एचआईवी पॉजिटिव महिलाएं भी दे सकती हैं हेल्दी बच्चे को जन्म!

By: | Last Updated: Friday, 19 May 2017 9:58 AM
एचआईवी पॉजिटिव महिलाएं भी दे सकती हैं हेल्दी बच्चे को जन्म!

नई दिल्ली: एचआईवी अब मातृत्व के लिए श्राप नहीं रह गया है. बशर्ते महिलाओं को यह पता हो कि वे इससे संक्रमित हैं. आधुनिक चिकित्सा पद्धतियों ने मां के एचआईवी संक्रमण से उसके गर्भ में पल रहे बच्चे का बचाव करना मुमकिन कर दिया है. इसलिए एक गर्भवती महिला को मातृत्व का आनंद लेने के लिए एचआईवी की जांच भी जरूर करवा लेनी चाहिए.

स्त्री रोग विशेषज्ञ यह सुझाव देते हैं कि प्रत्येक गर्भवती महिला को एचआईवी की जांच करानी चाहिए, ताकि खुशियों भरे इन पलों में इंफेक्शन फैलने से रोका जा सके. गर्भावस्था हर महिला के लिए एक सुंदर समय है. हर गर्भवती महिला चाहती है कि उसका बच्चा पूर्णत: स्वस्थ रूप और रोगमुक्त जन्म ले. इसके लिए हमेशा यह सुझाव दिया जाता है कि सभी महिलाएं, जो गर्भवती हैं या गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं, उन्हें अपने साथियों को भी एचआईवी का परीक्षण कराने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए.

एचआईवी से संक्रमित मां से उसके बच्चे में एचआईवी तीन प्रकार से स्थानांतरित हो सकता है – गर्भावस्था के दौरान, योनि से बच्चे के जन्म के दौरान, स्तनपान के माध्यम से.

प्रसव के पहले और उसके बाद की दवाएं और निदान को केवल स्त्री रोग विशेषज्ञ की निगरानी में किया जाना चाहिए.

ज्यादा या अज्ञात एचआईवी वाइरस वाली महिलाओं के लिए मां से बच्चे में इसके प्रसारित होने के जोखिम को कम करने के लिए सीजेरियन (सी-सेक्शन) डिलिवरी का सुझाव दिया जाता है.

एचआईवी स्तनपान से भी फैल सकता है, इसलिए एचआईवी से संक्रमित महिलाओं को सुझाव दिया जाता है कि वे अपने बच्चों को स्तनपान न कराएं. स्तन के दूध की जगह उन्हें नवजातों का फार्मूला दूध देने का सुझाव दिया जाता है जिसमें पाउडर व दूध होता है. बच्चे को स्तन का दूध दिया जाए या फार्मूला दूध, इसका निर्णय आपके स्वास्थ्य विशेषज्ञ ही कर सकते हैं.

एचआईवी से संक्रमित महिलाओं से पैदा होने वाले बच्चों को जन्म के बाद 6 से 12 घंटे के अंदर जिडोवुडिन (ब्रांड का नाम र्रिटोवीर) नामक एचआईवी दवा दी जाती है. बच्चे के जन्म के समय मां से उसमें एचआईवी वायरस प्रसारित होने की स्थिति में यह दवा फिर से बच्चे की सुरक्षा करती है.

नर्चर आईवीएफ सेंटर की गायनोक्लॉजिस्ट डॉ. अर्चना धवन बजाज बताती हैं, “एचआईवी से पीड़ित महिलाओं की सफलतापूर्वक डिलिवरी बहुत चुनौतीपूर्ण नहीं है, बल्कि मां के एचआईवी से पीड़ित होने पर भी एक सेहतमंद बच्चे का जन्म कराना काफी हद तक संभव है. इसके लिए आजकल कई सुरक्षित तरीके हैं, जैसे सी-सेक्शन प्रसव, बच्चे में एचआईवी वायरस जाने से रोकने के लिए दी जाने वाली दवाएं. समय की मांग केवल यह समझना है कि एक गर्भवती महिला के लिए यह जानना कितना महत्वपूर्ण है कि वह इससे संक्रमित है या नहीं और वह एचआईवी की जांच करवाएं. समय-समय पर विशेषज्ञ से परामर्श लेना और उचित देखभाल डिलिवरी के बाद किसी अन्य जटिलता से सुरक्षा करने में मदद कर सकती है.”

