Doctors Find 263 Coins, Nails and blaid In a Man’s Stomach|डॉक्टरों ने युवक के पेट से निकाले सिक्के, कील और ब्लेड

डॉक्टरों ने युवक के पेट से निकाले सिक्के, कील और ब्लेड

रीवा के संजय गांधी मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों ने 32 वर्षीय एक युवक के पेट का ऑपरेशन कर उसमें से सिक्के, कील और चेन सहित लोहे की लगभग पांच किलोग्राम सामग्री निकाली है.

By: | Updated: 27 Nov 2017 09:57 AM
Doctors Find 263 Coins, Nails and blaid In a Man’s Stomach, health news in hindi

DEMO PIC

सतना: रीवा के संजय गांधी मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों ने 32 वर्षीय एक युवक के पेट का ऑपरेशन कर उसमें से सिक्के, कील और चेन सहित लोहे की लगभग पांच किलोग्राम सामग्री निकाली है.


अस्पताल के डॉक्टर प्रियंक शर्मा ने बताया कि पिछले शुक्रवार को सात डॉक्टरों की टीम ने 32 वर्षीय मोहम्मद मकसूद का ऑपरेशन कर उसके पेट से 263 सिक्के, 10 से 12 शेविंग ब्लेड, कांच के टुकड़े, कुत्ते को बांधने वाली छह इंच लम्बी लोहे की जंजीर, बोरा सिलने वाले 4 सूओं सहित लोहे की लगभग पांच किलोग्राम सामग्री निकाली है.


उन्होंने बताया कि सतना जिले के सोहावल का रहने वाला मकसूद शनिवार 18 नवंबर को अस्पताल की ओपीडी में आया था. तीन माह से मरीज के पेट में दर्द होने की शिकायत पर 20 नवंबर को उसकी जांच की गई और शुक्रवार को उसकी सर्जरी की गई.


डॉक्टर्स ने परिजनों के हवाले से बताया कि छह माह पहले मकसूद का इलाज सतना में चल रहा था जहां सर्जरी विभाग के कुछ डॉक्टरों ने टीबी का रोग बताकर उसका उपचार किया लेकिन जब उसकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ तो मरीज को रीवा के मेडिकल कॉलेज लाया गया. इसके बाद जांच में मरीज के पेट में लोहे की चीजें होने का पता चला.


उन्होंने बताया कि मानसिक रूप से विक्षिप्त इस युवक को लोहा निगलने की लत लग गयी थी और वह बचपन से चोरी छिपे लोहे की चीजें खा रहा था. इसकी भनक परिजनों को भी नहीं थी. हालांकि पीड़ित अब ठीक है और विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम लगातार उसके स्वास्थ्य पर नजर रखे हुए है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Doctors Find 263 Coins, Nails and blaid In a Man’s Stomach, health news in hindi
Read all latest Health News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story भ्रूण की वायबिलिटी पर आईएमए ने दिशानिर्देश जारी किये