क करें.

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Dangers of Frequent Eating
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017