नोट: ये रिसर्च के दावे पर हैं. ABP न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता. आप किसी भी सुझाव पर अमल या इलाज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें.

First Published:

Related Stories

डिप्रेशन को कम करने में मददगार होता है बाउलडरिंग
डिप्रेशन को कम करने में मददगार होता है बाउलडरिंग

न्यूयॉर्क: मसल्स बनाने और करतब करने के अलावा बगैर रस्सी के सहारे पहाड़ों पर या दीवारों पर चढ़ने...

गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए बेहद खतरनाक है जीका वायरस
गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए बेहद खतरनाक है जीका वायरस

वाशिंगटन: एक नए स्टडी के अनुसार जीका वायरस गर्भ में पल रहे बच्चों के लिए हमारी सोच से ज्यादा...

रमजान के महीने में खुद को स्वस्थ रखने के लिए इन बातों का ख़याल रखें
रमजान के महीने में खुद को स्वस्थ रखने के लिए इन बातों का ख़याल रखें

नई दिल्ली: मुसलमानों के लिए रमजान का पवित्र महीना खास अहमियत रखता है. मुस्लिम धर्म में आस्था...

क्‍या ऑफिस आने-जाने में आप भी घंटों ट्रैवल करते हैं? तो ये खबर जरूर पढ़ें
क्‍या ऑफिस आने-जाने में आप भी घंटों ट्रैवल करते हैं? तो ये खबर जरूर पढ़ें

नई दिल्लीः अगर कोई आपको कहता है कि ऑफिस पहुंचने में रोजाना एक घंटे का ट्रैवल करना पड़ता है तो...

सावधान! बच्चों और टीनेजर्स का DNA डैमेज कर सकता है पॉल्‍यूशन
सावधान! बच्चों और टीनेजर्स का DNA डैमेज कर सकता है पॉल्‍यूशन

नई दिल्लीः हाल ही में आई रिसर्च में वैज्ञानिकों ने चेताया है कि ट्रैफिक रिलेटिड हाई लेवल एयर...

आर्टरी डिजीज़ के लिए फल और सब्जियां हैं फायदेमंद!
आर्टरी डिजीज़ के लिए फल और सब्जियां हैं फायदेमंद!

न्यूयॉर्क: रोजाना अपने आहार में फलों और सब्जियों की मात्रा बढ़ाने से पैरों में रक्त प्रवाह को...

अस्थमा को काबू में रखेगा ये पहनने वाला यंत्र
अस्थमा को काबू में रखेगा ये पहनने वाला यंत्र

न्यूयार्क: शोधकर्ताओं ने ग्रैफीन-आधारित सेंसर का निर्माण किया है, जो फेफड़ों में सूजन का पता...

टीबी की टैबलेट्स अब आएंगी ऑरेंज और स्ट्राबेरी फ्लेवर में
टीबी की टैबलेट्स अब आएंगी ऑरेंज और स्ट्राबेरी फ्लेवर में

नयी दिल्ली: आखिरकार टीबी से पीड़ित बच्चों को अब और कड़वी गोली नहीं खानी होगी. सरकार उसे...

मासिक धर्म के बारे में लड़कों को जागरूक करना जरूरी :सिसोदिया
मासिक धर्म के बारे में लड़कों को जागरूक करना जरूरी :सिसोदिया

नई दिल्ली: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि जहां मासिक धर्म जैसे विषयों पर दबे...

सिर्फ स्ट्रेस ही नहीं बल्कि ये कारण भी है नींद डिस्टर्ब होने का!
सिर्फ स्ट्रेस ही नहीं बल्कि ये कारण भी है नींद डिस्टर्ब होने का!

नई दिल्लीः क्या आपकी रात को नींद डिस्टर्ब होती है? क्या आप रात को सो नहीं पाते? अगर हां, तो इसके...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017